UP: लखनऊ मे एंटी भू माफिया सेल का गठन, अवैध तरीके से जमीन कब्जाने वालों पर होगा एक्शन VHP ने UP पुलिस से की देवबंद के खिलाफ एक्शन की मांग, गजवा-ए-हिंद के समर्थन का आरोप जमीन हड़पने के मामले में ED ने TMC नेता शाहजहां शेख के खिलाफ दर्ज किया एक और मामला महाराष्ट्र के पूर्व सीएम मनोहर जोशी का हार्ट अटैक से निधन किसानों को करनी होगी सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान की भरपाई: हरियाणा पुलिस MP: अनूपपुर में जंगली हाथी के हमले में एक शख्स की मौत, 2 लोग घायल
 Bageshwar Dham News : ‘ना मैं संत हूं, ना कोई समस्या दूर करने का दावा करता हूं’...बागेश्वर धाम के धीरेंद्र शास्त्री ने दी आरोपों पर सफाई 

Bageshwar Dham News

धर्म

Bageshwar Dham News : ‘ना मैं संत हूं, ना कोई समस्या दूर करने का दावा करता हूं’...बागेश्वर धाम के धीरेंद्र शास्त्री ने दी आरोपों पर सफाई 

धर्म//Madhya Pradesh/Indore :

Bageshwar Dham News : बागेश्वर धाम के युवा महंत और कथावाचक धीरेंद्र शास्त्री ने उनके खिलाफ लगाए जा रहे आरोपों पर कहा कि वह नागपुर से नहीं भागे। उन्होंने सवाल किया कि जब मैंने दरबार लगाया था तब कोई शिकायत लेकर क्यों नहीं आया। वह अंधविश्वास नहीं फैला रहे हैं।

Bageshwar Dham News : बागेश्वर धाम सरकार के नाम से मशहूर कथावाचक आचार्य धीरेंद्र शास्त्री ने अपने ऊपर लग रहे आरोपों पर सफाई दी है। उन्होंने कहा कि हम अंधविश्वास नहीं फैला रहे। हम इस बात का दावा नहीं करते कि हम कोई समस्या दूर कर रहे हैं। मैंने कभी नहीं कहा कि मैं भगवान हूं। धीरेंद्र शास्त्री ने कहा कि अनुच्छेद-25 के तहत धार्मिक स्वतंत्रता के अधिकार है और उसी के तहत वह धर्म का प्रचार करते हैं. इसके बाद कथावाचक ने गुस्साते हुए कहा- मैं संविधान को मानने वाला व्यक्ति हूं। अगर हनुमान भक्ति करना गुनाह है तो सभी हनुमान भक्तों पर एफआईआर होनी चाहिए, फिर सोच लो ये लोग तुम्हारा चेहरा कैसे लाल करते हैं।
गौरतलब है कि dheerendra shastri पर आरोप लगते रहते हैं कि वे संत होकर अभद्र भाषा बोलते हैं। इस पर बाबा ने कहा कि वे संत ही नहीं हैं तो फिर अभद्रता कैसी? उन्होंने कहा कि हमारा डिस्क्लेमर है कि हम कोई संत नहीं हैं। धीरेंद्र शास्त्री मध्यप्रदेश के छतरपुर में बागेश्वर धाम में कथा वाचन करते हैं। मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में उनका प्रभाव है। 
यह है मामला
dheerendra shastri की महाराष्ट्र के नागपुर में ‘श्रीराम चरित्र-चर्चा’ का आयोजन हुआ था। अंधश्रद्धा उन्मूलन समिति ने धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री पर जादू-टोने और अंधश्रद्धा फैलाने का आरोप लगाया था। समिति के अध्यक्ष श्याम मानव ने कहा था कि ‘दिव्य दरबार’ और ‘प्रेत दरबार’ की आड़ में जादू-टोना को बढ़ावा दिया जा रहा है।

 

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments