CM केजरीवाल को कल गिरफ्तार कर सकती है CBI NDA के स्पीकर पद के उम्मीदवार ओम बिरला ने पीएम मोदी से मुलाकात की दिलेश्वर कामत जेडीयू संसदीय दल के नेता होंगे पूर्व फुटबॉलर बाइचुंग भूटिया ने राजनीति छोड़ी, सिक्किम चुनाव में हार के बाद फैसला घाटकोपर होर्डिंग केस: IPS कैसर खालिद सस्पेंड, उनकी इजाजत पर लगा था होर्डिंग पुणे पोर्श कांड: आरोपी नाबालिग को हिरासत से रिहा किया गया लोकसभा के 7 सांसदों ने नहीं ली शपथ, कल स्पीकर चुनाव में नहीं कर सकेंगे मतदान जगन मोहन रेड्डी की पार्टी स्पीकर चुनाव में NDA उम्मीदवार का समर्थन कर सकती है कल सुबह 11 बजे तक के लिए लोकसभा स्थगित स्पीकर चुनाव के लिए बीजेपी ने व्हिप जारी किया, सभी सांसदों को लोकसभा में रहना होगा मौजूद स्पीकर चुनाव: कांग्रेस का व्हिप जारी, कल सभी सांसदों को लोकसभा में मौजूद रहने को कहा आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के कृष्णपक्ष की पंचमी तिथि रात 08:54 बजे तक यानी बुधवार, 26 जून 2024 Jaipur: मैसर्स तंदूरवाला में कार्रवाई के दौरान पायी गयीं भारी अनियमितताएं..लाइसेंस, साफ़ सफाई सहित अन्य दस्तावेज मिले नदारद मायावती का भतीजे आकाश आनंद पर उमड़ा प्रेम, 47 दिन पुराने फैसले को पलट बनाया राष्ट्रीय संयोजक राजस्थान में आषाढ़ माह के चौथे दिन मेवाड़ में छाये बादल, मौसम विभाग भी बोला मानसून का हो गया प्रवेश
भोजशाला: रडार मशीन से खुली सच्चाई, मिले सूर्य की आकृति के शिलालेख

धर्म

भोजशाला: रडार मशीन से खुली सच्चाई, मिले सूर्य की आकृति के शिलालेख

धर्म/कर्मकांड-पूजा/Madhya Pradesh/Bhopal :

हिंदू पक्ष के याचिकाकर्ता ने दावा किया कि रडार मशीन के इस्तेमाल से भोजशाला की हकीकत सामने आ रही है। यहां सूर्य की आकृति के शिलालेख मिलने का भी दावा किया है।

मध्यप्रदेश के धार में विवादित भोजशाला कमल मौला मस्जिद परिसर में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) का वैज्ञानिक सर्वे रविवार को सुबह 6.30 बजे ही शुरु हो गया। अदालत के आदेश पर हो रहे इस सर्वे के 66वें दिन हिंदू पक्ष के याचिकाकर्ता ने दावा किया कि रडार मशीन के इस्तेमाल से भोजशाला की हकीकत सामने आ रही है। यहां सूर्य की आकृति के शिलालेख मिलने का भी दावा किया है।
सर्वेक्षण में शनिवार को ग्राउंड-पेनेट्रेटिंग रडार (जीपीआर) और जीपीएस मशीनों का पहली बार इस्तेमाल किया गया। रविवार को भी टीम ने सर्वे में जीपीआर तकनीक का उपयोग जारी रखा। हिंदू पक्ष के याचिकाकर्ताओं ने दावा किया कि इससे सच्चाई सामने आ रही है।
महाराजा भोज सेवा समिति के सचिव गोपाल शर्मा ने संरचना पर हिंदू प्रतीक और संकेत मिलने का दावा किया। उन्होंने बताया कि जीपीआर और जीपीएस मशीनें शुक्रवार को धार पहुंचीं थी और शनिवार से एएसआई ने इन मशीनों का इस्तेमाल शुरू कर दिया। जीपीआर मशीन से सात अधिकारियों ने भोजशाला के गर्भगृह में सर्वे किया।
गोपाल शर्मा ने दावा किया कि संरचना पर हिंदू प्रतीक और संकेत पाए गए। यहां सूर्य की आकृति के शिलालेख भी मिले हैं। शिलालेख में सूर्य की आठ आकृतियां हैं। इसमें सूर्य के अलग-अलग रूप प्रदर्शित किए गए हैं।
बता दें कि हाईकोर्ट ने वैज्ञानिक सर्वेक्षण के दौरान मशीनों के उपयोग के निर्देश दिए थे। मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने 11 मार्च को एएसआई को भोजशाला का वैज्ञानिक सर्वेक्षण करने का निर्देश दिया था। हिंदू पक्ष का कहना है कि यह देवी वाग्देवी यानि सरस्वतीजी का मंदिर है, जबकि मुस्लिम पक्ष इसे कमल मौला मस्जिद बताते हैं। 7 अप्रैल, 2003 को की गई व्यवस्था के तहत मुस्लिम हर शुक्रवार को भोजशाला परिसर में नमाज अदा करते हैं। वहीं, हिंदू हर मंगलवार को यहां विधिवत पूजा-पाठ करते हैं।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments