CM केजरीवाल को कल गिरफ्तार कर सकती है CBI NDA के स्पीकर पद के उम्मीदवार ओम बिरला ने पीएम मोदी से मुलाकात की दिलेश्वर कामत जेडीयू संसदीय दल के नेता होंगे पूर्व फुटबॉलर बाइचुंग भूटिया ने राजनीति छोड़ी, सिक्किम चुनाव में हार के बाद फैसला घाटकोपर होर्डिंग केस: IPS कैसर खालिद सस्पेंड, उनकी इजाजत पर लगा था होर्डिंग पुणे पोर्श कांड: आरोपी नाबालिग को हिरासत से रिहा किया गया लोकसभा के 7 सांसदों ने नहीं ली शपथ, कल स्पीकर चुनाव में नहीं कर सकेंगे मतदान जगन मोहन रेड्डी की पार्टी स्पीकर चुनाव में NDA उम्मीदवार का समर्थन कर सकती है कल सुबह 11 बजे तक के लिए लोकसभा स्थगित स्पीकर चुनाव के लिए बीजेपी ने व्हिप जारी किया, सभी सांसदों को लोकसभा में रहना होगा मौजूद स्पीकर चुनाव: कांग्रेस का व्हिप जारी, कल सभी सांसदों को लोकसभा में मौजूद रहने को कहा आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के कृष्णपक्ष की पंचमी तिथि रात 08:54 बजे तक यानी बुधवार, 26 जून 2024 Jaipur: मैसर्स तंदूरवाला में कार्रवाई के दौरान पायी गयीं भारी अनियमितताएं..लाइसेंस, साफ़ सफाई सहित अन्य दस्तावेज मिले नदारद मायावती का भतीजे आकाश आनंद पर उमड़ा प्रेम, 47 दिन पुराने फैसले को पलट बनाया राष्ट्रीय संयोजक राजस्थान में आषाढ़ माह के चौथे दिन मेवाड़ में छाये बादल, मौसम विभाग भी बोला मानसून का हो गया प्रवेश
कनाडा पीएम ट्रूडो के बेतुके आरोप से बिगड़े रिश्ते, लोकप्रियता गिरी, भारत का अब क्या होगा अगला कदम?

राजनीति

कनाडा पीएम ट्रूडो के बेतुके आरोप से बिगड़े रिश्ते, लोकप्रियता गिरी, भारत का अब क्या होगा अगला कदम?

राजनीति///Otawa :

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के बेबुनियाद आरोप के बाद भारत ने सख्त लहजे में उन्हें जवाब दिया। इसको लेकर एक्सपर्ट्स ने भी अपनी राय दी।

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो का भारत की एजेंसियों पर खालिस्तान समर्थक हरदीप सिंह निज्जर की हत्या का आरोप लगाना दोनों देशों के बीच तल्खी का कारण बन गया। दोनों देशों के डिप्लोमैट्स को निकाल दिया गया। जस्टिन ट्रूडो के इस आरोप पर भारत ने सख्त रुक अपनाया और वीजा पर रोक लगा दी। भारत ने जब सबूत मांगे तो ट्रूडो ने कहा कि एक हफ्ते पहले ही दे चुके हैं।

भारत ने साफ कहा है कि मूल मुद्दा आतंकवाद है। कनाडा भारत विरोधी आतंकी संगठनों की शरणस्थली बन चुका है। इंडिया टुडे से बात करते हुए इंडो कनाडा के पूर्व पॉलिटिशियन डेव हायर कहते हैं कि इस तरह की गतिविधियों का समर्थन करने वाले कनाडा में सिर्फ 10 प्रतिशत लोग हैं या फिर हो सकता है कि 15 प्रतिशत हों लेकिन बाकी बचे लोग भारत के साथ अच्छे रिश्ते चाहते हैं।
वहीं, पूर्व विदेश सचिव विवेक काटजू ने कहा, ‘भारत को जस्टिन ट्रूडो ने जो कहा उसकी असलियत बाहर लेकर आनी चाहिए। सामान्य तौर पर दरवाजों के पीछे इस तरह के मुद्दों का निवारण कर लिया जाता है लेकिन दुर्भाग्य ये है कि जस्टिन ट्रूडो ने सदन में जो बयान दिया है उसका जवाब इसी तरह देना होगा।’ उनका मानना है कि भारत ने कनाडा को सही जवाब दिया है।
भारत पर फर्क नहीं पड़ता
रिपोर्ट के मुताबिक, कनाडा की हालत खस्ता होने के कगार पर है। देश में पैसों का अभाव है। साथ ही भारत से कनाडा में पढ़ाई की इच्छा रखने वाले छात्र भी नहीं जाना चाहते हैं। इन लोगों का कहना है कि जिस तरह के हालात मौजूदा समय में दोनों के बीच हैं उससे रूस और यूक्रेन युद्ध के बाद लौटे छात्रों की याद आती है। जब हजारों छात्रों को वहां से लौटना पड़ा था।
कनाडा और भारत के रिश्तों में खालिस्तान की वजह से पहले भी तल्खी देखी गई है लेकिन इससे पहले ये इतने आगे नहीं बढ़े थे कि संसद में बयान दिया गया हो। जस्टिन ट्रूडो का खालिस्तान के प्रति नरम रुख भारत को कभी रास नहीं आया। भारत सरकार लंबे समय से कनाडा को खालिस्तान समर्थकों पर कार्रवाई करने के लिए कहती रही है। वो अपनी वोट बैंक की राजनीति के चक्कर में खालिस्तान पर नरम हैं।
भारत के एक्शन में आते ही बदले जस्टिन ट्रूडो के सुर
भारत ने एक्शन दिखाते हुए अब तक जितने कदम उठाए उसके बाद से जस्टिन ट्रूडो के सुर भी बदल गए। भारत की ओर से सख्ती दिखाने के बाद कनाडा के व्यवसाय भी असर देखने को मिल रहा है। कई भारतीय कंपनियों ने हाथ खींचने शुरू कर दिए।
ट्रूडो की लोकप्रयिता में कमी
इसके अलावा कनाडा के ग्लोबल न्यूज में पब्लिश आईपीओएस सर्वे के मुताबिक, जस्टिन ट्रूडो की कनाडा में लोकप्रियता कम होती जा रही है। लोगों का मानना है कि कंजर्वेटिव पार्टी के नेता पियरे पोइलिव्रे को प्रधानमंत्री बनना चाहिए। सर्वे के मुताबिक अगर आज की स्थिति में कनाडा में चुनाव होते हैं तो कंजर्वेटिव पार्टी अपनी सरकार बना सकती है।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments