जुलाई के अंत में BJP शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों और उपमुख्यमंत्रियों की होगी मीटिंग- सूत्र उत्तराखंड में मॉनसून अलर्ट, बारिश की संभावना, यात्रियों को सतर्क रहने की चेतावनी J-K: डोडा जिले में आधी रात सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच हुई गोलीबारी, सेना शुरू की तलाशी बिहार: सारण जिले के रसूलपुर में ट्रिपल मर्डर, 2 नाबालिग बेटी और पिता की चाकू मारकर हत्या बांग्लादेश: नौकरियों में आरक्षण का विरोध, 6 प्रदर्शनकारियों की मौत, स्कूल-कॉलेज बंद आज से अपना राजनीतिक दौरा शुरू करेंगी शशिकला केजरीवाल की जमानत अर्जी पर आज अदालत में जवाब दाखिल कर सकती है CBI CM योगी आज मंत्रियों के साथ करेंगे मीटिंग, विधानसभा उपचुनाव को लेकर होगी चर्चा ध्य प्रदेश के चर्चित जस्टिस रोहित आर्य ने भाजपा का दामन थामा प्रशिक्षु आईएएस पूजा खेडकर के विरुद्ध सख्ती, ट्रेनिंग रद्द कर वापस भेजा गया मसूरी अकादमी..! बदले में पूजा ने पुणे डीएम पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप हरभजन, युवराज सिंह और रैना मुश्किल में, पैरा एथलीट्स का उड़ाया था मजाक..FIR दर्ज आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की दशमी तिथि रात 08:33 बजे तक तदुपरांत एकादशी तिथि प्रारंभ यानी मंगलवार, 16 जुलाई 2024
भक्ति का झांसा देकर साइबर क्रिमिनल कर रहे लोगो से ठगी..!

लेख

भक्ति का झांसा देकर साइबर क्रिमिनल कर रहे लोगो से ठगी..!

लेख//Rajasthan/Kota :

कई दशकों का इंतजार खत्म होने को आगया है ।9 नवंबर, 2019 को सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर के पक्ष में फैसला दिया था।

अयोध्या नगरी सज रही है। नगर का कोना कोना जगमगा उठा  हैं। उत्सव का माहौल है, क्योंकि सदियों के इंतजार के बाद अयोध्या में मंदिर में रामलला विराजेंगे। 22 जनवरी को अयोध्‍या के राम मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा होगी। इसी के चलते, एक भ्रामक व्हाट्सएप घोटाला सामने आया है, जिससे अनजान व्यक्तियों के लिए एक नया खतरा पैदा हो गया है।साइबर क्रिमिनल सदैव मौके की तलाश में रहते है। साइबर अपराधी आयोजन को लेकर उत्साह का फायदा उठा रहे हैं, और मुफ्त वीआईपी प्रवेश की फर्जी पेशकश के साथ बेखबर भक्तों को निशाना बना रहे हैं।

जाने क्या है पूरा मामला?

व्हाट्सएप पर उपयोगकर्ताओं को कथित तौर पर राम मंदिर उद्घाटन के लिए मुफ्त वीआईपी पास प्रदान करने का दावा करने वाले संदेश मिल रहे हैं, लेकिन ये ऑफर फर्जी हैं और लोगों को इन पर भरोसा नहीं करना चाहिए।  फर्जी संदेश लोगों में प्रसारित किए जा रहे हैं

व्हाट्सएप घोटाले के अलावा, अयोध्या राम मंदिर से मुफ्त प्रसाद की पेशकश करने वाली फर्जी वेबसाइटों के बारे में भी चिंताएं हैं।  भक्तों से शिपिंग शुल्क का भुगतान करने के लिए कहा जा रहा है, लेकिन इन साइटों की प्रामाणिकता अनिश्चित है।  इसलिए, सरकार से वैध संदेश प्राप्त किए बिना ऐसी चीजों पर पैसा खर्च नहीं करना बेहतर है।

यह जानना है जरूरी

संभावित घोटालों से बचने के लिए, यह अनुशंसा की जाती है कि उपयोगकर्ता ऑनलाइन सावधानी बरतें और विश्वसनीय वेबसाइटों के साथ बातचीत करते रहें।  जानकारी के लिए आधिकारिक सरकारी चैनलों पर भरोसा करना और आगामी उद्घाटन से संबंधित किसी भी संदिग्ध अनुरोध या प्रस्ताव से बचना बेहतर है।

उपयोगकर्ताओं से अपनी वीआईपी पहुंच सुरक्षित करने के लिए एक एपीके फ़ाइल डाउनलोड करने का आग्रह करता है।  हालाँकि, सुरक्षा विशेषज्ञों को संदेह है कि इस फ़ाइल में स्पाइवेयर या मैलवेयर हो सकता है, जिससे घोटाले का शिकार होने वाले लोगों के लिए डेटा चोरी का गंभीर खतरा हो सकता है।  बेहतर होगा कि मैसेज में दिए गए किसी भी लिंक को डाउनलोड न करें और न ही खोलें।

संदेश प्राप्तकर्ताओं को बधाई देता है, जिसमें कहा गया है, “आपको 22 जनवरी को राम मंदिर के उद्घाटन में वीआईपी पहुंच मिल रही है;  एप्लिकेशन इंस्टॉल करके वीआईपी पास डाउनलोड करें।  यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि न तो सरकार और न ही राम मंदिर ट्रस्ट ऐप डाउनलोड करने के बदले में वीआईपी आमंत्रण जारी करता है।  वैध प्रवेश उन व्यक्तियों तक ही सीमित है जिनके पास वैध निमंत्रण हैं या जो आधिकारिक सरकारी कर्तव्यों में हैं।

You can share this post!

author

श्रीमती विजया तिवारी

By News Thikhana

श्रीमती विजया तिवारी, एक पेशेवर सायबर फॉरेंसिक साइंस की विशेषज्ञ और सलाहकार हैं। वे वर्तमान में 'तथ्य फॉरेंसिक विंग फेडरेशन' की कार्यकारी निदेशक हैं, जो उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों के जिलों में फॉरेंसिंक डॉक्यूमेंट की रिसर्च के साथ फॉरेंसिक मामलों को सुलझाने में मदद कर रही है। साथ ही देश की प्रतिष्ठित प्रयोगशालाओं को ट्रेनिंग देने का काम भी कर रही है।

Comments

Leave Comments