आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की द्वादशी तिथि रात 08:43 बजे तक तदुपरांत त्रयोदशी तिथि प्रारंभ यानी गुरुवार, 18 जुलाई 2024
पेंशन के लिए टूटी कुर्सी के सहारे कई किलोमीटर चलकर बैंक पहुंची 70 साल की बुजुर्गः वित्त मंत्री सीतारमण ने लगाई बैंक को फटकार

प्रशासन

पेंशन के लिए टूटी कुर्सी के सहारे कई किलोमीटर चलकर बैंक पहुंची 70 साल की बुजुर्गः वित्त मंत्री सीतारमण ने लगाई बैंक को फटकार

प्रशासन//Odisha/Bhubaneswar :

निर्मला सीतारमण के शेयर किए वीडियो में ओडिशा के नवरंगपुर में रहने वाली सूर्या हरिजन 17 अप्रैल को कई किलोमीटर पैदल चलकर बैंक जाती नजर आ रही है।

ओडिशा में एक बुजुर्ग महिला को पेंशन लेने के लिए कड़ी धूप में पैदल बैंक तक जाना पड़ा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को महिला का वीडियो शेयर कर बैंक से कहा कि आपको इंसानियत दिखानी चाहिए। ओडिशा के नवरंगपुर में यह घटना 17 अप्रैल को हुई।
वीडियो ओडिशा की 70 साल की सूर्या हरिजन का है, जो टूटी कुर्सी के सहारे कड़ी धूप में पैदल चल रही हैं। उनका बेटा दूसरे राज्य में मजदूरी करता है। वह अपने छोटे बेटे के साथ रहती हैं, जो दूसरों के मवेशियों की देखभाल करता है। वे झोपड़ी में रहती हैं और उनके पास जमीन नहीं है।
वित्त मंत्री ने बैंक से पूछा- कोई बैंक मित्र नहीं है क्या?
महिला का वीडियो सीतारमण ने ट्विटर पर शेयर किया। उन्होंने कहा- हम ये देख रहे हैं कि बैंक मैनेजर इस पर जवाब दे रहे हैं, लेकिन फाइनेंस डिपार्टमेंट और एसबीआई इस मामले पर इंसानियत दिखाते हुए कदम उठाए। क्या आपके पास बैंक मित्र नहीं हैं? बैंक मैनेजर ने जवाब दिया था कि महिला की उंगलियां टूटी हुई हैं और इसी वजह से उसे पैसा निकालने में दिक्कत आ रही है। हम यह समस्या जल्द ही सुलझा लेंगे।
बैंक ने 3 ट्वीट कर कहा- हम भी दुखी हैं
वित्त मंत्री के ट्वीट के बाद एसबीआई ने 3 ट्वीट किए। एसबीआई ने लिखा- यह वीडियो देखकर हमें भी दुख हो रहा है। बुजुर्ग सूर्या हरिजन हर महीने अपने गांव में स्थित एसबीआई पॉइंट से पेंशन निकाल लेती थीं। बुजुर्ग होने के चलते उनके फिंगर प्रिंट मैच नहीं कर रहे हैं।
मैनेजर ने दिया जवाब
वो अपने रिश्तेदार के साथ झारीगांव स्थित हमारी ब्रांच पर गई थीं। हमारे मैनेजर ने उन्हें तुरंत उनके अकाउंट से पैसा निकाल कर दिया। बैंक मैनेजर ने हमें यह बताया कि अब हर महीने उन्हें उनके घर पर पेंशन मिल जाएगी। हमने इस बुजुर्ग को एक व्हील चेयर देने का फैसला भी किया है। इधर, झारीगांव के सरपंच का कहना है कि इस तरह के लोगों की सूची बनाई जा रही है और उन्हें भी घर पर पेंशन उपलब्ध करवाई जाएगी।
ऑनलाइन ट्रांसफर होती है पेंशन 
पहले पेंशन नकद दी जाती थी, लेकिन अब खातों में पैसा ऑनलाइन ट्रांसफर किया जा रहा है। बैंक ने बताया कि कभी-कभी ऐसी स्थिति आ जाती है कि फिंगर प्रिंट मेल नहीं खाते हैं, जिसके चलते पेंशन राशि देने में समस्या आती है। इसके चलते ही सूर्या को पिछले 4 महीने से पेंशन नहीं मिली थी।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments