आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की द्वादशी तिथि रात 08:43 बजे तक तदुपरांत त्रयोदशी तिथि प्रारंभ यानी गुरुवार, 18 जुलाई 2024
हीटवेव : आसमान बरसा रहा आग, झुलसाती गर्मी और लू के थपेड़ों से ऐसे करें खुद की हिफाजत

झुलसाती गर्मी और लू के थपेड़ों से ऐसे करें खुद की हिफाजत

स्वास्थ्य

हीटवेव : आसमान बरसा रहा आग, झुलसाती गर्मी और लू के थपेड़ों से ऐसे करें खुद की हिफाजत

स्वास्थ्य //Rajasthan/Jaipur :

देश इस वक्त भीषण गर्मी के चपेट में है।  सूरज आग उगल रहा है। राजधानी जयपुर भी तप रही है ,रविवार को यहां का अधिकतम तापमान 44.4 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया, जो इस सीजन में अब तक का सबसे अधिक है, राजधानी  के कई इलाकों में तापमान 47 डिग्री को पार कर चुका है।  मौसम विभाग के अनुसार, अगले एक सप्ताह तक गर्मी से राहत मिलने की उम्मीद नहीं है, क्योंकि राजस्थान से आ रही गर्म हवाएं देश की दिल्ली को और भी झुलसाएंगी। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने दिल्ली के कई इलाकों में लू चलने की भविष्यवाणी की है और रेड अलर्ट जारी किया है।  

भीषण गर्मी के बीच मौसम अधिकारियों ने लोगों को सतर्क रहने की चेतावनी दी है और बच्चों, बुजुर्गों और पुरानी बीमारियों वाले लोगों सहित कमजोर लोगों को ज्यादा ख्याल रखने को कहा है। 

हीटवेव जानलेवा हो सकती है 

दिल्ली हीटवेव पर एम्स के मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर डॉ. नीरज निश्चल ने कहा, जब हम हीट स्ट्रोक कहते हैं तो इसका मतलब है कि मरीज बेहोश हो गया है या उस मरीज का सेंसोरियम ठीक नहीं है और मरीज के शरीर का तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से अधिक हो गया है और मल्टीऑर्गन डिसफंक्शन हो सकता है यदि शरीर के तापमान को तुरंत कम नहीं किया गया तो परेशानी बढ़ सकती है और इसीलिए जब तापमान बढ़ता है और विशेष रूप से जब मौसम विभाग घोषणा करता है कि गर्मी की लहर शुरू हो गई है तो हमें बहुत सावधान रहना चाहिए। 

कैसे करें बचाव

पानी: भरपूर मात्रा में पानी पीते रहें, भले ही आपको प्यास न लगे। पानी शरीर को हाइड्रेटेड रखने और गर्मी से होने वाली बीमारियों से बचाने में मदद करता है। 

कपड़े: ढीले-ढाले, हल्के रंग के सूती कपड़े पहनें।  गहरे रंग गर्मी को सोखते हैं, जबकि हल्के रंग इसे परावर्तित करते हैं। 

छाया: जब भी संभव हो, छाया में रहें।  तेज धूप से बचें, खासकर सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे के बीच धूप में न जाएं।  यदि आपको बाहर काम करना है, तो नियमित रूप से ब्रेक लें और छाया में आराम करें। 

घर को ठंडा रखें: दिन के समय खिड़कियों और दरवाजों को बंद कर पर्दे लगाएं। पंखे और एयर कंडीशनर का उपयोग करें। 

भोजन: हल्का और पौष्टिक भोजन खाएं।  तले हुए और मसालेदार भोजन से बचें। 

हीट स्ट्रोक होने पर क्या करें:

किसी व्यक्ति को अगर हीट स्ट्रोक हो जाए तो उसे तुरंत ठंडी, छायादार जगह पर ले जाएं। यदि संभव हो तो, उन्हें ठंडे पानी से नहलाएं या स्पंज करें। उनके सिर, गर्दन, बगल और कमर पर ठंडे, गीले कपड़े या आइस पैक लगाएं। उन्हें पंखे या एयर कंडीशनर के सामने रखें। व्यक्ति को धीरे-धीरे ठंडा पानी या इलेक्ट्रोलाइट युक्त पेय पिलाएं।उन्हें ज़्यादा तेज़ी से या ज़्यादा मात्रा में तरल पदार्थ न दें, क्योंकि इससे उल्टी हो सकती है। 

यदि व्यक्ति बेहोश है या उसे दौरे पड़ रहे हैं, तो तुरंत 108 पर कॉल करें। यदि व्यक्ति सचेत है, लेकिन लक्षण गंभीर हैं या जल्दी से सुधार नहीं हो रहे हैं, तो उन्हें जल्द से जल्द डॉक्टर के पास ले जाएं। 

You can share this post!

author

सौम्या बी श्रीवास्तव

By News Thikhana

Comments

Leave Comments