ट्रेनी IAS पूजा खेडकर पर बड़ी कार्रवाई, UPSC ने दर्ज कराया केस NEET पेपर लीक केस: सॉल्वर बनने वाले सभी 4 स्टूडेंट्स को सस्पेंड करेगा पटना AIIMS माइक्रोसॉफ्ट सर्वर ठप: हैदराबाद एयरपोर्ट पर फ्लाइट्स के लिए इंडिगो स्टाफ ने हाथ से लिखे बोर्डिंग पास बिलकिस बानो केस: 2 दोषियों की अंतरिम जमानत याचिका पर विचार करने से SC का इनकार आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की चतुर्दशी तिथि सायं 05:59 बजे तकयानी शनिवार, 20 जुलाई 2024
महासागर में डूब रही थी परमाणु बमों से लैस ब्रिटिश पनडुब्बी ! धरती पर आ जाता प्रलय, फिर हुआ चमत्कार

सेना

महासागर में डूब रही थी परमाणु बमों से लैस ब्रिटिश पनडुब्बी ! धरती पर आ जाता प्रलय, फिर हुआ चमत्कार

सेना/नौसेना// :

48 परमाणु बमों से लैस ब्रिटिश न्यूक्लियर पनडुब्बी अटलांटिक महासागर में लगभग डूब गई थी। इस सबमरीन में चालक दल के 140 सदस्य भी सवार थे लेकिन फिर एक चमत्कार हुआ। 

अटलांटिक महासागर में एक बड़ा परमााणु हादसा होने से बच गया। जानकारी के अनुसार ब्रिटेन की रॉयल नेवी की एक न्यूक्लियर सबमरीन समुद्र में इतनी गहराई तक नीचे चली गई थी कि बस वह डूबने की कगार पर ही थी। इस परमाणु पनडुब्बी में एक दो नहीं, बल्कि 140 मेंबर सवार थे। बड़ी बात यह थी कि यह परमाणु पनडुब्बी ट्राइडेंट 2 न्यूक्लियर मिसाइलों से लैस थी। ये परमाणु मिसाइलें इतनी खतरनाक हैं कि इनसे हमारी पूरी धरती पर प्रलय मच जाता। 
यही नहीं, यदि यह परमाणु पनडुब्बी डूब भी जाती तो इसे वापस निकालना असंभव हो जाता। यही नहीं, रूस के भी इस न्यूक्लियर सबमरीन तक पहुंचने का खतरा पैदा हो जाता। दरअसल, यह ब्रिटिश परमाणु पनडुब्बी एक दो, नहीं 48 परमाणु बमों से लैस रहती है, जो दुनिया में कहीं भी परमाणु तबाही मचा सकती है। ऐसे में यह ब्रिटेन के लिए सेकंड वर्ल्ड वॉर के बाद सबसे बड़ा हादसा हो सकता था। 
गहराई बताने वाला उपकरण हो गया था खराब
द सन की रिपोर्ट के अनुसार हुआ यह कि यह ब्रिटिश पनडुब्बी गश्ती पर निकलने वाली थी, तभी उसके चालक दल के सदस्यों को जो पता चला उससे हैरानी छा गई। सदस्यों को पता चला कि पनडुब्बी में गहराई बताने वाले उपकरण ने ही काम करना बंद कर दिया है। इस वजह से इस पनडुब्बी के कमांडरों को यह पता नहीं चल पाया कि पनडुब्बी कितनी गहराई में चली गई है। यह पनडुब्बी ‘डेंजर जोन’ में चली गई थी और जब उन्होंने एक-दूसरे तरीके से गहराई को मापा तो उन्हें इसका पता चला। 490 फीट लंबी इस वैनगार्ड श्रेणी की पनडुब्बी को तत्काल ऊपर लाने के लिए प्रयास शुरू किया गया।
1969 से अब तक क्यों गश्त लगा रही ब्रिटिश परमाणु पनडुब्बी?
ब्रिटेन की नौसेना की एक पनडुब्बी साल 1969 से ही परमाणु मिसाइलों के साथ हमेशा गश्त पर रहती है ताकि अगर देश पर कोई महाविनाशक हमला होता है तो उसका एटमी हमले से जवाब दिया जा सके। इस एक पनडुब्बी की कीमत 3.75 अरब पाउंड है। यह धरती पर 87 मेगाटन के बराबर तबाही मचाने की क्षमता रखती है। ब्रिटेन के पास इस समय वैनगार्ड क्लास की 4 परमाणु पनडुब्बियां हैं, लेकिन दो ही ऑपरेशनल हैं।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments