CM केजरीवाल को कल गिरफ्तार कर सकती है CBI NDA के स्पीकर पद के उम्मीदवार ओम बिरला ने पीएम मोदी से मुलाकात की दिलेश्वर कामत जेडीयू संसदीय दल के नेता होंगे पूर्व फुटबॉलर बाइचुंग भूटिया ने राजनीति छोड़ी, सिक्किम चुनाव में हार के बाद फैसला घाटकोपर होर्डिंग केस: IPS कैसर खालिद सस्पेंड, उनकी इजाजत पर लगा था होर्डिंग पुणे पोर्श कांड: आरोपी नाबालिग को हिरासत से रिहा किया गया लोकसभा के 7 सांसदों ने नहीं ली शपथ, कल स्पीकर चुनाव में नहीं कर सकेंगे मतदान जगन मोहन रेड्डी की पार्टी स्पीकर चुनाव में NDA उम्मीदवार का समर्थन कर सकती है कल सुबह 11 बजे तक के लिए लोकसभा स्थगित स्पीकर चुनाव के लिए बीजेपी ने व्हिप जारी किया, सभी सांसदों को लोकसभा में रहना होगा मौजूद स्पीकर चुनाव: कांग्रेस का व्हिप जारी, कल सभी सांसदों को लोकसभा में मौजूद रहने को कहा आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के कृष्णपक्ष की पंचमी तिथि रात 08:54 बजे तक यानी बुधवार, 26 जून 2024 Jaipur: मैसर्स तंदूरवाला में कार्रवाई के दौरान पायी गयीं भारी अनियमितताएं..लाइसेंस, साफ़ सफाई सहित अन्य दस्तावेज मिले नदारद मायावती का भतीजे आकाश आनंद पर उमड़ा प्रेम, 47 दिन पुराने फैसले को पलट बनाया राष्ट्रीय संयोजक राजस्थान में आषाढ़ माह के चौथे दिन मेवाड़ में छाये बादल, मौसम विभाग भी बोला मानसून का हो गया प्रवेश
खालिस्तानियों से यारी पड़ रही भारी ! कनाडा में भुखमरी...70 लाख लोगों की प्लेटें खाली

राजनीति

खालिस्तानियों से यारी पड़ रही भारी ! कनाडा में भुखमरी...70 लाख लोगों की प्लेटें खाली

राजनीति/// :

कनाडा में खाने-पीने की समस्या बढ़ गई है, जहां 70 लाख से अधिक लोग गरीबी में जी रहे हैं। फूड बैंक्स कनाडा की रिपोर्ट के मुताबिक, 18 फीसदी जनसंख्या खाद्य संकट से पीड़ित है। नोवा स्कोशिया राज्य में स्थिति सबसे खराब है, जहां लोगों के पास खाने की उपलब्धता नहीं है। फूड बैंक्स के सीईओ के अनुसार, कनाडा सरकार गरीबी को दूर करने में विफल रही है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कनाडा के लोग अपने घर के लिए अधिकतम इनकम का 30 फीसदी खर्च कर रहे हैं।

कनाडा के प्रधानमंत्री खालिस्तानियों से दोस्ती निभाने में जुटे हैं। खालिस्तान के लिए उनका प्रेम ऐसा है कि वो न तो अपना घर संभाल पा रहे हैं और न ही मित्र देशों से दोस्ती निभा पा रहे हैं। जो भारत कनाडा का मित्र राष्ट्र हुआ करता था, आज उनसे खुद इस दोस्ती के रिश्ते में दरार डाल दी है। खालिस्तान को लेकर कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो का ये प्रेम अब उनपर ही भारी भर रहा है। ताजा रिपोर्ट ट्रूडो की टेंशन बढ़ा देगी। इस रिपोर्ट ने कनाडा की पोल दुनियाभर के सामने खोल दी है।
भुखमरी के कगार पर कनाडा
कनाडा फूड बैंक ने अपनी रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोर्ट के मुताबिक कनाडा के लगभग 70 लाख लोगों के पास खाने-पीने का संकट है। फूड बैंक्स कनाडा ने अपनी रिपोर्ट में कनाडा की पोल खोल दी है। इस रिपोर्ट के मुताबिक 42 फीसदी से अधिक आबादी पिछले साल की तुलना में आर्थिक तौर से कमजोर हुई है। कनाडा के लोग फूड इनसिक्योरिटी से जूझ रहे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक कनाडा के 18 फीसदी लोग फूड इनसिक्योरिटीज से जूझ रहे हैं।
गरीबी में जी रहे कनाडाई लोग
फूड बैंक्स की रिपोर्ट के मुताबिक कनाडा के 28 लाख कनाडाई गरीबी रेखा से नीचे जी रहे हैं। कनाडा के लोगों के सामने भुखमरी, बेरोजगारी का संकट मंडरा रहा है। वहां गरीबी, भुखमरी और बेरोजगारी के आंकड़ों में बीते कुछ सालों में बड़ा उछाल आया है। फूड बैंक्स कनाडा ने अपनी रिपोर्ट में कई ऐसे खुलासे किए हैं, जो हैरान करने वाले है। एक तरफ वहां के पीएम जस्टिन ट्रूडो खालिस्तानियों से दोस्ती निभाने में जुटे हैं तो वहीं दूसरी ओर देश के लोगों की हालात खराब होती जा रही है।
70 लाख लोगों के पास खाने का संकट
फूड बैंक्स कनाडा की रिपोर्ट के मुताबिक कनाडा में 28 लाख लोग गरीबी में जी रहे है। 70 लाख से अधिक लोगों के पास खाने-पीने का संकट आ खड़ा हुआ है। कनाडा की 18 फीसदी जनसंख्या खाद्य संकट से जूझ रही है। कनाडा के स्टेट नोवा स्कोशिया की हालात सबसे ज्यादा खराब है। रिपोर्ट के मुताबिक वहां गरीबी में जी रहे लोगों के पास खाने तक की उपलब्धता नहीं है। 
कनाडा की सरकार गरीबी से निपटने में फेल
फूड बैंक कनाडा के सीईओ कर्स्टन बियर्डस्ले ने कहा कि कनाडा की सरकार गरीबी से निपटने में पूरी तरह से फेल रही है। अपनी रिपोर्ट में फूड बैंक्स ने ट्रूडो सरकार की तुलना पिछली चार सरकारों से की है। रिपोर्ट के मुताबिक कनाडा के लोगों को अपने घर के लिए अपनी इनकम का 30 फीसदी से अधिक खर्च करना पड़ रहा है। जिसकी वजह से इस कैटेगरी में कनाडा को डी रैंक दिया गया है। रिपोर्ट में फूड बैंक ने गरीबी, भूखमरी, बेरोजगारी के मामले में कनाडा को डी प्लस की रैंकिंग दी है।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments