आज है विक्रम संवत् 2081 के वैशाख माह के शुक्लपक्ष की चतुर्दशी तिथि सायं 06:47 बजे तक बुधवार 21 मई 2024
सत्तारूढ़ पार्टी के खिलाफ एकजुट सभी विपक्षी दलों की महाबैठक संपन्न, एक दूसरे को समझाने और साथ रहने की अपील

आगामी लोकसभा चुनाव-2024 की रणनीति तय करने के लिए विपक्षी दलों की महाबैठक

राजनीति

सत्तारूढ़ पार्टी के खिलाफ एकजुट सभी विपक्षी दलों की महाबैठक संपन्न, एक दूसरे को समझाने और साथ रहने की अपील

राजनीति//Bihar/Patna :

बिहार की राजधानी पटना में शुक्रवार (23 जून) को विपक्षी दलों की भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ आगामी लोकसभा चुनाव-2024 की रणनीति तय करने के लिए महाबैठक हुई। इस महाबैठक में 15 राजनीतिक दलों के 30 से अधिक विपक्षी नेताओं ने शिरकत की। विपक्षी दलों का महामंथन करीब 4 घंटे चला।बैठक के बाद सबने मिलकर एक साझा प्रेस वार्ता रखी थी लेकिन जैसे ही प्रेस वार्ता का समय आया, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन वहां से नदारद हो गए । 

विपरीत विचारधारों और नीतियों वाले अलग अलग दलों के सुप्रीम नेता इस बैठक में पहुंचे ,तो एक दूसरे के प्रति ऐतराज़ और मनमुटाव थे, जैसे कांग्रेस और आप पार्टी के मतभेदों को अलग रखने की राय देते हुए शरद पवार ने अपना और उद्धव ठाकरे का उदहारण दिया तो वही ममता बनर्जी ने भी कहा कि सबको बड़ा दिल करना पड़ेगा वर्ना आपस की लड़ाई से बीजेपी को ही फ़ायदा होगा। 

महाबैठक में पहुंचे कई बड़े नेता 
 इस बैठक में शामिल होने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान, झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन, कांग्रेस नेता राहुल गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव समेत 15 विपक्षी दलों के नेता बैठक में शामिल होने के लिए पहुंचे हैं। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ये बैठक 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले विपक्ष को एकजुट करने के लिए बुलाई थी। 

नीतीश को विपक्ष का संयोजक बनाने पर सहमति
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को विपक्ष का संयोजक बनाने पर करीब-करीब सभी दलों ने सहमति जताई। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, 'सभी दलों को एक होकर चुनाव लड़ना है। किसी भी दल को खुद को बड़ा नहीं समझना चाहिए। न्यूनतम साझा कार्यक्रम (common minimum program) बनाने पर सभी दलों में सहमति बनी है। 

महाबैठक के बाद प्रेस वार्ता में किस नेता ने क्या बोला, आइये बताते हैं -

एनसीपी प्रमुख शरद पवार
इस बैठक के बाद एनसीपी प्रमुख शरद पवार (NCP Chief Sharad Pawar) ने कहा, 'उद्धव ठाकरे और हम बीते 25 सालों से एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ रहे थे, मगर सब कुछ भूलकर हम साथ आए।' 

नीतीश कुमार 
इस बैठक में बिहार सीएम नीतीश कुमार ने पहले बोलना शुरू किया है। उन्होंने कहा कि, अच्छी मुलाकात है। हम इतिहास की लड़ाई लड़ रहे हैं। हम सब साथ रहेंगे। बीजेपी को 100 सीटों पर रोकेंगे। 

राहुल गाँधी 
विपक्षी दलों की संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में राहुल गांधी ने भी अपने विचार रखे। उन्होंने कहा, कि 'यह विचारधारा की लड़ाई है। बीजेपी और आरएसएस आक्रमण कर रहे हैं। राहुल बोले, इस वक्त हिंदुस्तान की नींव पर आक्रमण हो रहा है।' 

ममता बनर्जी
वेस्ट बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि, 'हम सभी दल एक हैं। पटना में बैठक रखने का ये प्रस्ताव मैंने ही नीतीश जी को दिया था। ऐसा इसलिए क्योंकि पटना से जो आंदोलन शुरू होता है वो विशाल रूप लेता है। ये इतिहास रहा है।

लालू यादव 
राष्ट्रीय जनता दल प्रमुख लालू यादव ने कहा कि, सीटों की संख्या पर राज्य स्तर पर ही समझौता हो जाना चाहिए। लालू यादव ने सभी नेताओं से मुलाकात की। सभी नेताओं ने उनकी तबीयत को लेकर हाल चाल जाना। लालू प्रसाद यादव ने सबसे विदाई ली और चले गए।

'शिमला में हो सकती है एक और बैठक'
कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि 'विपक्षी दलों की अगली मीटिंग 12 जुलाई को होगी।' मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि, पटना में विपक्ष की बैठक के बाद शिमला में इस बैठक का अगला चरण होगा।


 

You can share this post!

author

सौम्या बी श्रीवास्तव

By News Thikhana

Comments

Leave Comments