आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की द्वादशी तिथि रात 08:43 बजे तक तदुपरांत त्रयोदशी तिथि प्रारंभ यानी गुरुवार, 18 जुलाई 2024
सुरंगों में छिपे हमास आतंकियों के प्राण सोख लेगा इजरायल का स्पंज बम 

सेना

सुरंगों में छिपे हमास आतंकियों के प्राण सोख लेगा इजरायल का स्पंज बम 

सेना///Tel Aviv :

इजरायल गाजा पट्टी में हमास के खिलाफ जमीनी हमला शुरू करने से पहले अपनी तैयारियों को पुख्ता करने में जुटा है। इसमें हमास के उन सुरंगों के खिलाफ भी विशेष रणनीति शामिल है, जिसका इस्तेमाल हमास के आतंकवादी करते हैं। इजरायल इन सुरंगों के खिलाफ अपने सीक्रेट वेपन को इस्तेमाल करने जा रही है।

हमास के हमले के बाद से ही इजरायल गाजा पट्टी में जमीनी सैन्य कार्रवाई की तैयारी में है। इस कार्रवाई में इजरायल के सामने सबसे बड़ी बाधा गाजा में जमीन के नीचे बनीं हमास की गुप्त सुरंगे हैं। हमास ने इन सुरंगों में एक अलग ही दुनिया बसा रखी है। इन सुरंगों में हमास के सैन्य ठिकानें बने हुए हैं। जिनमें हथियारों से लेकर लड़ाकों के रहने की हर एक सुख सुविधाएं मौजूद हैं। 

<

How a sponge bomb works, but in tunnels. pic.twitter.com/XrOsoRhhc7

— Ðoge Hippie (@dogehippie) October 28, 2023

> हमास ने इन सुरंगों में तेल और अनाज का विशाल भंडार भी बना रखा है। ऐसे में इजरायली सेना हमास के इन सुरंगों में छिपे आतंकियों के खिलाफ अपना खास हथियार इस्तेमाल करने की तैयारी कर रही है। इस हथियार को बोलचाल की भाषा में स्पंज बम कहा जाता है, जो सुरंगों में छिपे हमास आतंकवादियों के प्राण सोख लेगा।
स्पंज बम का परीक्षण कर रहा इजरायल
एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इजरायली सेना अपने नए गु्प्त हथियार का परीक्षण कर रही है, जो सुरंगों के रास्तों को बंद करने के लिए फोम की मोटी परत पैदा करता है। स्पंज बम के विस्फोट से निकला फोम इतना विशाल होगा कि यह सुरंग के रास्ते को पूरी तरह से बंद कर देगा। इससे सुरंग के अंदर हवा तक नहीं जा सकेगी। अगर दुश्मन अंदर से बंदूक या बम से इस फोम को काटने की कोशिश करेगा, तब भी वह कामयाब नहीं हो सकेगा। आईडीएफ यानी इजरायली सेना ने स्पंज बम के उपयोग पर आधिकारिक तौर पर कोई टिप्पणी नहीं की है, हालांकि कहा जाता है वे वर्तमान में इस हथियार का परीक्षण कर रहे हैं।
2021 से स्पंज बम का इस्तेमाल कर रहा इजरायल
आईडीएफ सैनिकों को पहली बार 2021 में स्पंज बम का उपयोग करते हुए देखा गया था। तब इजरायली सैनिक गाजा की सीमा के करीब त्जेश्एलिम सेना अड्डे पर अपनी नकली सुरंग प्रणाली के अंदर अभ्यास कर रहे थे। सुरंग युद्ध के दौरान ये स्पंज बम बहुत कारगर साबित हो सकते हैं। इससे इजरायली सैनिकों को हमास लड़ाकों के घात लगाकर हमला करने से रोकने की ताकत भी मिलेगी। हमास के आतंकी अक्सर सुरंगों की भुल भुलैया में छिपे रहते हैं। इस बीच जैसे ही उन्हें मौका मिलता है, वे घात लगाकर इजरायली सैनिकों को हमला करते हैं और दोबारा उसमें छिप जाते हैं।
स्पंज बम कितना शक्तिशाली
स्पंज बम एक खास केमिकल से बना हुआ है, जो तेजी से फोम का निर्माण करेगा और समय के साथ यह कठोर हो जाएगा। इससे हमास के लड़ाकों को बाहर निकलने के सभी प्रवेश द्वार बंद हो सकते हैं। स्पंज बम में दो तरल पदार्थों को एक प्लास्टिक के कटेनर के अंदर रखा जाता है। इन्हें एक धातु की शीट से अलग किया जाता है। जैसे ही शीट को अलग करते हैं, ये दोनों तरल पदार्थ आपस में मिलते ही बड़ी मात्रा में फोम पैदा करते हैं।
स्पंज बम इजरायल के लिए भी खतरनाक
स्पंज बम के इस्तेमाल में समस्या यह है कि यह खतरनाक केमिकल से बना हुआ है। इस बम का इस्तेमाल करने के लिए इजरायली सैनिकों को हमास की सुरंगों के अंदर उतरना पड़गा, जहां उन पर हमला भी हो सकता है। ऐसी भी घटनाएं सामने आई हैं, जिनमें कुछ सैनिकों ने कथित तौर पर इसे गलत तरीके से संभालने के कारण अपनी दृष्टि खो दी है। द सन ने इजरायली सेना के डोजियर के हवाले से बताया है कि आईडीएफ हमले में बंकर-बस्टर बमों का इस्तेमाल करने का भी प्लान बना रही है। यह जमीन में कंक्रीट की मोटी परत को आसानी से भेद सकता है।

 

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments