UP: लखनऊ मे एंटी भू माफिया सेल का गठन, अवैध तरीके से जमीन कब्जाने वालों पर होगा एक्शन VHP ने UP पुलिस से की देवबंद के खिलाफ एक्शन की मांग, गजवा-ए-हिंद के समर्थन का आरोप जमीन हड़पने के मामले में ED ने TMC नेता शाहजहां शेख के खिलाफ दर्ज किया एक और मामला महाराष्ट्र के पूर्व सीएम मनोहर जोशी का हार्ट अटैक से निधन किसानों को करनी होगी सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान की भरपाई: हरियाणा पुलिस MP: अनूपपुर में जंगली हाथी के हमले में एक शख्स की मौत, 2 लोग घायल
इजरायल में फिर बड़ा हमला: हमास आतंकियों ने 3 लोगों को गोली मारी, संघर्ष विराम में खलल

सेना

इजरायल में फिर बड़ा हमला: हमास आतंकियों ने 3 लोगों को गोली मारी, संघर्ष विराम में खलल

सेना///Tel Aviv :

हमास के आतंकियों ने यरुशलम में खूनी हमला किया है, जिसमें इजरायल के 3 लोगों की मौत हो गई है। इजरायल की पुलिस ने हमला करने वाले हमास के आतंकियों को भी मार गिराया है। यह हमला तब हुआ है, जब गाजा में अस्थायी युद्ध विराम चल रहा है। इस घटना से तनाव बढ़ गया है।

इजरायल पर फिर से खूनी हमला हुआ है जिसमें 3 लोगों की मौत हो गई है और 6 लोग घायल हो गए हैं। बताया जा रहा है कि यरुशलम के प्रवेश द्वार के पास हमास के आतंकियों ने हमला कर दिया और इजरायली लोगों को मार दिया। जवाबी कार्रवाई में हमास के दो आतंकी भी मारे गए हैं। माना जा रहा है कि इस ताजा हमले के बाद इजरायल और हमास के बीच जारी अस्थायी संघर्ष विराम टूट सकता है। इस पूरे मामले को लेकर तनाव बढ़ गया है। पुलिस ने बताया कि यह हमला स्थानीय समयानुसार सुबह करीब 7ः40 पर हुआ।
कार से उतरे, बस स्टॉप पर बरसाई गोलियां
बताया जा रहा है कि हमास के आतंकियों ने राजधानी यरुशलम के प्रवेश की जगह पर एक गाड़ी से घुसे और लोगों तथा बस स्टॉप पर गोलियां बरसाना शुरू कर दिया। पुलिस ने बताया कि दो ड्यूटी से जा रहे सैनिकों और हथियारबंद नागरिकों ने हमास आतंकियों पर जवाबी कार्रवाई की। इसमें दोनों आतंकी मारे गए हैं। बताया जा रहा है कि ये दोनों ही हमास आतंकी पूर्वी यरुशलम के रहने वाले थे। इनको पहले आतंकी घटनाओं के जुर्म में जेल भी भेजा गया था।
इजरायल और हमास के बीच संघर्ष विराम बढ़ा
इससे पहले इजरायल और हमास अस्थायी युद्धविराम एक दिन और बढ़ाने पर सहमत हो गए थे, जिसकी समय सीमा गुरुवार को समाप्त हो रही थी। लेकिन इसके कुछ मिनट पहले ही यह जानकारी सामने आई कि युद्धविराम एक दिन के लिए बढ़ गया है। कतर के विदेश मंत्रालय ने कहा कि युद्धविराम की शर्तें पहले वाली ही रहेंगी, जिसके तहत हमास 10 इजराइली बंधकों को प्रतिदिन रिहा कर रहा है और बदले में इजराइल 30 फिलिस्तीनी कैदियों को छोड़ रहा है।
कतर ने निभाई मध्यस्थ की भूमिका
कतर ने युद्धविराम के लिए इजराइल और हमास के बीच मध्यस्थ की भूमिका निभाई है। गाजा में इजराइली बमबारी और जमीनी अभियान के बाद युद्धविराम को यथासंभव लंबे समय तक जारी रखने का अंतरराष्ट्रीय दबाव है। अब तक हमलों में हजारों फलस्तीनियों की मौत हुई है, बड़ी संख्या में लोग विस्थापित हुए हैं और मानवीय संकट पैदा हुआ है। युद्ध से पूरे क्षेत्र में तनाव है। युद्धविराम बढ़ाने के लिए दोनों पक्षों में अंतिम वक्त में गतिरोध हुआ। हमास ने कहा कि इजराइल ने उसकी एक प्रस्तावित सूची को खारिज कर दिया जिसमें सात कैदियों के नाम थे और इजराइल के हवाई हमलों में मारे गए तीन लोगों के अवशेष लौटाने का जिक्र था। इजराइल ने बाद में कहा कि हमास ने फिर संशोधित सूची सौंपी जिससे युद्धविराम को आगे बढ़ाने का मार्ग प्रशस्त हुआ।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments