पंजाब में कांग्रेस को बड़ा झटका, तेजिंदर सिंह बिट्टू कांग्रेस छोड़ थामेंगे BJP का दामन एलन मस्क का भारत दौरा फिलहाल टला, 21-22 अप्रैल को आने वाले थे टेस्ला के सीईओ ओडिशा नाव हादसे में 4 की डूबकर मौत, रेस्क्यू टीमें 7 लापता लोगों की कर रहीं खोज आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह 10 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे बैतूल: ट्रक की टक्कर से पलटी सुरक्षाकर्मियों से भरी बस, चुनाव ड्यूटी करके लौट रहे थे जवान केरल में त्रिशूर पूरम उत्सव का जश्न, लोगों ने की आतिशबाजी पाकिस्तान को बड़ा झटका, अमेरिका ने बैलिस्टिक मिसाइल प्रोग्राम के लिए आपूर्ति करने वाली 4 कंपनियों पर लगाया प्रतिबंध पीएम नरेंद्र मोदी आज कर्नाटक के बेंगलुरु और चिक्काबल्लापुरा में करेंगे जनसभा को संबोधित अमेरिका के ग्रीनबेल्ट स्थित पार्क में गोलीबारी, हाईस्कूल के पांच छात्र घायल आज महाराष्ट्र में नांदेड़ और परभणी में पीएम मोदी की रैली, करेंगे जनसभा को संबोधित कांग्रेस नेता राहुल गांधी आज 20 अप्रैल को भागलपुर में करेंगे रैली प्रियंका गांधी आज 20 अप्रैल को करेंगी केरल का दौरा IPL 2024: लखनऊ ने घरेलू मैदान में चेन्नई को हराया पहले चरण में रात 9 बजे तक 62.37% वोटिंग, 102 सीटों पर हुआ चुनाव ईरान-इजरायल तनाव: ग्लोबल स्तर पर सोने की कीमतों में 1.5 फीसद का उछाल पश्चिम बंगाल: कूच बिहार के चंदामारी में मतदान केंद्र के सामने पथराव आज है विक्रम संवत् 2081 के चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि रात 10:41 बजे तक यानी शनिवार 20 अप्रेल 2024
क्षेत्र विशेष में योगदान के लिए मिलने वाला अध्विका वार्षिक पुरस्कार 2023 मिलेगा डॉ. लता सुरेश को

डॉ. लता सुरेश :अध्विका वार्षिक पुरस्कार 2023

साहित्य

क्षेत्र विशेष में योगदान के लिए मिलने वाला अध्विका वार्षिक पुरस्कार 2023 मिलेगा डॉ. लता सुरेश को

साहित्य//Haryana/Gurugram :

डॉ लता सुरेश  को अध्विका वार्षिक पुरस्कार 2023 के लिए चुना गया।  यह अवार्ड  उन महिलाओं को  दिया जा रहा है जिन्होंने अपने-अपने क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। भारतीय जनसंपर्क परिषद (पीआरसीआई) द्वारा राष्ट्रीय एक पहल  है।

डॉ लता को यह पुरस्कार नॉलेज मैनेजमेंट के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्यों के लिए दिया जा रहा है। डॉ सुरेश ने  बताया कि यह पुरस्कार मेरे लिए बहुत महत्व रखता है, न केवल एक व्यक्तिगत उपलब्धि के रूप में बल्कि मेरी पूरी यात्रा में मुझे मिले सामूहिक प्रयासों और समर्थन के प्रतीक के रूप में भी। मैं इस मान्यता से बहुत अभिभूत हूं, जो उत्कृष्टता के लिए प्रयास जारी रखने और अपने क्षेत्र और उससे परे सकारात्मक प्रभाव डालने के लिए प्रेरणा के रूप में कार्य करता है।

लता ने पूरी पीआरसीआई टीम और जजों के सम्मानित पैनल की उनके परिश्रमी मूल्यांकन और चयन प्रक्रिया के लिए सराहना करते हुए कहा कि वो महिलाओं के इस प्रतिष्ठित समूह का हिस्सा बनना  अपना सौभाग्य समझती हैं जिन्होंने अपने-अपने क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। और मैं महिला सशक्तिकरण के लिए और योगदान देने के लिए हमेशा उत्सुक रही हूं । मैं अपने परिवार, दोस्तों, गुरुओं और सहकर्मियों के प्रति भी आभार व्यक्त करना चाहती हूं जो समर्थन, मार्गदर्शन और प्रेरणा के अटूट स्तंभ रहे हैं। उनके प्रोत्साहन और मुझ पर विश्वास के बिना, यह उपलब्धि संभव नहीं होती।

यह पुरस्कार डॉ लता सुरेश को 17वें ग्लोबल कम्युनिकेशन कॉन्क्लेव के दौरान सिविल सर्विसेज ऑफिसर्स इंस्टीट्यूट, दिल्ली में आगामी 21-22 सितम्बर के  दौरान दिया जाएगा। इस ग्लोबल कॉन्क्लेव में दूसरे सेशन “रीइंवेंटिंग कल्चर इन डिजिटल ऐज” की  मोडरेटर व स्पीकर भी हैं।

You can share this post!

author

सौम्या बी श्रीवास्तव

By News Thikhana

Comments

Leave Comments