आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की द्वादशी तिथि रात 08:43 बजे तक तदुपरांत त्रयोदशी तिथि प्रारंभ यानी बुधवार, 18 जुलाई 2024
जेएलएफ में ग्लोबल जिओपॉलिटिक्स पर होगी चर्चा: तनाव के बीच भारत-चीन के संबंधों होगी चर्चा

एजुकेशन, जॉब्स और करियर

जेएलएफ में ग्लोबल जिओपॉलिटिक्स पर होगी चर्चा: तनाव के बीच भारत-चीन के संबंधों होगी चर्चा

एजुकेशन, जॉब्स और करियर//Rajasthan/Jaipur :

भारत-चीन सीमा पर बने तनाव को लेकर रिश्तों में आई तल्खी की खबरों के बीच जयपुर में फॉरेन अफेयर विशेषज्ञ और वरिष्ठ अधिकारी बात करते नजर आएंगे। जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में इस बार ग्लोबल जिओपॉलिटिक्स पर भी चर्चा होगी। जेएलएफ का 16वां संस्करण 19 से 23 जनवरी तक आयोजित किया जाएगा।

जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में एक सत्र भारत-चीन के सम्बन्धों पर आधारित रहेगा। भारत-चीन के आपसी रिश्तों पर बातचीत करने के लिए देश-दुनिया के विशेषज्ञ मौजूद रहेंगे। इस सत्र में पत्रकार और कमेंटेटर मनोज जोशी, भूतपूर्व विदेश सचिव व चीन के राजदूत विजय गोखले और भूतपूर्व विदेश सचिव श्याम सरन चर्चा करेंगे। इनके साथ पत्रकर और विदेश नीति की एक्सपर्ट सुहासिनी हैदर संवाद करेंगी। सत्र के दौरान जोशी एलएसी से जुड़े अनसुलझे तनाव पर बात करेंगे। एक अन्य सत्र में सरन यूएन रेजिडेंट कॉर्डिनेटर फॉर इंडिया शोम्बी शार्प, लेखक त्शेरिंग ताशी, भारत और भूटान में यूरोपियन यूनियन के एम्बेसडर उगो अस्तुतो, भूतपूर्व आईएफएस ऑफिसर और एम्बेसडर लक्ष्मी पुरी और लेखक अवय शुक्ल जलवायु संकट पर बात करेंगे। सत्र के दौरान एक्सपर्ट पैनल मौजूदा हालात और सस्टेनेबल डवलपमेंट, क्लाइमेट प्रोग्रेस, क्लाइमेट जस्टिस और भविष्य की संभावनाओं पर चर्चा करेंगे।
समुद्रीय शासन व्यवस्था, चुनौतियों, संसाधन और सुरक्षा के उपायों पर चर्चा
फेस्टिवल में सरन भूतपूर्व आईएफएस ऑफिसर और एम्बेसडर लक्ष्मी पुरी, अकादमिक और पर्यावरणविद जैसन स्कोर्स और भूतपूर्व राजनयिक नवदीप सूरी से संवाद करेंगे। एक सत्र ‘गवर्निंग द डेप्थः द पॉलिटिक्स ऑफ द ओसियन’ में जिओपॉलिटिकल एक्सपर्ट्स का एक ग्रुप मौजूदा समुद्रीय शासन व्यवस्था, चुनौतियों, संसाधन और सुरक्षा के उपायों पर चर्चा करेगा। चीन पर बारीकी से नजर रखने वाले भारत के तीन प्रतिष्ठित विशेषज्ञ तानसेन सेन, अरूणाचल प्रदेश के भूतपूर्व गवर्नर जेजे सिंह और भारत के भूतपूर्व विदेश सचिव श्याम सरन भविष्य की संभावनाओं पर विचार करेंगे। सत्र संचालन इतिहासकार और फेस्टिवल डायरेक्टर विलियम डेलरिम्पल करेंगे।
डिजिटल युग और हमारे आदर्शों में तकनीक के योगदान पर चर्चा
एक सत्र ‘द ग्रेट गेम ऑफ टेक मोरालिटी’ में अकादमिक और लेखक टोबी वाल्श और टेक उद्यमी व लेखक अनिरूद्ध सूरी के साथ पत्रकार प्रवीण स्वामी संवाद करेंगे। सत्र में सूरी की नई किताब ‘द ग्रेट टेक गेम: शेपिंग जिओपॉलिटिक्स एंड द डेस्टिनी ऑफ नेशंस’ पर चर्चा करते हुए डिजिटल युग और हमारे आदर्शों में तकनीक के योगदान पर प्रकाश डालेंगे। एक अन्य सत्र में पत्रकार और कमेंटेटर मनोज जोशी, पत्रकार निष्ठा गौतम और अकादमिक, पत्रकार और विदेश नीति विशेषज्ञ सी. राजा मोहन से भारत में विषम परिस्थितियों में राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीति पर चर्चा करेंगे। वे भारत में कोविड महामारी के बाद उपजे संकट और वर्तमान में दुनिया पर छाए आर्थिक संकट पर चर्चा करेंगे।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments