आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह पूर्णिमा तिथि दोपहर 03:46 तक बजे तक यानी रविवार, 21 जुलाई 2024
महज एक चिड़िया से टक्कर... और कबाड़ बन गया 750 करोड़ का एफ-35 फाइटर जेट

सेना

महज एक चिड़िया से टक्कर... और कबाड़ बन गया 750 करोड़ का एफ-35 फाइटर जेट

सेना/वायुसेना//Washington :

दुनिया का सबसे महंगा लड़ाकू विमान एफ-35 ए स्टील्थ फाइटर जेट महज एक चिड़िया से टक्कर होने के बाद कबाड़ में बदल गया। दक्षिण कोरियाई वायु सेना ने पिछले साल एक पक्षी से टकराने के बाद एफ-35 ए स्टील्थ विमान को अब सेवा रिटायर करने के अपने फैसले की घोषणा की है। विमान को बनाने वाली लॉकहीड मार्टिन कंपनी ने लगभग 300 महंगे और जरूरी उपकरणों को नुकसान की बात कहते हुए मरम्मत की लागत उसकी खरीद की कीमत से भी ज्यादा बताई।

दुनिया के सबसे महंगे और आधुनिक लड़ाकू विमान माने जाने वाले एफ-35 ए स्टील्थ फाइटर जेट को महज एक चिड़िया से टक्कर होने के बाद कबाड़ में बदलते देखकर पूरी दुनिया के डिफेंस एक्सपर्ट्स हैरान हैं। दक्षिण कोरियाई वायु सेना ने पिछले साल एक पक्षी से टकराने की घटना में काफी नुकसान होने के बाद एफ-35 ए स्टील्थ विमान को अब सेवा रिटायर करने के अपने फैसले की घोषणा की है। जनवरी 2022 में एक ट्रेनिंग के दौरान एक पक्षी के टकराने के बाद एक दक्षिण कोरियाई एफ-35 ए पायलट को ‘बेली लैंडिंग’ करने के लिए मजबूर होना पड़ा। जिसके कारण इसके उड़ान सिस्टम में खराबी आ गई थी।
10 किलो के ईगल ने टक्कर मारी
‘यूरोएशियन टाइम्स’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक उस समय दक्षिण कोरिया की वायुसेना ने खुलासा किया था कि एफ-35 ए विमान को एक 10 किलो के ईगल ने टक्कर मार दी थी। इस दुर्घटना के कारण हाइड्रोलिक डक्ट और बिजली आपूर्ति केबल क्षतिग्रस्त हो गए। इससे लैंडिंग गियर को चलाने में बाधा पैदा हुई। नतीजतन, विमान को बेली लैंडिंग करनी पड़ी, लेकिन पायलट सुरक्षित रहा। इसके मरम्मत के खर्चों को जानकर दक्षिण कोरिया की एयरफोर्स के होश उड़ गए। विमान को बनाने वाली लॉकहीड मार्टिन कंपनी ने लगभग 300 महंगे और जरूरी उपकरणों को खतरनाक नुकसान की बात कही। कंपनी ने मरम्मत की लागत लगभग 140 अरब वॉन (10.76 करोड़ डॉलर या 900 करोड़ रुपये के बराबर) बताई। जो उसकी खरीद की कीमत करीब 750 करोड़ रुपये से भी ज्यादा है। इसको देखते हुए वायु सेना ने एफ-35 ए को रिटायर कर देने में ही भलाई समझी।
40 एफ-35ए विमानों का एक बेड़ा 
दक्षिण कोरिया की वायु सेना में इस वक्त 40 एफ-35ए विमानों का एक बेड़ा है। वहीं, अमेरिकी विदेश विभाग ने सितंबर 2023 में दक्षिण कोरिया के लिए 25 एफ-35ए लड़ाकू विमानों की 5.06 अरब अमेरिकी डॉलर में बिक्री को मंजूरी दी। नौसेना के विमानवाहक पोत के लिए शॉर्ट-टेकऑफ और वर्टिकल-लैंडिंग वाले एफ-35 के खरीद के संबंध में चर्चा पहले भी हो चुकी है। लेकिन फिलहाल सौदे पर अनिश्चितताएं छाई हुई हैं।
भारत को भी एफ-35 बेचने का इच्छुक
अमेरिका भारत को भी अपना एडवांस फाइटर जेट एफ-35 बेचने का इच्छुक है। इसके लिए अमेरिका की में एक विधेयक भी पेश किया गया था। इसके बाद इस बात की उम्मीद बढ़ने लगी है कि अमेरिका अपने पांचवी पीढ़ी के एफ-22 और एफ-35 जैसे एडवांस फाइटर जेट्स भारत को बेच सकता है। अभी तक ये फाइटर जेट विमान केवल इजरायल, जापान और दक्षिण कोरिया जैसे दुनिया के कुछ चुनिंदा देशों के पास ही हैं।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments