जुलाई के अंत में BJP शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों और उपमुख्यमंत्रियों की होगी मीटिंग- सूत्र उत्तराखंड में मॉनसून अलर्ट, बारिश की संभावना, यात्रियों को सतर्क रहने की चेतावनी J-K: डोडा जिले में आधी रात सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच हुई गोलीबारी, सेना शुरू की तलाशी बिहार: सारण जिले के रसूलपुर में ट्रिपल मर्डर, 2 नाबालिग बेटी और पिता की चाकू मारकर हत्या बांग्लादेश: नौकरियों में आरक्षण का विरोध, 6 प्रदर्शनकारियों की मौत, स्कूल-कॉलेज बंद आज से अपना राजनीतिक दौरा शुरू करेंगी शशिकला केजरीवाल की जमानत अर्जी पर आज अदालत में जवाब दाखिल कर सकती है CBI CM योगी आज मंत्रियों के साथ करेंगे मीटिंग, विधानसभा उपचुनाव को लेकर होगी चर्चा ध्य प्रदेश के चर्चित जस्टिस रोहित आर्य ने भाजपा का दामन थामा प्रशिक्षु आईएएस पूजा खेडकर के विरुद्ध सख्ती, ट्रेनिंग रद्द कर वापस भेजा गया मसूरी अकादमी..! बदले में पूजा ने पुणे डीएम पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप हरभजन, युवराज सिंह और रैना मुश्किल में, पैरा एथलीट्स का उड़ाया था मजाक..FIR दर्ज आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की दशमी तिथि रात 08:33 बजे तक तदुपरांत एकादशी तिथि प्रारंभ यानी मंगलवार, 16 जुलाई 2024
आज से ठीक 25 साल पहले हमारी कल्पना (चावला) ने भरी थी उड़ान अपने सपनों की

श्रद्धांजलि

आज से ठीक 25 साल पहले हमारी कल्पना (चावला) ने भरी थी उड़ान अपने सपनों की

श्रद्धांजलि//Rajasthan/Jaipur :

भारत की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला की जिंदगी से भी इस तारीख का खास रिश्ता है. 19 नवंबर 1997 यानी इसी तारीख को कल्पना ने अपना अंतरिक्ष मिशन शुरू किया. उस समय उनकी उम्र महज 35 साल थी. छह अंतरिक्ष यात्रियों (Passengers) के साथ उन्होंने स्पेस शटल कोलंबिया एसटीएस-87 से उड़ान भरी.उसके बाद इस भारतीय अंतरिक्ष परी ने ‘कल्पना’ की उड़ान को थमने नहीं दिया था।

 

 

 

देश-दुनिया के इतिहास में 19 नवंबर की तारीख तमाम अहम वजह से दर्ज है। भारत की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला की जिंदगी से भी इस तारीख का खास रिश्ता है. कल्पना ने 19 नवंबर, 1997 को ही अपना अंतरिक्ष मिशन शुरू किया था। साल 1947 में भारत-पाकिस्तान का बंटवारा हो चुका था। इस दौरान मुल्तान के रहने वाले बनारसी लाल चावला का परिवार हरियाणा (Haryana) के करनाल में आकर बस गया। बनारसी लाल ने यहां आकर कपड़े बेचना शुरू किया। इसके बाद उन्होंने टायर का बिजनेस किया। उनके चार बच्चे थे। उन्होंने 1 जुलाई 1961 को जन्मी सबसे छोटी बेटी का नाम मोंटो रखा। यही मोंटो आगे चलकर कल्पना चावला नाम से जानी गई यानी अंतरिक्ष में जाने वाली पहली भारतीय महिला..

जब उन्होंने शिक्षा में प्रवेश किया, तो चावला ने अपना नाम खुद चुना। कल्पना नाम का अर्थ "विचार"  है। प्यार से लोग  उन्हें  K.C  भी कहते थे। उन्हें  उड़ना, लंबी पैदल यात्रा, बैक-पैकिंग और पढ़ना अच्छा लगता था। शुरुआत में करनाल से स्कूली पढ़ाई पूरी करने के बाद कल्पना ने पंजाब (Punjab) इंजीनियरिंग कॉलेज से बीटेक किया, फिर एयरोस्पेस में मास्टर्स की पढ़ाई के लिए अमेरिका चली गयीं। वर्ष 1984 में एयरोस्पेस की इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की। फिर एक और मास्टर्स किया और पीएचडी की। वर्ष 1988 में उन्होंने नासा में काम करना शुरू किया और वर्ष 1991 में अमेरिका की नागरिकता मिल गई। इसी साल नासा एस्ट्रोनॉट कॉर्प्स का हिस्सा बनीं। वर्ष 1997 में अंतरिक्ष में जाने का मौका मिला और नासा के स्पेशल शटल प्रोग्राम का हिस्सा बन गयीं।

19 नवंबर 1997  को कल्पना ने अपना अंतरिक्ष मिशन शुरू किया। उस समय उनकी उम्र महज 35 साल थी। छह अंतरिक्ष यात्रियों (Passengers) के साथ उन्होंने स्पेस शटल कोलंबिया एसटीएस-87 से उड़ान भरी। इस मिशन के दौरान कल्पना ने 65 लाख मील का सफर तय किया। 376 घंटे 34 मिनट अंतरिक्ष में बिताये। इसके बाद साल 2003 आया। यह यात्रा कल्पना की दूसरी लेकिन उनके जीवन की अंतिम यात्रा साबित हुई। 01 फरवरी 2003 को कोलंबिया अंतरिक्ष यान पृथ्वी की कक्षा प्रवेश करते ही दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इसमें सवार कल्पना चावला समेत सात अंतरिक्ष यात्रियों (Passengers) की दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु हो गई।

You can share this post!

author

सौम्या बी श्रीवास्तव

By News Thikhana

Comments

Leave Comments