ध्य प्रदेश के चर्चित जस्टिस रोहित आर्य ने भाजपा का दामन थामा प्रशिक्षु आईएएस पूजा खेडकर के विरुद्ध सख्ती, ट्रेनिंग रद्द कर वापस भेजा गया मसूरी अकादमी..! बदले में पूजा ने पुणे डीएम पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप हरभजन, युवराज सिंह और रैना मुश्किल में, पैरा एथलीट्स का उड़ाया था मजाक..FIR दर्ज आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की दशमी तिथि रात 08:33 बजे तक तदुपरांत एकादशी तिथि प्रारंभ यानी मंगलवार, 16 जुलाई 2024
ईरान के राष्ट्रपति की मौत हादसा या साजिश? इजरायल-मोसाद को लेकर हो रहे दावे

राजनीति

ईरान के राष्ट्रपति की मौत हादसा या साजिश? इजरायल-मोसाद को लेकर हो रहे दावे

राजनीति//Delhi/New Delhi :

ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी की मौत कई सवाल छोड़ गई है। इस हादसे में ईरान के विदेश मंत्री हुसैन अमीर-अब्दुल्लाहियन समेत हेलीकॉप्टर में सवार अन्य लोगों की भी जान चली गई।

ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी की हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मौत हो गई। उनका हेलीकॉप्टर रविवार को दुर्घटनाग्रस्त हुआ था, लेकिन राष्ट्रपति की मौत की पुष्टि सोमवार को हेलीकॉप्टर का मलबा मिलने के बाद हुई। इस हादसे को लेकर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स और सोशल मीडिया पर कई जगह दावा किया जा रहा है कि इसके पीछे इजरायल की एजेंसी मोसाद का हाथ हो सकता है।
कैसे और कहां हुआ हादसा?
ये हादसा रविवार को उस वक्त हुआ था जब इब्राहिम रईसी का हेलीकॉप्टर अजरबैजान बॉर्डर इलाके से लौट रहा था। उनके काफिले में कुल 3 हेलीकॉप्टर थे। बाकी के दोनों हेलीकॉप्टर सुरक्षित हैं। सिर्फ रईसी का हेलीकॉप्टर ही हादसे का शिकार हुआ है। बताया जा रहा है कि रईसी का हेलीकॉप्टर अच्छी स्थिति में था। ऐसे में इसके क्रैश होने को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं।
इजरायल का हाथ होने की कही जा रही बात
इसके अलावा इजरायल और ईरान में हाल ही के दिनों में पैदा हुई तनातनी के बीच इस हादसे का होना, संदेह के घेरे में है। ईरान की ओर से इजरायल विरोधियों को लगातार मदद भी दी जा रही है। हाल ही में सीरिया में ईरान की एंबेसी पर इजरायल ने हमला किया था, जिसके बाद ईरान ने भी इजरायल पर कई मिसाइलें दागी थीं। इसलिए इस हादसे को इजराइल से जोड़कर भी देखा जा रहा है।
अजरबैजान और इजरायल में हैं अच्छे संबंध
एक और बात ये भी है कि इजरायल अक्सर अपने दुश्मनों को विदेशी जमीन पर मारने की साजिश रचता है। इजराइल की खुफिया एजेंसी मोसाद ऐसे ऑपरेशन को अंजाम देती है। इसके अलावा अजरबैजान और इजरायल के राजनयिक संबंध भी काफी अच्छे हैं। वहीं, ईरान और अजरबैजान के बीच समय-समय पर तल्खी देखी गई है, जिसका कारण भी इजरायल ही रहा है।
अंदरूनी राजनीति या अमेरिका तो नहीं वजह?
इजरायल का हाथ होने के अलावा ईरान की अंदरूनी राजनीति और अमेरिका से उसकी दुश्मनी की भी चर्चा तेज है। अमेरिका ने ईरान का परमाणु कार्यक्रम रोकने के लिए कई तरह के प्रतिबंध पर भी लगाए हुए हैं। बीते कुछ सालों में अमेरिका ने ईरान को कई जख्म दिए हैं। साल 2020 में ईरान के लोगों के लिए हीरो माने जाने वाले जनरल कासिम सुलेमानी की एक अमेरिकी ड्रोन हमले में मौत हो गई थी।
मोहम्मद मोखबर कार्यवाहक राष्ट्रपति नियुक्त
अब राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी की मौत भी कई तरह के सवाल छोड़ गई है। अभी तक हेलीकॉप्टर का ब्लैक बॉक्स भी नहीं मिला है। ब्लैक बॉक्स मिलने पर ही अब कुछ तस्वीर साफ हो पाएगी। इस बीच ईरान के सर्वोच्च नेता ने राष्ट्रपति रईसी के निधन के बाद प्रथम उपराष्ट्रपति मोहम्मद मोखबर को देश का कार्यवाहक राष्ट्रपति नियुक्त किया है।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments