CM केजरीवाल को कल गिरफ्तार कर सकती है CBI NDA के स्पीकर पद के उम्मीदवार ओम बिरला ने पीएम मोदी से मुलाकात की दिलेश्वर कामत जेडीयू संसदीय दल के नेता होंगे पूर्व फुटबॉलर बाइचुंग भूटिया ने राजनीति छोड़ी, सिक्किम चुनाव में हार के बाद फैसला घाटकोपर होर्डिंग केस: IPS कैसर खालिद सस्पेंड, उनकी इजाजत पर लगा था होर्डिंग पुणे पोर्श कांड: आरोपी नाबालिग को हिरासत से रिहा किया गया लोकसभा के 7 सांसदों ने नहीं ली शपथ, कल स्पीकर चुनाव में नहीं कर सकेंगे मतदान जगन मोहन रेड्डी की पार्टी स्पीकर चुनाव में NDA उम्मीदवार का समर्थन कर सकती है कल सुबह 11 बजे तक के लिए लोकसभा स्थगित स्पीकर चुनाव के लिए बीजेपी ने व्हिप जारी किया, सभी सांसदों को लोकसभा में रहना होगा मौजूद स्पीकर चुनाव: कांग्रेस का व्हिप जारी, कल सभी सांसदों को लोकसभा में मौजूद रहने को कहा आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के कृष्णपक्ष की पंचमी तिथि रात 08:54 बजे तक यानी बुधवार, 26 जून 2024 Jaipur: मैसर्स तंदूरवाला में कार्रवाई के दौरान पायी गयीं भारी अनियमितताएं..लाइसेंस, साफ़ सफाई सहित अन्य दस्तावेज मिले नदारद मायावती का भतीजे आकाश आनंद पर उमड़ा प्रेम, 47 दिन पुराने फैसले को पलट बनाया राष्ट्रीय संयोजक राजस्थान में आषाढ़ माह के चौथे दिन मेवाड़ में छाये बादल, मौसम विभाग भी बोला मानसून का हो गया प्रवेश
खालिस्तानियों के लिए भारत से पंगा: हमारी सेना के आगे कहां ठहरता है कनाडा

राजनीति

खालिस्तानियों के लिए भारत से पंगा: हमारी सेना के आगे कहां ठहरता है कनाडा

राजनीति///Otawa :

कनाडा अब भारत के खिलाफ मोर्चाबंदी पर उतर आया है। खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या को लेकर भारत पर शक जताते हुए उसने एक भारतीय राजदूत को अगले कुछ दिनों में देश छोड़ने का आदेश दे दिया। भारत ने भी जवाबी कार्रवाई में ऐसा ही कदम उठाया। राजदूतों को हटाना काफी बड़ी बात है, जो अक्सर युद्ध के हालातों में होता है। लेकिन क्या होगा अगर दोनों देशों के बीच सैन्य तनाव आ जाए?

कनाडा में भारत के बाद सबसे बड़ा सिख समुदाय है। ऐसे में होना तो यह चाहिए था कि दोनों देशों के रिश्ते और मजबूत होते, लेकिन खालिस्तानों को लेकर मौजूदा कनाडाई सरकार के नरम रवैये ने रिश्ते में खटास ला दी। खालिस्तानी लगातार भारत को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं, जबकि ट्रूडो सरकार उन्हें समर्थन दे रही है। कूटनीतिक स्तर पर दोनों ताकतवर देशों का एक-दूसरे के टॉप डिप्लोमेट्स को हटाना काफी बड़ा कदम माना जा रहा है।
कनाडा के पास कितनी मिलिट्री
कनाडा को अमेरिका और ब्रिटेन जैसे मजबूत देशों का साथ मिला हुआ है, यही वजह है कि उसने कभी अपनी सैन्य ताकत पर खास खर्च नहीं किया। दोनों ही वर्ल्ड वॉर के दौरान कई उतार-चढ़ाव से गुजरने के बाद आखिरकार 1968 में जो फोर्स बनी, उसे कनाडियन आर्म्ड फोर्स कहा गया। बाकी देशों की तरह इसके भी 3 हिस्से हैं, जो जमीन, पानी और हवा में लड़ने के लिए प्रशिक्षित हैं। आर्मी की ताकत का अंदाजा लगाने वाले ग्लोबल फायरपावर इंडेक्स 2023 के अनुसार, सैन्य ताकत के मामले में भारत दुनिया में चैथे स्थान पर है, जबकि कनाडा की आर्मी 20वीं सबसे बड़ी आर्मी है।
सैन्य ताकत के मामले में कहां है कनाडा?
हमारे पास करीब 1.4 मिलियन सैनिक हैं। इसकी तुलना में कनाडा में केवल साढ़े 71 हजार सोल्जर्स हैं। इसमें भी सिर्फ 23 हजार फुल टाइम सैनिक हैं, जबकि बाकी जरूरत पड़ने पर काम करते हैं। ये डेटा कनाडाई सरकार खुद देती है। 
नहीं मिल रहे भर्ती के लिए लोग 
भारत अपनी सेना पर इस साल लगभग 69 बिलियन डॉलर खर्च कर रहा है, जबकि कनाडा की सरकार अपनी जीडीपी का काफी छोटा हिस्सा लगभग 36.7 बिलियन डॉलर सैन्य खर्चों पर देती है। इस देश के साथ एक दिक्कत ये भी है कि यहां सेना में भर्ती के लिए लोग नहीं मिल रहे। यहां तक कि ट्रूडो सरकार ने पिछले साल गैर-कनाडाई लोगों से भी मिलिट्री में भर्ती की अपील की थी। जो भी युवा 10 सालों से कनाडा में हैं, वे सेना में भर्ती के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसी से अंदाजा लगा सकते हैं कि सैन्य ताकत के मामले में कनाडा भारत की तुलना में कितना पीछे है। 
परमाणु ताकत के लिए नाटो के भरोसे है कनाडा
परमाणु हथियारों से भी किसी देश की ताकत का अंदाजा लगता है। भारत के पास एडवांस न्यूक्लियर वेपन हैं, जबकि कनाडा में अस्सी के दशक से इस दिशा में कोई काम नहीं हुआ। कोल्ड वॉर के दौरान नाटो की संधि के तहत परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर कर दिया। इस नियम के तहत कनाडा जैसा विकसित देश भी घातक वेपन्स के बगैर रह रहा है। संधि में ये जिक्र है कि अगर कनाडा पर कोई खतरा होगा तो बाकी परमाणु शक्ति संपन्न देश उसकी मदद करेंगे। 
कूटनीति के मामले में कौन कहां पर
सैन्य पावर के साथ-साथ डिप्लोमेटिक ताकत के मामले में भी कनाडा कुछ पीछे हो चुका। अमीर देश होने की वजह से पहले इसके पास अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस और जापान जैसे देशों का साथ था। लेकिन अब केमिस्ट्री कुछ बदल चुकी है, जिसकी झलक भारत में जी20 के दौरान भी दिखी। खालिस्तानी मुद्दे पर भारत ने वहां के पीएम ट्रूडो को घेरे रखा। बाकी देश इस पर चुप रहकर एक तरह से मेजबान भारत का सपोर्ट करते रहे। तो इस तरह से देखा जाए तो डिप्लोमेटिक फ्रंट पर भी कनाडा कुछ कमजोर पड़ा हुआ है। 
क्या अकेले युद्ध जीत सकता है कनाडा
युद्ध का इतिहास देखें तो भी कनाडा उतना मजबूत नहीं दिखेगा। भारत जहां अपने बूते कई जंग जीत चुका, वहीं कनाडा ने ब्रिटेन की सेना के साथ मिलकर ही लड़ाइयां कीं। कई पीस मिशन्स के तहत वो अलग-अलग देशों में अमेरिका के काउंटर-पार्ट की तरह काम करता रहा। इस देश का मामला उस साइड हीरो की तरह है, जिसकी फिल्म किसी न किसी वजह से हिट हो जाए और वो खुद को सफल मान बैठे। वैसे तो आमतौर पर उन्हीं देशों के बीच युद्ध होता है, जिनकी सीमाएं साझा हों। लेकिन एक्सट्रीम हालातों में दूर-दराज के देश भी आपस में लड़ पड़ते हैं। भारत और कनाडा के मामले में अगर ऐसा हुआ, जिसकी संभावना बहुत कम है, तो भारत उसपर हावी रहेगा, जब तक कि कनाडा को बाहरी मदद न मिले। जैसे भारत की तरक्की से परेशान देश कनाडा के मददगार हो सकते हैं। 

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments