भारत ने जिम्बाब्वे को आखिरी टी-20 मैच में 42 रनों से हराया और 4-1 की जीत के साथ शृंखला पर कब्जा जमाया केंद्रीय वित्त मंत्रालय की मंजूरी से महिला आईआरएस अधिकारी पुरुष बनी..! अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर भाषण के दौरान चली गोलियां, बाल-बाल बचे..सुरक्षा अधिकारियों ने हमलावरों को किया ढेर आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की अष्ठमी तिथि सायं 05:26 बजे तक तदुपरांत नवमी तिथि प्रारंभ यानी रविवार, 14 जुलाई 2024
‘पीएम श्री’ के लिए फंड जारी, बदलेगी स्कूलों की तस्वीर

एजुकेशन, जॉब्स और करियर

‘पीएम श्री’ के लिए फंड जारी, बदलेगी स्कूलों की तस्वीर

एजुकेशन, जॉब्स और करियर/सरकारी/Delhi/New Delhi :

इस स्कीम का पूरा नाम है, ‘प्रधानमंत्री स्कूल्स फॉर राइजिंग इंडिया’। प्रधानमंत्री ने पिछले साल शिक्षक दिवस के मौके पर इस स्कीम की घोषणा की थी। इस योजना के अनुसार 14 हजार 500 स्कूलों को अपग्रेड किया जाएगा। इनमें प्राथमिक से लेकर बारहवीं कक्षाओं तक के स्कूल में शामिल होंगे। इन स्कूलों को इस तरह अपडेट किया जाएगा जिससे ये अन्य के लिए मॉडल बन सके।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) को लागू हुए तीन साल पूरे हो गए हैं। इस मौके पर 29 जुलाई, 2023 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के प्रगति मैदान में स्थित भारत मंडपम में अखिल भारतीय शिक्षा समागम सत्र का उद्घाटन किया। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा, एनईपी का लक्ष्य देश को रिसर्च और का इनोवेशन का केंद्र बनाना है। इसके साथ ही, पीएम मोदी ने आगे कहा कि यह शिक्षा ही है, जो देश की किस्मत बदलने की ताकत रखती है। 
यह बोले केंद्रीय शिक्षा मंत्री 
इस मौके पर केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा, पीएम मोदी के नेतृत्व में एनईपी 2020 21वीं सदी के भारत के लिए बेहद महत्वपूर्ण तत्व है। इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने ‘पीएम श्री योजना’ के तहत धन की पहली किस्त जारी कर दी है। इस योजना के तहत स्कूलों का कायाकल्प किया जाएगा। 
क्या है पीएम श्री स्कीम 
पीएम श्री योजना का पूरा नाम है ‘प्रधानमंत्री स्कूल्स फॉर राइजिंग इंडिया’। प्रधानमंत्री ने पिछले साल शिक्षक दिवस के मौके पर इस स्कीम की घोषणा की थी। इस योजना के अनुसार, 14 हजार 500 स्कूलों को अपग्रेड किया जाएगा। इनमें प्राथमिक से लेकर बारहवीं कक्षाओं तक के स्कूल में शामिल होंगे। इन स्कूलों को इस तरह अपडेट किया जाएगा, जिससे ये अन्य के लिए रोल मॉडल के रुप में विकसित किया जा सके। इसका पहले चरण में योजना को 5 सालों के लिए (2022-2027) लागू किया जाएगा। वहीं, इस योजना का कुल अनुमानित बजट 27 हजार 360 करोड़ रुपये है।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments