आज है विक्रम संवत् 2080 के माघ मास (माह) की पूर्णिमा सायं 05:59 बजे तक यानी शनिवार 24 फरवरी 2024
‘उसने किया प्रपोज और पासवर्ड-ओटीपी ले लिया...’ राजस्थान पुलिस मना रही अतरंगी वैलेंटाइन वीक

पुलिस प्रशासन

‘उसने किया प्रपोज और पासवर्ड-ओटीपी ले लिया...’ राजस्थान पुलिस मना रही अतरंगी वैलेंटाइन वीक

पुलिस प्रशासन//Rajasthan/Jaipur :

राजस्थान पुलिस की ओर से सोशल मीडिया हैंडल एक्स पर ‘रोज डे’ के मौके पर शुरू किए गए इस अभियान के पहले दिन शायराना अंदाज में उपद्रवियों को चेतावनी दी गई।

राजस्थान पुलिस ने वैलेंटाइन डे पर मनचलों को चेताते हुए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एक अनोखी मुहिम चलाई है। पुलिस ने इसके लिए मनचलों को शायराना अंदाज में चेताया है। वहीं, पुलिस ने महिलाओं, बच्चों, बुजुर्गों और सायबर फ्रॉड के शिकार लोगों को समस्या आने पर पुलिस की हेल्पलाइन का उपयोग करने की सलाह दी है।
राजस्थान पुलिस ने महिलाओं और बच्चों समेत सभी लोगों को अपराधों के प्रति जागरूक करने के लिए सोशल मीडिया पर ‘वैलेंटाइन वीक’ नाम से एक अनूठी श्रृंखला चलाई है। वैलेंटाइन वीक को प्यार से जोड़ने के बजाय पुलिस ने लोगों को हेल्पलाइन नंबर के बारे में जागरूक किया है। सोशल मीडिया मंच पर संदेशों की एक श्रृंखला में बताया गया है कि चाहे महिलाएं हों या बच्चे, साइबर अपराध के पीड़ित हों या भ्रष्टाचार के शिकार वे हेल्पलाइन नंबर से तत्काल मदद प्राप्त कर सकते हैं।
आठ पोस्ट की इस श्रृंखला को ‘वैलेंटाइन विद हेल्पलाइन’ नाम दिया गया है। सात फरवरी को ‘रोज डे’ के मौके पर शुरू किए गए इस अभियान के पहले दिन शायराना अंदाज में उपद्रवियों को चेतावनी दी गई है। इसमें कहा गया है कि अगर ‘रोज डे’ पर लड़कियों को कोई जबरन गुलाब देता है तो पुलिस उसे सबक सिखाने के लिए तैयार है। अगर कोई ऐसा करता है तो हेल्पलाइन नंबर 1090 पर शिकायत की जा सकती है। इसे दिलचस्प तरीके से समझाते हुए पुलिस ने हिंदी में लिखा है कि ”हमसे गलती हुई जो उसे जबरन गुलाब-ए-गुल दे दिया, उसने हेल्पलाइन 1090 पर फोन किया और हमें सबक सिखा दिया”।
इसी तरह दूसरी पोस्ट में साइबर हेल्पलाइन के बारे में जानकारी देते हुए सावधानी बरतने को कहा गया है। इसमें साइबर हेल्पलाइन नंबर 1930 का जिक्र करते हुए एक कविता लिखी गई है कि ”उसने किया प्रपोज और पासवर्ड-ओटीपी ले लिया, पल भर में वफा के नाम पर बैंक का खाता खाली कर दिया”। जागरूकता हेल्पलाइन नंबर में 1090 (महिला हेल्पलाइन), 1064 (भ्रष्टाचार के लिए हेल्पलाइन), 1098 (बाल सहायता), 1930 (साइबर अपराध हेल्पलाइन), 18001801253 (वरिष्ठ नागरिक हेल्पलाइन) शामिल हैं।
राजस्थान पुलिस ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘एक्स’ पर लिखा कि ”आमजन के लिए सेवाओं को और विकसित करते हुए डिजिटल माध्यमों से नागरिकों और पुलिस के बीच एक मजबूत सेतु बनाने का विनम्र प्रयास। इस डिजिटल माध्यम से कानून व्यवस्था से संबंधित आमजन की समस्याओं का त्वरित समाधान”। पुलिस विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि यह लोगों को जोड़ने का एक रचनात्मक तरीका है। इस तरह की पहल से जागरूकता बढ़ी है। इन पोस्ट को एक्स, फेसबुक और इंस्टाग्राम सहित विभिन्न सोशल मीडिया मंच पर साझा किया गया है।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments