CM केजरीवाल को कल गिरफ्तार कर सकती है CBI NDA के स्पीकर पद के उम्मीदवार ओम बिरला ने पीएम मोदी से मुलाकात की दिलेश्वर कामत जेडीयू संसदीय दल के नेता होंगे पूर्व फुटबॉलर बाइचुंग भूटिया ने राजनीति छोड़ी, सिक्किम चुनाव में हार के बाद फैसला घाटकोपर होर्डिंग केस: IPS कैसर खालिद सस्पेंड, उनकी इजाजत पर लगा था होर्डिंग पुणे पोर्श कांड: आरोपी नाबालिग को हिरासत से रिहा किया गया लोकसभा के 7 सांसदों ने नहीं ली शपथ, कल स्पीकर चुनाव में नहीं कर सकेंगे मतदान जगन मोहन रेड्डी की पार्टी स्पीकर चुनाव में NDA उम्मीदवार का समर्थन कर सकती है कल सुबह 11 बजे तक के लिए लोकसभा स्थगित स्पीकर चुनाव के लिए बीजेपी ने व्हिप जारी किया, सभी सांसदों को लोकसभा में रहना होगा मौजूद स्पीकर चुनाव: कांग्रेस का व्हिप जारी, कल सभी सांसदों को लोकसभा में मौजूद रहने को कहा आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के कृष्णपक्ष की पंचमी तिथि रात 08:54 बजे तक यानी बुधवार, 26 जून 2024 Jaipur: मैसर्स तंदूरवाला में कार्रवाई के दौरान पायी गयीं भारी अनियमितताएं..लाइसेंस, साफ़ सफाई सहित अन्य दस्तावेज मिले नदारद मायावती का भतीजे आकाश आनंद पर उमड़ा प्रेम, 47 दिन पुराने फैसले को पलट बनाया राष्ट्रीय संयोजक राजस्थान में आषाढ़ माह के चौथे दिन मेवाड़ में छाये बादल, मौसम विभाग भी बोला मानसून का हो गया प्रवेश
पहले अंबानी और अब टाटा...आखिर कौन हैं एनविडिया ! जिसके पीछे पड़ी हैं दुनियाभर की कंपनियां, चीन भी जोड़ रहा हाथ

बिजनेस

पहले अंबानी और अब टाटा...आखिर कौन हैं एनविडिया ! जिसके पीछे पड़ी हैं दुनियाभर की कंपनियां, चीन भी जोड़ रहा हाथ

बिजनेस//Maharashtra/Mumbai :

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने हाल ही में अमेरिकी चिप मेकिंग कंपनी एनविडिया के साथ हाथ मिलाया है। अब खबर आ रही है कि टाटा भी इस कंपनी के साथ डील करने जा रही है। इस कंपनी की दुनियाभर में बड़ी डिमांड है। चीनी कंपनियां भी इस कंपनी के पीछे है।

आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) और सेमीकंडक्टर की ओर भारत तेज रफ्तार से बढ़ रहा है। बीते कुछ सालों से भारत में सेमीकंडक्टर की डिमांड से लेकर उसके प्रोडक्शन पर लगातार जोर दिया जा रहा है। देश की बड़ी कंपनियों ने इस दिशा में काम करना शुरू कर दिया है। इसी का नतीजा है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज के बाद अब टाटा समूह ने भी इस ओर अपने कदम बढ़ा दिए हैं। हाल ही में रिलायंस ने अमेरिकी चिप कंपनी एनविडिया के साथ पार्टनरशिप की है। वहीं, अब टाटा ने भी अमेरिकी चिप कंपनी एनविडिया के साथ बातचीत चल रही है। रॉयटर्स के मुताबिक टाटा समूह आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस को लेकर एनविडिया से बातचीत कर रहा है। आज उस कंपनी के बारे में जिसके पीछे रिलायंस, टाटा से लेकर दुनिया की तमाम कंपनियां पड़ी हैं।
क्यों इस कंपनी के पीछे पड़े हैं सब
रिलायंस ग्रुप ने अपने जियो प्लेटफॉर्म के लिए एआई क्लाउड इंफ्रास्ट्रक्चर लाने के लिए चिप मेकिंग कंपनी एनविडिया के साथ साझेदारी की है। इस कंपनी के चिप की दुनियाभर में डिमांड है। चीन समेत दुनियाभर के देशों में एनविडिया की चिप की मांग बढ़ रही है। इस कंपनी की लोकप्रियता का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि माइक्रोसॉफ्ट और गूगल जैसी दुनिया की बड़ी-बड़ी टेक कंपनियां भी एनवीडिया से अपने लिए चिप चाहती हैं। इन कंपनियों में सेमीकंडक्टर चिप को लेकर होड़ मची रहती है। अमेरिका के बाहर भी इस कंपनी की भारी डिमांड है। अमेरिका के अलावा सऊदी अरब और यूएई की कंपनियां भी एनवीडिया से चिप खरीदने के लिए बेताब रहती हैं।
चीन भी पीछे पड़ा

सिर्फ अमेरिया या अरब देश ही नहीं चीन जो कि खुद को तकनीक का मास्टर समझता है, वहां की कंपनियां भी अमेरिकी चिप कंपनी से डील के लिए बेताब रहती है। एनविडिया की चिप की चीन की कंपनियों में भारी डिमांड है। चीन की कंपनियां टेंसेट और अलीबाबा भी एआई चिप के लिए एनवीडिया के दरवाजे पर खड़ी हैं। हालांकि अमेरिका और चीन के बीच तनावपूर्ण रिश्तों के बीच अमेरिकी सरकार ने एनवीडिया समेत अमेरिकी कंपनियों को चीन में एआई चिप का निर्यात बंद करने का आदेश दिया।
कौन हैं एनविडिया
एनविडिया अमेरिका बेस्ड दिग्गज चिप कंपनी है। इस कंपनी की शुरुआत साल 1993 में हुई थी। भारत में इस कंपनी ने 2004 से कारोबार करना शुरू किया। यह कंपनी खास तरह की चिप बनाती है। ये चिप ऑटोमेटिव और मोबाइल कंप्यूटिंग मार्केट में इस्तेमाल होती है। चिप के अलावा गेमिंग इंडस्ट्री और प्रोफेशनल मार्केट के लिए यह ग्राफिक्स प्रोसेसिंग यूनिट्स भी तैयार करती है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के सेक्टर में यह कंपनी तेजी से बढ़ रही है। भारत में कंपनी के चार इंजीनियरिंग डवलपमेंट सेंटर्स हैं, जो गुरुग्राम, हैदराबाद, पुणे और बेंगलूरु में है। भारत में इस कंपनी के 3800 कर्मचारी काम करते हैं।
कौन है कंपनी के फाउंडर
एनवीडिया की नींव जेनसन हुआंग ने की थी। उनका जन्म साल 1963 में ताइवान में हुआ था। ताइवान और थाईलैंड में बचपन बिताने के बाद साल 1973 में वो अमेरिका आ गए। यहीं, उन्होंने साल 1993 अपनी कंपनी एनवीडिया की शुरुआत की। उन्होंने अपने दम पर एनवीडिया को 1.199 ट्रिलियन डॉलर के मार्केट कैप के साथ दुनिया की छठी कंपनी बना दी। हुआंग 43.2 अरब डॉलर के नेटवर्थ के साथ दुनिया के अमीरों की लिस्ट में 27वें नंबर पर हैं। एआई का चलन बढ़ने से फिर कंपनी के शेयरों में तेजी आ रही है।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments