भारत ने जिम्बाब्वे को आखिरी टी-20 मैच में 42 रनों से हराया और 4-1 की जीत के साथ शृंखला पर कब्जा जमाया केंद्रीय वित्त मंत्रालय की मंजूरी से महिला आईआरएस अधिकारी पुरुष बनी..! अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर भाषण के दौरान चली गोलियां, बाल-बाल बचे..सुरक्षा अधिकारियों ने हमलावरों को किया ढेर आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की अष्ठमी तिथि सायं 05:26 बजे तक तदुपरांत नवमी तिथि प्रारंभ यानी रविवार, 14 जुलाई 2024
जापान में रात को भी साथ नहीं सोते पति-पत्नीः अलग रखते हैं बिस्तर लेकिन कारण जानकर हैरान हो जाएंगे..!

अजब-गजब

जापान में रात को भी साथ नहीं सोते पति-पत्नीः अलग रखते हैं बिस्तर लेकिन कारण जानकर हैरान हो जाएंगे..!

अजब-गजब//Rajasthan/Jaipur :

क्या आप जानते हैं, जापान में पति-पत्नी अलग-अलग बिस्तर पर ही सोते हैं।

शादी के बाद दो लोग, जो अब तक अलग-अलग तरीकों से जिंदगी बिता रहे थे, एक साथ एक ही छत के नीचे रहने लगते हैं। उन्हें एक साथ एक कमरे में रहना पड़ता है। अगर इनमें से कोई एक किसी और कमरे में सोने लगे, तो मान लिया जाता है कि दोनों में अनबन हुई है। जापान में जोड़े कमरे में तो सोते हैं लेकिन एक बिस्तर पर नहीं, अलग-अलग बिस्तर पर। 
अगर आपको ऐसा लग रहा है कि जापान में कपल को एक-दूसरे से प्यार नहीं होता, तो आप गलत हैं। जापानी लोग आपस में प्यार होने के बाद भी रात को एक साथ नहीं सोते। दरअसल, रिश्ते को और मजबूत करने के लिए कपल ऐसा करता है। आज हम आपको वो तीन मुख्य कारण बताते हैं, जिसकी वजह से जापानी कपल अलग-अलग सोते हैं।
सोने और उठने का अलग समय
जापान में कपल एक-दूसरे की अच्छी नींद की काफी कद्र करते हैं। अगर दोनों में से किसी को पहले जागना है तो वो दूसरे की नींद खराब नहीं करेगा। ऐसे में दोनों अलग-अलग सोकर एक-दूसरे को पर्याप्त नींद लेने का पूरा समय देते हैं। उन्हें पता है कि एक अच्छी नींद फिजिकल और मेन्टल हेल्थ के लिए कितनी जरुरी है।
बच्चे सोते हैं मां के साथ
जापान में बच्चे मां के साथ सोते हैं। ये काफी जरूरी है क्यूंकि ऐसा माना जाता है कि मां के साथ की अचानक मौत होने वाले रिस्क को कम किया जा सकता है। साथ ही, बच्चों के दिल की धड़कन भी इससे रेगुलेट होती है। 
अलग सोना यानी शांति
जापान में अलग सोना यानी शांति। भले ही सारी दुनिया को ऐसा लगे कि अलग सोने वाले कपल के बीच प्यार नहीं होता लेकिन जापान में इसे क्वालिटी स्लीप से जोड़ा जाता है। जापानी नहीं चाहते कि उनके कमरे में होने से उनके पार्टनर की नींद में खलल पड़े। इस कारण वो पहले ही अलग सोने लगते हैं। अलग सोने के कारण नींद पूरी ना हो पाने के कारण चिड़चिड़ाहट की आशंका नहीं रहती। इससे परिवार में भी मनमुटाव की बजाय शांति बनी रहती है।
 

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments