आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की द्वादशी तिथि रात 08:43 बजे तक तदुपरांत त्रयोदशी तिथि प्रारंभ यानी बुधवार, 18 जुलाई 2024
आ गए आईआईटी-जेईई मेन्स के नतीजे: तीनों टाॅपर कोटा की कोचिंग से 

एजुकेशन, जॉब्स और करियर

आ गए आईआईटी-जेईई मेन्स के नतीजे: तीनों टाॅपर कोटा की कोचिंग से 

एजुकेशन, जॉब्स और करियर/सरकारी/Delhi/New Delhi :

कोटा की एक कोचिंग के स्टूडेंट नीलकृष्ण ने ऑल इंडिया टॉप किया है। वह दो साल से कोटा में तैयारी कर रहे थे। वहीं, दूसरी रैंक हासिल करने वाले दक्षेस संजय मिश्रा व रैंक चार पर आए आदित्य कुमार भी कोटा की कोचिंग से ही हैं। 

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने 24 अप्रैल की देर रात तकरीबन 11 बजकर 30 मिनट पर जेईई मेन्स-2024 सेशन 2 का रिजल्ट जारी कर दिया। वे उम्मीदवार जिन्होंने इंजीनियरिंग कोर्स में एडमिशन के लिए जॉइंट एंट्रेंस टेस्ट मेन्स सेशन-2 दिया था, ऑफिशियल वेबसाइट पर अपना स्कोर कार्ड देख सकते हैं।
2 लड़कियों ने हासिल किया 100 परसेंटाइल
इस बार अब तक का रिकॉर्ड तोड़ते हुए सबसे ज्यादा 56 स्टूडेंट्स ने 100 परसेंटाइल हासिल किया। इनमें कर्नाटक की सानवी जैन और दिल्ली की शायना सिन्हा, दो लड़कियां भी शामिल हैं। पिछली बार 43 स्टूडेंट्स ने 100 परसेंटाइल हासिल किया था। तब सिर्फ एक छात्रा को 100 परसेंटाइल मिला था।
तेलंगाना के 15 स्टूडेंट्स को 100 परसेंटाइल
राज्यवार 100 परसेंटाइल में सबसे अधिक तेलंगाना के 15, आंध्र प्रदेश व महाराष्ट्र के 7-7, दिल्ली से 6, राजस्थान से 5, कर्नाटक से 3, तमिलनाडु, गुजरात, हरियाणा से 2-2, उत्तर प्रदेश व बिहार से 1-1 छात्र शामिल हैं।
इस बार 2.45 मार्क्स अधिक था कटऑफ
इस बार जेईई मेन्स के अप्रैल सेशन के लिए सामान्य श्रेणी का कटऑफ परसेंटाइल 2023 की तुलना में 2.45 अंक ज्यादा रहा। हालांकि, सामान्य श्रेणी के लिए चुने गए छात्रों की संख्या पिछली बार से 1261 कम है। इस बार जेईई एडवांस्ड के लिए क्वालिफाइंग परसेंटाइल पांच साल का सबसे ज्यादा रहा है।
100 परसेंटाइल से 93.23 के बीच सामान्य श्रेणी के 97,351 छात्र चुने गए हैं। 100 परसेंटाइल पाने वाले छात्रों में 6 ईडबल्यूएस श्रेणी से हैं, जिनमें 4 तेलंगाना व 2 आंध्र प्रदेश के हैं।
13 भाषाओं में हुई थी परीक्षा, विदेश में भी थे सेंटर्स
जेईई 13 भाषाओं हिंदी, असमिया, बांग्ला, अंग्रेजी, गुजराती, कन्नड़, मलयालम, मराठी, उड़िया, पंजाबी, तमिल, तेलुगु और उर्दू में हुई थी। परीक्षा 319 शहरों के 571 केंद्रों पर आयोजित की गई थी। इनमें भारत के बाहर 22 सेंटर केप टाउन, दोहा, दुबई, मनामा, ओस्लो, सिंगापुर, कुआलालंपुर, लागोस/अबूजा, जकार्ता, वियना, मॉस्को और वॉशिंगटन डीसी में भी बनाए गए थे।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments