आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह पूर्णिमा तिथि दोपहर 03:46 तक बजे तक यानी रविवार, 21 जुलाई 2024
अंडमान बनेगा ड्रैगन का काल... भारत के साथ आए क्वॉड देश और फ्रांस

सेना

अंडमान बनेगा ड्रैगन का काल... भारत के साथ आए क्वॉड देश और फ्रांस

सेना/नौसेना/Andaman and Nicobar Islands/Port Blair :

चीन की नौसेना पर लगाम लगाने के लिए अब क्वॉड देश और फ्रांस भारत के साथ आ गए हैं। ये देश भारत को अंडमान निकोबार द्वीप समूह में सैन्य तैयारी करने में मदद कर रहे हैं। चीन को हमेशा से ही मलक्का स्ट्रेट का डर सताता रहता है जो अंडमान के पास है।

चीनी ड्रैगन की नौसेना ने दक्षिण चीन सागर के बाद अब हिंद महासागर में भी फुफकारना शुरू कर दिया है। चीन के महाविनाशक युद्धपोत और किलर पनडुब्बियां अब हिंद महासागर के चक्कर लगा रहे हैं। यही नहीं, चीन ने हिंद महासागर के प्रवेश द्वार पर कंबोडिया में विशाल नेवल बेस बना लिया है। चीन की बढ़ती दादागिरी से निपटने के लिए अब क्वॉड देश और फ्रांस भारत की शरण में आ गए हैं। क्वॉड देश और फ्रांस अब अंडमान और निकोबार द्वीप को सैन्य किले के रूप में विकसित करने में भारत की मदद कर रहे हैं। दरअसल, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह मलक्का स्ट्रेट के पास स्थित हैं, जो चीन की दुखती रग है।

दरअसल, इंडोनेशिया से सटा मलक्का स्ट्रेट काफी संकरा है और इसी वजह से चीन की सबमरीन को ऊपर आने के लिए मजबूर होना पड़ता है। यही वजह है कि चीन की नौसेना को घेरने के लिए मलक्का स्ट्रेट सबसे मुफीद जगह बन गया है। चीन भी मलक्का स्ट्रेट को लेकर अक्सर खौफ में रहता है और यही वजह है कि उसे कंबोडिया में नौसैनिक अड्डा बनाना पड़ा है। दुनिया की फैक्ट्री चीन का अरबों डॉलर का व्यापार मलक्का स्ट्रेट के जरिए होता है।
क्वॉड देशों की नजर अंडमान-निकोबार पर

चीन को हमेशा डर बना रहता है कि भारत और पश्चिमी देश उसे मलक्का स्ट्रेट में घेर सकते हैं। बता दें कि अमेरिका का नेवल बेस डियागो गार्सिया भी हिंद महासागर में स्थित है। यहां परमाणु बॉम्बर से लेकर पनडुब्बियां तक तैनात रहती हैं। इसी मलक्का दुविधा से बचने के लिए चीन अब पाकिस्तान के रास्ते जमीनी रास्ता भी बना रहा है ताकि उसे अरब सागर तक सीधी पहुंच मिल जाए। भारत भी चीन की बढ़ती दादागिरी से निपटने के लिए अंडमान निकोबार में तीनों ही सेनाओं की कमान बना चुका है।
अंडमान निकोबार द्वीप समूह में कुल 572 द्वीप 
अंडमान निकोबार द्वीप समूह में कुल 572 द्वीप हैं और हिंद प्रशांत क्षेत्र में चीन को रोकने के लिए रणनीतिक रूप से बेहद अहम है। इस महीने ही क्वॉड सदस्य देश जापान के मिसाइलों से लैस घातक डेस्ट्रायर समीदारे ने अंडमान निकोबार की राजधानी पोर्ट ब्लेयर का दौरा किया था। इस दौरे का उद्देश्य अपने सहयोगी देशों के साथ दोस्ती बढ़ाना था। जापानी नौसैनिकों ने इस दौरान अंडमान में फुटबॉल खेला और योग किया। विश्लेषकों के मुताबिक जापानी युद्धपोत का पहुंचना बताता है कि क्वॉड देशों के लिए अब अंडमान का महत्व बढ़ता ही जा रहा है। साल 2020 में भारत ने अमेरिका के साथ इसी इलाके में नौसैनिक अभ्यास भी किया था।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments