पंजाब में कांग्रेस को बड़ा झटका, तेजिंदर सिंह बिट्टू कांग्रेस छोड़ थामेंगे BJP का दामन एलन मस्क का भारत दौरा फिलहाल टला, 21-22 अप्रैल को आने वाले थे टेस्ला के सीईओ ओडिशा नाव हादसे में 4 की डूबकर मौत, रेस्क्यू टीमें 7 लापता लोगों की कर रहीं खोज आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह 10 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे बैतूल: ट्रक की टक्कर से पलटी सुरक्षाकर्मियों से भरी बस, चुनाव ड्यूटी करके लौट रहे थे जवान केरल में त्रिशूर पूरम उत्सव का जश्न, लोगों ने की आतिशबाजी पाकिस्तान को बड़ा झटका, अमेरिका ने बैलिस्टिक मिसाइल प्रोग्राम के लिए आपूर्ति करने वाली 4 कंपनियों पर लगाया प्रतिबंध पीएम नरेंद्र मोदी आज कर्नाटक के बेंगलुरु और चिक्काबल्लापुरा में करेंगे जनसभा को संबोधित अमेरिका के ग्रीनबेल्ट स्थित पार्क में गोलीबारी, हाईस्कूल के पांच छात्र घायल आज महाराष्ट्र में नांदेड़ और परभणी में पीएम मोदी की रैली, करेंगे जनसभा को संबोधित कांग्रेस नेता राहुल गांधी आज 20 अप्रैल को भागलपुर में करेंगे रैली प्रियंका गांधी आज 20 अप्रैल को करेंगी केरल का दौरा IPL 2024: लखनऊ ने घरेलू मैदान में चेन्नई को हराया पहले चरण में रात 9 बजे तक 62.37% वोटिंग, 102 सीटों पर हुआ चुनाव ईरान-इजरायल तनाव: ग्लोबल स्तर पर सोने की कीमतों में 1.5 फीसद का उछाल पश्चिम बंगाल: कूच बिहार के चंदामारी में मतदान केंद्र के सामने पथराव आज है विक्रम संवत् 2081 के चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि रात 10:41 बजे तक यानी शनिवार 20 अप्रेल 2024
114 लड़ाकू विमान की विदेशी डील कैंसिल... अब इस सरकारी कंपनी से होगी खरीद

सेना

114 लड़ाकू विमान की विदेशी डील कैंसिल... अब इस सरकारी कंपनी से होगी खरीद

सेना/वायुसेना/Delhi/New Delhi :

वायुसेना के लिए 114 मल्टी रोल फाइटर एयरक्राफ्ट की विदेशी कंपनी से खरीद को कैंसिल कर दिया है। अब ये फाइटर एयरक्राफ्ट देश की सरकारी कंपनी से ही खरीदे जाएंगे। इसके लिए 50,000 करोड़ की सीसीएस मंजूरी दी गई है।

रक्षा मंत्रालय ने वायुसेना के लिए 114 मल्टी रोल फाइटर एयरक्राफ्ट की विदेशी कंपनी से खरीद को कैंसिल कर दिया है। अब ये खरीद सरकारी कंपनी से ही होगी। दरअसल, रक्षा मंत्रालय ने फाइटर एयरक्राफ्ट की डील के लिए एफआरआई को रद्द कर दिया है। विदेशी लड़ाकू जेट आयात करने के बजाय वायुसेना एचएएल की ओरका परियोजना का समर्थन करेगा। सूत्रों के अनुसार इस परियोजना के लिए 50,000 करोड़ की सीसीएस मंजूरी दी गई है।
मेक इन इंडिया को मिलेगा बूस्ट
यह खरीद ‘मेक इन इंडिया’ को एक बड़ा बढ़ावा देगी क्योंकि विमान को एचएएल के अलावा कई स्थानीय विक्रेताओं की भागीदारी के साथ स्वदेशी रूप से डिजाइन, विकसित और निर्मित किया जाएगा। अधिकांश उपकरण और सिस्टम स्वदेशी निर्माताओं से प्राप्त होने के कारण ये लड़ाकू विमान सरकार की मेक इन इंडिया पहल के अनुरूप आत्मनिर्भर भारत स्कीम को बढ़ावा देंगे।
पहले विदेशी विक्रेताओं से की बातचीत
सरकारी सूत्रों के मुताबिक हाल ही में, भारतीय वायु सेना ने विदेशी विक्रेताओं के साथ बैठक की और उनसे मेक इन इंडिया परियोजना को अंजाम देने के तरीके के बारे में पूछा। योजना के मुताबिक शुरुआती 18 विमान आयात करने के बाद अगले 36 लड़ाकू जेट्स देश में ही बनाए जाने की योजना थी। इन फाइटर जेट्स की कीमत फॉरेन और इंडियन करेंसी दोनों में की जानी थी।
भारतीय पार्टनर की जिम्मेदारी
आखिरी 60 फाइटर जेट्स की जिम्मेदारी भारतीय पार्टनर की थी, जिसके लिए सरकार केवल भारतीय मुद्रा में पेमेंट करने वाली थी। इसके पीछे वजह है कि इस कदम से प्रोजेक्ट में शामिल वेंडर्स को 60 फीसदी से अधिक ‘मेक-इन-इंडिया’ सामग्री हासिल करने में मदद मिलेगी। दरसल सरकार मेक इन इंडिया को अधिकतर सेक्टर्स में बढ़ावा दे रही है। सरकार को उम्मीद है कि इस कदम से सेक्टर को आगे बढ़ने में मदद मिलेगी। वहीं, सरकार के आत्मनिर्भर भारत को भी इससे बल मिलेगा। बीते कुछ सालों मे सरकार ने कई सेक्टर्स में मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने के लिए पीआईएल समेत कई तरह की इंसेटिव्स की घोषणा भी की है। वहीं, अब कई विदेशी कंपनियां भी भारत सरकार की इन स्कीम्स का लाभ उठाकर भारत में कारोबार कर रही है।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments