पीएम मुद्रा लोन की सीमा दोगुनी कर 20 लाख की घोषणा कैंसर की 3 दवाओं पर नहीं लगेगी कस्टम ड्यूटी, निर्मला सीतारमण का ऐलान देश में उच्च शिक्षा के लिए 10 लाख रुपये लोन की घोषणा 'दुकानदारों को अपनी पहचान बताने की जरूरत नहीं'- कांवड़ यात्रा नेमप्लेट विवाद पर सुप्रीम कोर्ट
बाबा का मोहिनी मंत्र, खींची चली आती थीं औरतें...कन्हैया बनकर नाचता था सूरजपाल?

क्राइम

बाबा का मोहिनी मंत्र, खींची चली आती थीं औरतें...कन्हैया बनकर नाचता था सूरजपाल?

क्राइम //Uttar Pradesh /Lucknow :

जानकारी के मुताबिक बाबा के सत्संग में महिलाओं की भागीदारी हर जगह पर सबसे ज्यादा होती है। लेकिन वह क्यों होती है, उसके बारे में हमें एक चैंकाने वाला सच पता चला है। बाबा के दरबार में महिलाएं रूपक बनकर आती थीं और बाबा उनके बीच मे नाचता था।

उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले के सिकंदराराऊ थाना क्षेत्र में सत्संग के दौरान हादसा होने के बाद से बाबा भोले उर्फ सूरजपाल को लेकर लगातार नए खुलासे हो रहे हैं। इस बीच उसके पड़ोसी गांव की महिला ने एक बड़ा दावा किया है। महिलाओं ने बताया है कि सूरजपाल उर्फ बाबा के पास मोहित कर देने वाला मोहिनी मंत्र है, जिसके सम्मोहन में महिलाएं जकड़ जाती हैं। सूरजपाल बाबा के पड़ोसी गांव चक के लोगों ने कुछ ऐसा राज पर्दाफाश किया, जिसे सुनकर हैरान रह जाएंगे।
महिलाओं के बीच नाचता था बाबा
जानकारी के मुताबिक बाबा के दरबार में महिलाएं रूपक बनकर आती थीं और बाबा उनके बीच मे नाचता था। पड़ोसी गांव की महिलाओं ने बताया कि बाबा के पास एक मोहनी मंत्र है और जैसे ही महिलाएं उसके आसपास जाती हैं तो वह उसके सम्मोहन में जकड़ जाती हैं।
बाबा की मंडली में खूबसूरत महिलाएं
महिलाओं ने दावा किया कि महिलाएं आती थीं, रूपका बनती थीं। बाबा के आसपास रहती हैं। बाबा के पड़ोसी गांव में रहने वाले महेन्द्रपाल ने भी बाबा सूरजपाल पर सवाल उठाकर आरोप लगाए और बताया कि हमने देखा था उनके पास एक से बढ़कर एक सुंदर महिलाएं आती थीं। यह कहां से आती थीं यहां तो ऐसी रासलीला होती है जैसे मथुरा में होती रहती थीं। यहां गाड़ियां भर-भर के महिलाएं आती थीं। एक से बढ़कर एक सुंदर होती थीं। किसी ने कोई शिकायत नहीं दी है। 15 अगस्त जन्माष्टमी पर यह कन्हैया बनकर झूलते थे।
बाहर से आती थीं लड़कियां
उन्होंने आरोप लगाया कि उनके सत्संग में महिलाएं सबसे आगे रहती हैं। इसी गांव की महिलाओं ने बाबा को लेकर कई खुलासे किए। उन्होंने बताया कि बाहर से लड़कियां आती थीं और बाबा के आसपास गोपी बनकर नाचती थीं। हम यही देखने जाते थे। बाबा के साथ लड़कियों की गाड़ियां हमेशा साथ में चलती थी। वह नॉर्मल कपड़े पहन कर उनके साथ चलती थी। एक बार हमने भी गाड़ियों में उन लड़कियों को देखा था 20 परसेंट आदमी ही आते हैं। बाकी महिलाएं ही आती हैं, जो केवल बाबा की ही बात करती हैं।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments