पंजाब में कांग्रेस को बड़ा झटका, तेजिंदर सिंह बिट्टू कांग्रेस छोड़ थामेंगे BJP का दामन एलन मस्क का भारत दौरा फिलहाल टला, 21-22 अप्रैल को आने वाले थे टेस्ला के सीईओ ओडिशा नाव हादसे में 4 की डूबकर मौत, रेस्क्यू टीमें 7 लापता लोगों की कर रहीं खोज आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह 10 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे बैतूल: ट्रक की टक्कर से पलटी सुरक्षाकर्मियों से भरी बस, चुनाव ड्यूटी करके लौट रहे थे जवान केरल में त्रिशूर पूरम उत्सव का जश्न, लोगों ने की आतिशबाजी पाकिस्तान को बड़ा झटका, अमेरिका ने बैलिस्टिक मिसाइल प्रोग्राम के लिए आपूर्ति करने वाली 4 कंपनियों पर लगाया प्रतिबंध पीएम नरेंद्र मोदी आज कर्नाटक के बेंगलुरु और चिक्काबल्लापुरा में करेंगे जनसभा को संबोधित अमेरिका के ग्रीनबेल्ट स्थित पार्क में गोलीबारी, हाईस्कूल के पांच छात्र घायल आज महाराष्ट्र में नांदेड़ और परभणी में पीएम मोदी की रैली, करेंगे जनसभा को संबोधित कांग्रेस नेता राहुल गांधी आज 20 अप्रैल को भागलपुर में करेंगे रैली प्रियंका गांधी आज 20 अप्रैल को करेंगी केरल का दौरा IPL 2024: लखनऊ ने घरेलू मैदान में चेन्नई को हराया पहले चरण में रात 9 बजे तक 62.37% वोटिंग, 102 सीटों पर हुआ चुनाव ईरान-इजरायल तनाव: ग्लोबल स्तर पर सोने की कीमतों में 1.5 फीसद का उछाल पश्चिम बंगाल: कूच बिहार के चंदामारी में मतदान केंद्र के सामने पथराव आज है विक्रम संवत् 2081 के चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि रात 10:41 बजे तक यानी शनिवार 20 अप्रेल 2024
दुनिया के सबसे ताकतवर देशों में अमेरिका टॉप पर, भारत ने सबको चौंकाया

राजनीति

दुनिया के सबसे ताकतवर देशों में अमेरिका टॉप पर, भारत ने सबको चौंकाया

राजनीति//Delhi/New Delhi :

रिपोर्ट में कहा गया है कि देश का नेतृत्व उसकी शक्ति रैंकिंग को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करता है। प्रभावी नेतृत्व, आर्थिक विकास और मजबूत अंतरराष्ट्रीय संबंधों और सैन्य क्षमताओं को बढ़ा सकता है। वैश्विक मंच पर सम्मान पाने वाले नेता अपने देश की प्रतिष्ठा और शक्ति को बढ़ा सकते हैं।

दुनियाभर के शक्तिशाली और कमजोर देशों की अक्सर बात होती है। अमूमन देशों की ताकत को आर्मी की पावर से देखा जाता है लेकिन वैश्विक क्षेत्र में शक्ति के पैमाने बहुआयामी हैं। इनमें सैन्य शक्ति के साथ-साथ किसी देश का राजनीतिक प्रभाव और आर्थिक संसाधन भी अहम रोल निभाते हैं। साथ ही, अंतरराष्ट्रीय गठबंधनों में उसका प्रभाव भी देखा जाता है। यूएस न्यूज ने 2024 में दुनिया के शीर्ष शक्तिशाली देशों की रैंकिंग जारी की है। इस रैंकिंग को तैयार करने के लिए पांच आधार तय किए गए हैं। ये हैं- लीडर (दुनिया में अगुवाई), आर्थिक प्रभाव, राजनीतिक प्रभाव, मजबूत अंतरराष्ट्रीय गठबंधन और एक मजबूत सेना।
यूएस न्यूज का ये रैंकिंग मॉडल बीएवी ग्रुप ने तैयार किया गया है, जो वैश्विक विपणन संचार कंपनी डब्ल्यूपीपी की एक इकाई है। साथ ही, पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के व्हार्टन स्कूल के प्रोफेसर डेविड रीबस्टीन के नेतृत्व में शोधकर्ताओं ने यूएस न्यूज एंड वर्ल्ड रिपोर्ट के सहयोग से इसे तैयार किया है। रैंकिंग में मार्च महीने की जीडीपी के आधार पर अर्थव्यवस्था और जनसंख्या का खासतौर से जिक्र किया गया है। इस लिस्ट में 27.97 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनमी के साथ अमेरिका टॉप पर है। अमेरिका की आबादी 339.9 मिलियन है। दूसरे नंबर पर 18.56 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था के साथ चीन है। चीन की आबादी 1.42 बिलियन है। रूस 1.90 ट्रिलियन डॉलर इकॉनमी और 144 मिलियन आबादी के साथ तीसरे, जर्मनी 4.70 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था और 83.2 मिलियन जनसंख्या के साथ चैथे और ब्रिटेन 3.59 ट्रिलियन डॉलर इकॉनमी और 67.7 मिलियन आबादी के साथ पांचवें नंबर पर है।
यूएई टॉप-10 में, भारत का नंबर इजरायल के बाद
इस लिस्ट में छठे नंबर पर दक्षिण कोरिया है। दक्षिण कोरिया की अर्थव्यवस्था 1.78 ट्रिलियन डॉलर और आबादी 51.7 मिलियन है। फ्रांस 3.18 ट्रिलियन की इकॉनमी और 64.7 मिलियन आबादी के साथ सातवें, जापान 4.29 ट्रिलियन की इकॉनमी और 123.2 मिलियन आबादी के साथ आठवें, सऊदी अरब 1.11 ट्रिलियन डॉलर इकॉनमी और 36.9 मिलियन आबादी के साथ नौवें और दसवें नंबर पर यूएई है। यूएई की अर्थव्यवस्था 536.83 बिलियन डॉलर की है और देश की आबादी 9.51 मिलियन है।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments