जुलाई के अंत में BJP शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों और उपमुख्यमंत्रियों की होगी मीटिंग- सूत्र उत्तराखंड में मॉनसून अलर्ट, बारिश की संभावना, यात्रियों को सतर्क रहने की चेतावनी J-K: डोडा जिले में आधी रात सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच हुई गोलीबारी, सेना शुरू की तलाशी बिहार: सारण जिले के रसूलपुर में ट्रिपल मर्डर, 2 नाबालिग बेटी और पिता की चाकू मारकर हत्या बांग्लादेश: नौकरियों में आरक्षण का विरोध, 6 प्रदर्शनकारियों की मौत, स्कूल-कॉलेज बंद आज से अपना राजनीतिक दौरा शुरू करेंगी शशिकला केजरीवाल की जमानत अर्जी पर आज अदालत में जवाब दाखिल कर सकती है CBI CM योगी आज मंत्रियों के साथ करेंगे मीटिंग, विधानसभा उपचुनाव को लेकर होगी चर्चा ध्य प्रदेश के चर्चित जस्टिस रोहित आर्य ने भाजपा का दामन थामा प्रशिक्षु आईएएस पूजा खेडकर के विरुद्ध सख्ती, ट्रेनिंग रद्द कर वापस भेजा गया मसूरी अकादमी..! बदले में पूजा ने पुणे डीएम पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप हरभजन, युवराज सिंह और रैना मुश्किल में, पैरा एथलीट्स का उड़ाया था मजाक..FIR दर्ज आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की दशमी तिथि रात 08:33 बजे तक तदुपरांत एकादशी तिथि प्रारंभ यानी मंगलवार, 16 जुलाई 2024
रीसाइक्लिंग की चैंपियन थी हीराबा..... माँ की यादें प्रधानमंत्री के ब्लॉग से 

श्रद्धांजलि

रीसाइक्लिंग की चैंपियन थी हीराबा..... माँ की यादें प्रधानमंत्री के ब्लॉग से 

श्रद्धांजलि//Rajasthan/Jaipur :

अपनी मां को उनके 'शानदार' जीवन जी कर शतकवीर मान हीराबेन को पीएम मोदी ने ट्विटर पर भावभीनी श्रद्धांजलि पोस्ट की, जिसमें उन्होंने लिखा कि उनके 100वें जन्मदिन पर जब वह उनसे मिले, तो मां ने उनसे कहा कि 'बुद्धि के साथ काम करें और पवित्रता के साथ जीवन जिएं' इसे वह कभी नहीं भूल पाएंगे।

 माँ की लम्बी उम्र का राज़ 
प्रधानमंत्री मोदी ने बताया था इतनी उम्र के बावजूद मां हीराबेन को किसी तरह कोई बीमारी नहीं थी। वह अपने सारे काम खुद ही किया करती थीं। उनके स्वस्थ और लंबे जीवन का राज पीएम मोदी के ब्लॉग से जाना जा सकता है। जिसे उन्होंने अपनी मान के १०० वर्ष पूरे होने पर लिखा  था।

यह भी पढ़ें :

पहली गुरु और मित्र को खोना अपूरणीय क्षति, हीरा बा के जाने से दुख में डूबा देश, मित्र विरोधियों सबने जताई शोक संवेदना 

रीसाइक्लिंग की चैंपियन मां
बारिश में उनके घर में जगह जगह से पानी टपकता था,पूरे घर में पानी ना भर जाए और घर की दीवारों को नुकसान ना पहुंचे इसलिए मां जमीन पर बर्तन रख दिया करती थीं। छत से टपकता हुआ पानी उसमें इकट्ठा होता रहता था। बाद में उसी पानी को मां घर के काम के लिए अगले 2-3 दिन तक इस्तेमाल करती थीं। जल संरक्षण का इससे अच्छा उदाहरण क्या हो सकता है।       

यह भी पढ़ें :

हीराबा अनंत में विलीन... पीएम मोदी ने दी मां को मुखाग्नि, पार्थिव देह के साथ शव वाहन में ही बैठे रहे

पीएम ने अपने ब्लॉग में लिखा था कि घर सजाने का,घर को सुंदर बनाने का भी बहुत शौक था। घर सुंदर दिखे, साफ दिखे, इसके लिए वो दिन भर लगी रहती थीं। वो घर के भीतर की जमीन को गोबर से लीपती थीं। उपलों पर खाना बनाने के कारण निकलते धुंए कि वजह से घर कि दीवारें काली हो जाती थीं  तो हर छह हफ्तों में मां उन दीवारों की भी पुताई कर दिया करती थीं। इससे घर में एक नयापन सा आ जाता था। मां मिट्टी की बहुत सुंदर कटोरियां बनाकर भी उन्हें सजाया करती थीं।मां अक्सर पुराने कागजों को भिगोकर, उसके साथ इमली के बीज पीसकर एक पेस्ट जैसा बना लेती थीं, बिल्कुल गोंद की तरह। फिर इस पेस्ट से वो दीवारों पर शीशे के टुकड़े चिपकाकर बहुत सुंदर चित्र बनाया करती थीं। पुरानी चीजों को रीसायकिल करने की हम भारतीयों में जो आदत है, मां उसकी भी चैंपियन रही हैं।

यह भी पढ़ें :

नहीं रहीं भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन, अहमदाबाद के लिए रवाना हुए पीएम

 

You can share this post!

author

सौम्या बी श्रीवास्तव

By News Thikhana

Comments

Leave Comments