जी-20 से जला पाक: घाटी को दहलाने की फिराक में जैश के 26 आतंकी, शिकार करने को तैयार मारकोस कमांडो

सेना

जी-20 से जला पाक: घाटी को दहलाने की फिराक में जैश के 26 आतंकी, शिकार करने को तैयार मारकोस कमांडो

सेना/नौसेना/Jammu and Kashmir/Srinagar :

श्रीनगर में जी-20 पर्यटन सम्मेलन 22 से 24 मई तक हो रहा है, जिसमें पाकिस्तान आतंकी हमला करने की फिराक में है। इन आतंकियों का नेतृत्व आईएसआई का एक कर्नल शायान कर रहा है। इधर, इनका शिकार करने के लिए श्रीनगर में नौसेना के मार्कोस और एनएसजी कमांडों के साथ अन्य सुरक्षाबलों ने मोर्चा संभाल लिया है।

कश्मीर में जी-20 पर्यटन कार्यसमूह के सम्मेलन के दौरान किसी बड़े आतंकी हमले के लिए पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई ने 26 आतंकियों का एक दस्ता तैयार किया है। इसमें पाकिस्तानी सेना के स्पेशल स्ट्राइक ग्रुप (एसएसजी) के चार कमांडो भी शामिल हैं। इन आतंकियों का नेतृत्व आईएसआई का एक कर्नल शायान कर रहा है। इधर, केंद्र व प्रदेश सरकार के साथ सुरक्षाबलों ने किसी भी नापाक षड्यंत्र को नाकाम बनाने की पक्की तैयारी कर रखी है। श्रीनगर में नौसेना के मार्कोस और एनएसजी कामांडों के साथ अन्य सुरक्षाबलों ने मोर्चा संभाल लिया है।
श्रीनगर में जी-20 पर्यटन कार्य समूह सम्मेलन 22 से 24 मई तक हो रहा है। पाकिस्तान के विरोध और दुष्प्रचार के बावजूद जी-20 सदस्य राष्ट्रों के प्रतिनिधि इस सम्मेलन में भाग लेने कश्मीर पहुंच रहे हैं। इससे पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे पर अंतरराष्ट्रीय जगत में अकेला पड़ गया है। वह किसी भी तरह से इस सम्मेलन को नुकसान पहुंचाना चाहता है। उसके पाले हुए आतंकी सगठनों ने सम्मेलन के दौरान न सिर्फ श्रीनगर में बल्कि जम्मू-कश्मीर के विभिन्न हिस्सों और देश के अन्य राज्यों में भी आतंकी हमलों की धमकी दी है। सम्मेलन को एक सुरक्षित, शांत और विश्वासपूर्ण माहौल में संपन्न कराने के लिए पूरे प्रदेश में सुरक्षा का कड़ा बंदोबस्त किया गया है।
आईएसआई और आतंकी संगठन हताश
सूत्रों ने बताया कि जी-20 सम्मेलन को लेकर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई और आतंकी संगठन पूरी तरह हताश हो चुके हैं। आईएसआई ने एसएसजी के चार कमांडो और 22 आतंकियों का एक विशेष दस्ता तैयार किया है, जिसे गुलाम जम्मू-कश्मीर की राजधानी मुजफ्फराबाद से आगे एलओसी की तरफ एक जगह विशेष पर रखा गया है। यह दस्ता पुंछ, उड़ी और हंदवाड़ा में घुसपैठ कर जम्मू-कश्मीर के भीतरी इलाकों में किसी हमले को अंजाम देने की कोशिश कर सकता है।
अलग-अलग गुटों में बांटकर घुसपैठ 
उन्होंने बताया कि इस दस्ते में शामिल आतंकियों को पांच-सात के अलग-अलग गुटों में बांटकर घुसपैठ कराई जा सकती है। उन्होंने कहा कि इस गुट में एसएसजी कमांडों की मौजदूगी के आधार पर कहा जा सकता है कि ये सम्मेलन के दौरान एलओसी पर अग्रिम भारतीय सैन्य चैकियों या फिर अग्रिम इलाकों में गश्त कर रहे जवानों पर हमला कर सकते हैं। अत्याधुनिक हथियारों से लैस इन 26 आतंकियों के साथ आईएसआई के एक कर्नल शायान को देखा गया है। उन्होंने बताया कि जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों का एक दल जो पहले ही जम्मू-कश्मीर में सक्रिय है, उसे भी पाकिस्तान में बैठे उसके आकाओं ने एक बड़े हमले का फरमान सुनाया है।

पीओके में 70 जिहादियों की भर्ती
सूत्रों ने बताया कि कुछ दिन पहले आईएसआई के सहयोग से अस्तित्व में आए नए जिहादी संगठन जांबाज फोर्स ने गुलाम जम्मू-कश्मीर में स्थित मुहाजिर कैंपों में भर्ती अभियान चलाकर 70 जिहादियों को भर्ती किया है। इनकी ट्रेनिंग के लिए एक कैंप पुंछ के सामने गुलाम जम्मू-कश्मीर के खेईगाला में शुरू किया गया है। उन्होंने बताया कि गुलाम जम्मू-कश्मीर में मुहाजिर कैंप उन बस्तियों को कहा जाता है, जहां उत्तरी कश्मीर और राजौरी-पुंछ से अपने परिजनों संग भागे तत्व रहते हैं।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments