आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की द्वादशी तिथि रात 08:43 बजे तक तदुपरांत त्रयोदशी तिथि प्रारंभ यानी बुधवार, 18 जुलाई 2024
1 हजार साल पुराना रहस्यमयी माया शहर देख विशेषज्ञ हैरान

अजब-गजब

1 हजार साल पुराना रहस्यमयी माया शहर देख विशेषज्ञ हैरान

अजब-गजब//Delhi/New Delhi :

मेक्सिको के घने जंगलों में ताजा खोज अभियान के दौरान विशेषज्ञों को माया सभ्यता का एक खोया हुआ शहर मिला है। यह शहर 1000 साल पुराना है और इसमें एक 50 फीट ऊंचा पिरामिड भी मिला है। और भी कई राज खुलेंगे, जो हैरान कर देंगे।

दुनिया के कई देशों में खुदाई या खोज के दौरान कई ऐसी रहस्यमयी चीजें मिल जाती हैं, जिससे हजारों साल पुराने राज के बारे में अहम जानकारी मिल जाती है। कभी-कभी तो अनमोल खजाना तक मिल जाता है। अमेरिका के मेक्सिको में एक जंगल में खोज के दौरान 1 हजार साल पुराना रहस्यमयी माया सभ्यता का शहर मिला है। इसके बारे में जानकार विशेषज्ञ भी हैरान हैं। इसके कई राज हैरान करने वाले हैं। यहां 50 फीट ऊंचा पिरामिड भी मिला है।
मेक्सिको के घने जंगलों में ताजा खोज अभियान के दौरान विशेषज्ञों को माया सभ्यता का एक खोया हुआ शहर मिला है। यह शहर 1000 साल पुराना है और इसमें एक 50 फीट ऊंचा पिरामिड भी मिला है। यही नहीं, इसमें एक प्राचीन स्पोर्ट पिच भी मिली है। इस वशिाल शहर को देखकर दुनियाभर के विशेषज्ञ हैरान हैं। माना जा रहा है कि आने वाले समय में इस शहर से माया सभ्यता के खात्मे के बारे कई अहम जानकारी मिल सकती है।
पिरामिड जैसी संरचनाएं, भव्य इमारतें कर देंगी हैरान
माया शहर में कई पिरामिड जैसी संरचनाएं, भव्य इमारतों के साथ तीन प्लाजा और कई पत्थर के स्तंभ और बेलनाकार संरचनाएं मिली हैं। इनको देखकर लग रहा है कि यह कभी हजारों लोगों का घर था। अनुमान है कि पिरामिडों में से एक तो 82 फीट ऊंचा था और आसपास के जंगल के ऊपर दिखाई देता था। इस खोज में कई ऊंची वेदियां और सबसे अहम एक प्राचीन खेल मैदान भी शामिल है, जिसका उपयोग धार्मिक समारोहों के लिए किया जाता था। यह माया बस्ती 250 ईस्वी और 1000 ईस्वी के बीच की है। प्रमुख पुरातत्वविद इवान स्प्रैज ने कहा कि ये शहर समय के साथ खो गए थे और कोई भी उनका सही स्थान नहीं जानता था।
माया सभ्यता के लोगों ने बनाया था पहला बॉल गेम
माया लोगों को पहला बॉल गेम बनाने का श्रेय दिया जाता है, यही वजह है कि शहर में एक बड़ा कोर्ट था। इमारतों में पाए गए मिट्टी के बर्तनों और चीनी मिट्टी की वस्तुओं जैसे कलाकृतियों के विश्लेषण के आधार पर बताया कि इस पुरास्थल का पतन 800 से 1000 ईस्वी के बीच हुआ होगा। इस क्षेत्र के कई माया समाज 10वीं शताब्दी के दौरान ढह गए और सदियों तक खोजे नहीं गए।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments