फुस्स पटाखा या बड़ा धमाका...! रूसी किंझल मिसाइल के हाइपरसोनिक होने पर सवाल, पश्चिमी मीडिया का प्रॉपगैंडा 

सेना

फुस्स पटाखा या बड़ा धमाका...! रूसी किंझल मिसाइल के हाइपरसोनिक होने पर सवाल, पश्चिमी मीडिया का प्रॉपगैंडा 

सेना/वायुसेना//Moscow :

यूक्रेन ने रूस की छह किंझल हाइपरसोनिक मिसाइलों को मार गिराने का दावा किया है। इसके बाद से सवाल उठ रहे हैं कि क्या रूस की हाइपरसोनिक मिसाइल फेल हो चुकी है। हालांकि, अमेरिका ने खुद स्वीकार किया है कि यूक्रेन में तैनात उसके एक पैट्रियट एयर डिफेंस सिस्टम को नुकसान पहुंचा है।

यूक्रेन ने रूस के शक्तिशाली हाइपरसोनिक मिसाइल किंझल को मार गिराने का दावा किया है। यूक्रेनी सेना ने कहा कि उसने कीव में लॉन्च की गई छह किंझल मिसाइलों को मार गिराया है। हालांकि, रूस का दावा है कि उसने किंझल मिसाइल के जरिए यूक्रेन में तैनात अमेरिकी पैट्रियट मिसाइल डिफेंस सिस्टम को नष्ट कर दिया है। 
यूक्रेन के वायु कमान के एक प्रवक्ता यूरी इहनाट ने कहा कि रूस ने नौ कैलिबर मिसाइलों और तीन बैलिस्टिक रॉकेटों के साथ-साथ छह हमलावर ड्रोन और तीन टोही ड्रोन के साथ राजधानी पर बमबारी की थी। उन्होंने बताया कि इन सभी को मार गिराया गया है। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि यूक्रेन ने पैट्रियट सिस्टम की मदद से किंझल को मार गिराया है या नहीं।
किंझल मिसाइल पर पुतिन को है ‘घमंड’
रूस की किंझल मिसाइल के नष्ट होने से राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की छवि को जोरदार धक्का लगा है। पुतिन लगातार अपने भाषणों में किंझल मिसाइल का जिक्र करते हैं। रूस का दावा है कि उनकी किंझल हाइपरसोनिक मिसाइल को किसी भी एयर डिफेंस के जरिए नष्ट नहीं किया जा सकता है। किंझल मिसाइल पारंपरिक या परमाणु वारहेड को 2000 किलोमीटर तक ले जा सकती है। रूस ने पिछले साल यूक्रेन में पहली बार किंझल मिसाइल का इस्तेमाल किया था। 
नई बोतल में पुरानी शराब?
हाइपरसोनिक मिसाइलें लंबी दूरी तक मार करने वाले हथियार हैं, जो कम से कम ध्वनि की गति से पांच गुना यानी 5 मैक की गति तक पहुंचने में सक्षम हैं। हालांकि, कुछ पश्चिमी विश्लेषकों को रूस के हाइपरसोनिक क्षमता के दावों के बारे में संदेह है। उन्होंने किंझल मिसाइल को मौजूदा पारंपरिक हथियारों के अपग्रेडेड वेरिएंट करार दिया है। उनका दावा है कि रूस की किंझल मिसाइल को पुरानी बोतलों में नई शराब कहा जा सकता है। 
पश्चिमी मीडिया का प्रॉपगैंडा!
हालांकि, इसे पश्चिमी मीडिया का प्रॉपगैंडा भी कहा जा सकता है। अभी तक अमेरिका समेत किसी भी नाटो देश के पास हाइपरसोनिक हथियार नहीं है। अमेरिका के तीन हाइपरसोनिक टेस्ट एक के बाद एक फेल हुए हैं। ऐसे में पश्चिमी मीडिया रूसी हथियारों के बाजार को नुकसान पहुंचाने के उद्देश्य से दुष्प्रचार भी कर सकती हैं।
अमेरिकी पैट्रियट सिस्टम को भी पहुंचा नुकसान
सीएनएन ने अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से बताया कि इस हमले में पैट्रियट एयर डिफेंस सिस्टम को भी नुकसान पहुंचा है। अधिकारियों ने चेतावनी दी कि सिस्टम को हुए नुकसान के स्तर के आधार पर सिस्टम को पूरी तरह से वापस लेना पड़ सकता है। मंगलवार को मास्को में रूस रक्षा मंत्रालय ने कहा कि उसने अमेरिका द्वारा आपूर्ति की गई पैट्रियट एयर डिफेंस बैटरी को नष्ट कर दिया है। एक पैट्रियट को गंभीर नुकसान यूक्रेन की हवाई सुरक्षा के लिए एक बड़ा झटका होगा। फिलहाल यूक्रेन के पास दो पैट्रियट मिसाइल डिफेंस सिस्टम हैं। इसमें से एक अमेरिका ने दान किया था तो दूसरा जर्मनी ने। रूस पहले भी इन सिस्टम्स को नष्ट करने के लिए हमला कर चुका है।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments