ध्य प्रदेश के चर्चित जस्टिस रोहित आर्य ने भाजपा का दामन थामा प्रशिक्षु आईएएस पूजा खेडकर के विरुद्ध सख्ती, ट्रेनिंग रद्द कर वापस भेजा गया मसूरी अकादमी..! बदले में पूजा ने पुणे डीएम पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप हरभजन, युवराज सिंह और रैना मुश्किल में, पैरा एथलीट्स का उड़ाया था मजाक..FIR दर्ज आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की दशमी तिथि रात 08:33 बजे तक तदुपरांत एकादशी तिथि प्रारंभ यानी मंगलवार, 16 जुलाई 2024
अमित शाह और एनएसए ने बनाई रणनीति: ऐसे होगा जम्मू को आतंक मुक्त

राजनीति

अमित शाह और एनएसए ने बनाई रणनीति: ऐसे होगा जम्मू को आतंक मुक्त

राजनीति//Delhi/New Delhi :

जम्मू में आतंकियों का पूरी तरह से सफाया करने के लिए अब गृह मंत्री अमित शाह एक्शन मोड में आ गए हैं। गृह मंत्रालय में उच्च स्तरीय बैठक की गई जिसमें एनएसए अजीत डोभाल रॉ के प्रमुख रवि सिन्हा समेत केंद्र व राज्य के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। बैठक लगभग साढ़े चार घंटे तक चली जिसमें शाह ने जम्मू में आतंकवाद को समूल नष्ट करने की रणनीति तैयार की।

कश्मीर घाटी के मॉडल पर जम्मू में भी आतंकवाद का सफाया होगा। गृह मंत्रालय में हुई उच्च स्तरीय बैठक में गृहमंत्री अमित शाह ने सभी सुरक्षा एजेंसियों को एरिया डॉमिनेशन प्लान और जीरो टेरर प्लान के माध्यम से कश्मीर घाटी में हासिल की गई सफलताओं को जम्मू में भी दोहराने का निर्देश दिया। शाह ने साफ किया कि जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद के खिलाफ निर्णायक दौर में है और अब यह एक संगठित बड़ी आतंकी हिंसक घटनाओं से सिमट कर छद्म लड़ाई तक सिमट गया है। लेकिन इसे समूल उखाड़ फेंकना होगा और इसके लिए सभी सुरक्षा एजेंसियों को समन्वय के साथ काम करना होगा।
बैठक में कौन-कौन था मौजूद
बैठक में शाह के साथ ही एनएसए अजीत डोभाल, रॉ के प्रमुख रवि सिन्हा, आइबी प्रमुख तपन डेका, सेनाध्यक्ष जनरल मनोज पांडेय, नामित सेनाध्यक्ष लेफ्टनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी, जम्मू और कश्मीर दोनों भागों के कोर कमांडर समेत केंद्र व राज्य के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।
जीरो टॉलरेंस की नीति कायम रहेगी
लगभग साढ़े चार घंटे तक चली बैठक में अमित शाह ने जम्मू इलाके में आतंकवाद को समूल नष्ट करने की रणनीति बनाने के साथ-साथ 29 जून से शुरू होने जा रही अमरनाथ यात्रा के लिए सुरक्षा तैयारियों की भी समीक्षा की। शाह ने साफ कर दिया कि मोदी 3.0 में भी आतंकवाद के खिलाफ जीरो टालरेंस की नीति कायम रहेगी और सरकार आतंकवाद को पूरी तरह से खत्म करने के लिए प्रतिबद्ध है।
इनोवेटिव तरीका अपनाने पर जोर
सभी एजेंसियों की तरह से दिये गए प्रजेंटेशन के बाद शाह ने आतंकियों के खिलाफ पुराने तरीके से कार्रवाई के बजाय इनोवेटिव तरीका अपनाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार इनोवेटिव तरीकों से आतंकियों पर कार्रवाई कर एक मिसाल बनाने के लिए कटिबद्ध है। इसके लिए शाह ने सभी एजेंसियों को मिशन मोड में काम करने को कहा और समन्वित तरीके से आतंकियों के खिलाफ त्वरित कार्रवाई सुनिश्चित करने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि सुरक्षा एजेंसियों को एक साथ मिलकर संवेदनशील इलाकों की पहचान करनी होगी और उसके अनुरूप सुरक्षा तैयारियों को सुनिश्चित करना होगा।
सरकार का पूरा सहयोग मिलेगा
अमित शाह ने साफ किया कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में सुरक्षा एजेंसियों को सरकार का पूरा सहयोग मिलेगा। कश्मीर घाटी में आतंकी घटनाओं में महत्वपूर्ण कमी और कानून व्यवस्था की स्थिति में सुधार को सुरक्षा एजेंसियों की बड़ी उपलब्धि बताते हुए शाह ने कहा कि जम्मू में भी इसी रणनीति के तहत काम करना होगा। उन्होंने सुरक्षा एजेंसियों को स्थानीय खुफिया नेटवर्क को मजबूत करने, सुरंगों का पता लगाने और ड्रोन का मुकाबला करने के लिए आधुनिक तकनीक अपनाने पर जोर दिया।
अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा की तैयारी
अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा की तैयारियों की समीक्षा करते हुए अमित शाह ने अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती के साथ-साथ ड्रोन व अन्य अत्याधुनिक तकनीक के जरिये पूरे यात्रा मार्ग की गहन निगरानी करने का निर्देश दिया। शाह ने साफ किया कि हर छोटी से छोटी खुफिया सूचना पर काम करना होगा और उसके तह तक पहुंचना होगा। आतंकियों के खिलाफ लड़ाई में जरा भी कोताही नहीं होनी चाहिए।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments