ट्रेनी IAS पूजा खेडकर पर बड़ी कार्रवाई, UPSC ने दर्ज कराया केस NEET पेपर लीक केस: सॉल्वर बनने वाले सभी 4 स्टूडेंट्स को सस्पेंड करेगा पटना AIIMS माइक्रोसॉफ्ट सर्वर ठप: हैदराबाद एयरपोर्ट पर फ्लाइट्स के लिए इंडिगो स्टाफ ने हाथ से लिखे बोर्डिंग पास बिलकिस बानो केस: 2 दोषियों की अंतरिम जमानत याचिका पर विचार करने से SC का इनकार आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की चतुर्दशी तिथि सायं 05:59 बजे तकयानी शनिवार, 20 जुलाई 2024
अल-शिफा अस्पताल में घुसी इजरायली सेना, हमास को सरेंडर करने की चेतावनी, चारों तरफ सड़ रही हैं लाशें

सेना

अल-शिफा अस्पताल में घुसी इजरायली सेना, हमास को सरेंडर करने की चेतावनी, चारों तरफ सड़ रही हैं लाशें

सेना/// :

इजरायली सेना ने दावा किया है कि उसने गाजा के सबसे बड़े अस्पताल अल-शिफा के नीचे चल रहे हमास के सेंटर पर हमला किया है। सेना ने दावा किया कि वो अल-शिफा अस्पताल में दाखिल हो चुकी है। अमेरिका ने इजरायली सेना के दावों का पुष्टि करते हुए बताया कि अस्पताल के नीचे हमास का सेंटर मौजूद है।

इजरायल-हमास के बीच चल रही जंग को एक महीने से अधिक का समय हो गया। लेकिन अभी ये थमने का नाम नहीं ले रहा है। वहीं इजरायली सेना अब ग्राउंड लेवल पर भी हमले को तेज कर दिया है। इसी कड़ी में इजरायली बलों ने बुधवार को कहा कि वे गाजा के सबसे बड़े अस्पताल अल-शिफा में दाखिल हो चुके हैं, जहां हजारों लोग भर्ती हैं। लेकिन उस अस्पताल के नीचे चल रहे संदिग्ध हमास कमांड सेंटर को तबाह कर दिया।

अमेरिका ने इजरायल से बार-बार अल-शिफा अस्पताल की सुरक्षा को लेकर अनुरोध किया है। इजरायली रक्षा बलों ने बताया कि वो अस्पताल के परिसर में दाखिल हो चुके थे। सेना ने एक बयान में कहा, ‘खुफिया जानकारी और आवश्यकता के आधार पर आईडीएफ बल शिफा अस्पताल में एक विशेष क्षेत्र में हमास के खिलाफ एक सटीक और टारगेट अभियान चला रहे हैं।’ संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि अल-शिफा अस्पताल में कम से कम 2,300 मरीज, कर्मचारी और विस्थापित नागरिक अंदर हैं, जो कई दिनों की भीषण लड़ाई और हवाई बमबारी में फंसे हुए हैं।
अस्पताल के अंदर सड़ रही हैं लाशें
प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि अस्पताल के अंदर स्थिति भयावह है। अस्पताल के गलियारों में कई परिवार रह रहे हैं। जहां सड़ती लाशों की दुर्गंध आ रही थी। अस्पताल के निदेशक मोहम्मद अबू सल्मिया ने कहा, “अस्पताल परिसर में शव बिखरे हुए हैं और मुर्दाघर में अब बिजली नहीं है।” उन्होंने कहा, ‘हमें उन्हें सामूहिक कब्र में दफनाने के लिए मजबूर किया गया था।’ उन्होंने अनुमान लगाया कि अब तक 179 शवों को दफनाया जा चुका है, जिनमें सात नवजात शिशु भी शामिल हैं, जिनकी मृत्यु तब हुई जब उनके इनक्यूबेटरों की बिजली बंद कर दी गई।
इजरायली सेना ने दी थी हमास को चेतावनी
हमले से पहले, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने इजरायल से “अस्पताल के संबंध में कम दखल देने वाली कार्रवाई” करने का आग्रह किया था। उन्होंने कहा, “अस्पताल की सुरक्षा की जानी चाहिए।” लेकिन इजरायल ने बार-बार दावा किया है कि हमास के लड़ाके अस्पताल परिसर का इस्तेमाल सैन्य सेवा के लिए कर रहे हैं, जिसके चलते पूरा अस्पताल खतरे में है।  ऑपरेशन के खिलाफ किसी भी प्रतिक्रिया को कम करने का प्रयास करते हुए, आईडीएफ ने कहा कि उसने हमास द्वारा संचालित गाजा में अधिकारियों को 12 घंटे का नोटिस दिया था कि अंदर सैन्य अभियान बंद होना चाहिए।
व्हाइट हाउस ने की इजरायली सेना के दावे की पुष्टि
आईडीएफ ने एक बयान में कहा कि हमास के लड़ाकों ने सैन्य अभियान बंद नहीं किया। दुर्भाग्य से ऐसा नहीं हुआ। अस्पताल में मौजूद सभी हमास आतंकवादियों से आत्मसमर्पण करने का निर्देश दिया था।  इजरायली सेना ने कहा, ‘इरादा’ यह था कि ‘हमास द्वारा मानव ढाल के रूप में इस्तेमाल किए जा रहे नागरिकों को कोई नुकसान न पहुंचे’। हमास जानबूझकर अस्पतालों, स्कूलों और अन्य नागरिक भवनों में अर्धसैनिक संपत्ति और कर्मियों का पता लगाने से इनकार करता है। व्हाइट हाउस ने मंगलवार को कहा कि अमेरिकी खुफिया सूत्रों ने इजरायल के इस दावे की पुष्टि की है कि हमास ने अस्पताल के नीचे एक ऑपरेशनल सेंटर को दबा दिया है।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments