ध्य प्रदेश के चर्चित जस्टिस रोहित आर्य ने भाजपा का दामन थामा प्रशिक्षु आईएएस पूजा खेडकर के विरुद्ध सख्ती, ट्रेनिंग रद्द कर वापस भेजा गया मसूरी अकादमी..! बदले में पूजा ने पुणे डीएम पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप हरभजन, युवराज सिंह और रैना मुश्किल में, पैरा एथलीट्स का उड़ाया था मजाक..FIR दर्ज आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की दशमी तिथि रात 08:33 बजे तक तदुपरांत एकादशी तिथि प्रारंभ यानी मंगलवार, 16 जुलाई 2024
'इमरान खान को एक घंटे के अंदर सुप्रीम कोर्ट में पेश करे सरकार', पाकिस्तान के चीफ जस्टिस का आदेश

पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान को एक घंटे के अंदर सुप्रीम कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया

अदालत

'इमरान खान को एक घंटे के अंदर सुप्रीम कोर्ट में पेश करे सरकार', पाकिस्तान के चीफ जस्टिस का आदेश

अदालत///Islamabad :

पाकिस्तान के मुख्य न्यायाधीश ने पाकिस्तान सरकार को पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान को एक घंटे के अंदर सुप्रीम कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया है। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान को भ्रष्टाचार और सत्ता के दुरुपयोग के आरोप में गिरफ्तार किया गया। पाकिस्तान के मुख्य न्यायाधीश ने पाकिस्तान सरकार को इमरान खान को एक घंटे के अंदर सुप्रीम कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया है। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान को मंगलवार, 9 मई, 2023 को भ्रष्टाचार और सत्ता के दुरुपयोग के आरोप में गिरफ्तार किया गया। उनकी गिरफ्तारी ने पूरे देश में व्यापक विरोध और अशांति फैला दी है। 

इमरान खान को पाकिस्तानी भ्रष्टाचार विरोधी एजेंसी, राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) द्वारा गिरफ्तार किया गया था, जब वह अपने खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में सुनवाई के दौरान पेश होने गए थे।  खान की गिरफ्तारी की उनके समर्थकों और विपक्षी दलों ने व्यापक निंदा की है। उन्होंने सरकार पर खान और उनकी राजनीतिक पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) को निशाना बनाने के लिए एनएबी का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया है। 

पीटीआई ने खान की गिरफ्तारी के खिलाफ देशव्यापी विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया है। पाकिस्तान के प्रमुख शहरों में पीटीआई के हजारों समर्थक सड़कों पर उतर आए हैं और पुलिस के साथ झड़पों की खबरें आ रही हैं। 

खान की गिरफ्तारी से पाकिस्तान में राजनीतिक उठापटक तेज हो गई है। देश पहले से ही कई चुनौतियों का सामना कर रहा है, जिसमें एक संघर्षरत अर्थव्यवस्था, तालिबान से बढ़ता सुरक्षा खतरा और सरकार और विपक्ष के बीच बढ़ता राजनीतिक विभाजन शामिल है। 

खान की गिरफ्तारी ने सरकार और सेना के बीच संबंधों को और तनावपूर्ण बना दिया है। सेना पर लंबे समय से पाकिस्तानी राजनीति में हस्तक्षेप करने का आरोप लगाया जाता रहा है, और खान देश में सेना की भूमिका के मुखर आलोचक रहे हैं। 

खान की गिरफ्तारी ने पाकिस्तान में लोकतंत्र के भविष्य को लेकर चिंता बढ़ा दी है। खान के समर्थकों ने सरकार पर असंतोष को दबाने और उनकी आवाज को दबाने की कोशिश करने का आरोप लगाया।  उन्होंने चेतावनी दी है कि खान की गिरफ्तारी से विपक्ष पर कार्रवाई हो सकती है और पाकिस्तान में लोकतंत्र का और क्षरण हो सकता है। 

You can share this post!

author

सौम्या बी श्रीवास्तव

By News Thikhana

Comments

Leave Comments