ध्य प्रदेश के चर्चित जस्टिस रोहित आर्य ने भाजपा का दामन थामा प्रशिक्षु आईएएस पूजा खेडकर के विरुद्ध सख्ती, ट्रेनिंग रद्द कर वापस भेजा गया मसूरी अकादमी..! बदले में पूजा ने पुणे डीएम पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप हरभजन, युवराज सिंह और रैना मुश्किल में, पैरा एथलीट्स का उड़ाया था मजाक..FIR दर्ज आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की दशमी तिथि रात 08:33 बजे तक तदुपरांत एकादशी तिथि प्रारंभ यानी मंगलवार, 16 जुलाई 2024
 अब अगर गांवों में मिले बाल विवाह के मामले , तो जिम्मेदार होंगे पंच सरपंच : हाई कोर्ट का कड़ा आदेश

अब अगर गांवों में मिले बाल विवाह के मामले , तो जिम्मेदार होंगे पंच सरपंच : हाई कोर्ट

अदालत

अब अगर गांवों में मिले बाल विवाह के मामले , तो जिम्मेदार होंगे पंच सरपंच : हाई कोर्ट का कड़ा आदेश

अदालत//Rajasthan/Jaipur :

राजस्थान में बाल विवाह की प्रथा को रोकने के लिए, हाईकोर्ट ने भजनलाल सरकार को गंभीर कदम उठाने का आदेश दिया है। कोर्ट ने राज्य सरकार को निर्देश दिया है कि वे गांव और कस्बों के वार्ड स्तर के जनप्रतिनिधियों को जागरूक करें और बाल विवाह रोकने में उनकी सहायता लें। इसके साथ ही, चेतावनी दी गई है कि यदि बाल विवाह होते हैं, तो स्थानीय जनप्रतिनिधियों को जिम्मेदार माना जाएगा।

न्यायालय ने निर्देश दिया कि आदेश की प्रतिलिपि मुख्य सचिव और सभी जिला कलेक्टरों को भेजी जाए, जिससे पंच-सरपंच समेत सभी बाल विवाह को रोकने में सक्रिय हों। न्यायाधीश पंकज भंडारी और न्यायाधीश शुभा मेहता की खंडपीठ ने जस्ट राइट्स फॉर चिल्ड्रन एलायंस और बचपन बचाओ आंदोलन की जनहित याचिका पर बुधवार को यह आदेश पारित किया।

कोर्ट ने कहा कि राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वे-5 की रिपोर्ट के अनुसार 15 से 19 साल की लड़कियों में से 3.7 फीसदी महिलाएं मां बनी चुकी हैं या गर्भवती हैं। बाल विवाह निषेध अधिनियम लागू होने के बावजूद प्रदेश में बाल विवाह हो रहे हैं, जिनको रोकने के लिए अभी बहुत कुछ करना बाकी है। कोर्ट ने कहा कि पंचायती राज नियम के तहत बाल विवाह रोकना सरपंच का कर्तव्य है।

प्रार्थीपक्ष की ओर से अधिवक्ता आशीष कुमार सिंह ने कोर्ट को बताया कि इसी माह अक्षय तृतीया है, जिस पर बड़ी तादाद में बाल विवाह होंगे। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वे-5 के अनुसार 20 से 24 साल की उम्र वाली महिलाओं में से 25.4 फीसदी की शादी 18 साल की उम्र से पहले हो जाती है। इनमें से 15.1 फीसदी महिलाएं शहरी क्षेत्र में और 28.3 फीसदी ग्रामीण इलाकों में हैं। ऐसे में बाल विवाह निषेध अधिकारी से उनके क्षेत्र में हुए बाल विवाह व उसे रोकने के लिए किए गए प्रयासों की रिपोर्ट मांगनी चाहिए।

You can share this post!

author

सौम्या बी श्रीवास्तव

By News Thikhana

Comments

Leave Comments