ट्रेनी IAS पूजा खेडकर पर बड़ी कार्रवाई, UPSC ने दर्ज कराया केस NEET पेपर लीक केस: सॉल्वर बनने वाले सभी 4 स्टूडेंट्स को सस्पेंड करेगा पटना AIIMS माइक्रोसॉफ्ट सर्वर ठप: हैदराबाद एयरपोर्ट पर फ्लाइट्स के लिए इंडिगो स्टाफ ने हाथ से लिखे बोर्डिंग पास बिलकिस बानो केस: 2 दोषियों की अंतरिम जमानत याचिका पर विचार करने से SC का इनकार आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की चतुर्दशी तिथि सायं 05:59 बजे तकयानी शनिवार, 20 जुलाई 2024
लोकसभा चुनाव का जनादेश : मजबूत विपक्ष और एनडीए, मोदी लहर की हैट्रिक कमजोर

चुनाव

लोकसभा चुनाव का जनादेश : मजबूत विपक्ष और एनडीए, मोदी लहर की हैट्रिक कमजोर

चुनाव//Delhi/New Delhi :

Lok Sabha Election 2024 : अब इस बार जनता का जनादेश भी वही देखने को मिला है, जहां यह कहा जा सकता है कि एनडीए की जीत हुई है, लेकिन उस जीत में कई सबक भी सिखाए गए हैं। एनडीए ने एक बार फिर लोकसभा चुनाव जीतकर केंद्र में अपनी सरकार बना ली है। उन्होंने जीत की हैट्रिक लगाकर कई रिकॉर्ड भी अपने नाम किए हैं। लेकिन इस बार जनादेश भाजपा से ज्यादा एनडीए के लिए है। इस बार भाजपा को अपने दम पर बहुमत नहीं मिला है, पार्टी को अपने सहयोगी दलों का पूरा समर्थन चाहिए। बड़ी बात यह है कि 10 साल में यह पहली बार है जब एनडीए का आंकड़ा 300 के पार भी नहीं पहुंचा है।

NDA          293   

INDI          232   

OTHERS    18

लोकसभा चुनाव परिणाम विश्लेषण: लोकतंत्र की जीत, भाजपा के लिए सबक

अब इस बार जनादेश भी वही देखने को मिला है, जहां कहा जा सकता है कि एनडीए की जीत हुई है, लेकिन उस जीत में कई सबक भी सिखाए गए हैं। इसी तरह इंडि  गठबंधन को सत्ता से बाहर रखा गया है, लेकिन इतनी ताकत दी गई है कि इस बार विपक्ष की आवाज को दबाया नहीं जाएगा। दरअसल लोकतंत्र के सबसे बड़े पर्व में इस बार लोकतंत्र की जीत हुई है क्योंकि इस बार मजबूत विपक्ष की नींव रखी गई है।

लोकसभा चुनाव परिणाम विश्लेषण: यूपी में अखिलेश राजा, मोदी-योगी पीछे

232 सीटों के साथ,nda गठबंधन इस बार लड़ रहा है। जहां दूसरी ओर 400 से ज्यादा नारे लगाए जा रहे थे, वहीं कई लोग इस तरह के प्रदर्शन से हैरान थे।परिणाम  के  बाद देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में सबसे बड़ी उथल-पुथल मच गई है। इस बार समाजवादी पार्टी ने यूपी में अच्छा प्रदर्शन किया है और एनडीए से ज्यादा सीटें जीती हैं। एक तरफ, अगर एनडीए की संख्या 37 सीटों पर आ गई है, तो इंडि ने 43 सीटें जीती हैं।

उत्तर प्रदेश के लिहाज से यह परिणाम और भी चौंकाने वाला है क्योंकि इस बार चुनाव राम मंदिर निर्माण के बाद हुए थे, ऐसे में माना जा रहा था कि राम लहर का असर बीजेपी के प्रदर्शन पर देखने को मिलेगा। लेकिन बीजेपी इस बार न सिर्फ फैजाबाद सीट हारी है, बल्कि  और आसपास की कई अन्य सीटों पर भी हार का सामना करना पड़ा है, ऐसे में यूपी में मोदी-योगी का डबल इंजन बुरी तरह से आधा हो गया है।

राजस्थान, कांग्रेस से झटका ,भजनलाल फेल

राजस्थान का जनादेश भाजपा के लिए किसी बुरे सपने से कम नहीं है। राज्य में जहां पिछले दो बार से 25 सीटें जीती जा रही थीं, वहां इस बार कांग्रेस ने बड़ा झटका दिया है। राजस्थान में, भाजपा ने केवल 14 सीटें जीतीं, जबकि कांग्रेस ने आठ सीटें जीतीं। इसी तरह गुजरात में भी भाजपा को एक सीट का नुकसान हुआ है। पश्चिम बंगाल के स्विंग स्टेट के नतीजे भी हैरान करने वाले रहे हैं।

संदेशखली विवाद के बावजूद बंगाल में ममता की ताकत

सभी एग्जिट पोल बताते हैं कि भाजपा पिछली बार की तुलना में इस बार बंगाल में बेहतर प्रदर्शन करेगी, लेकिन इसके विपरीत  टीएमसी ने अपने दम पर 29 सीटें जीतीं। बंगाल वह राज्य है जहां मोदी-शाह ने बहुत ध्यान केंद्रित किया। राज्य सीएए अधिनियम से भी सबसे बुरी तरह प्रभावित हुआ था, जिसमें संदेशखली विवाद के कारण महिलाओं की सुरक्षा भी एक मुद्दा था। लेकिन इन सबके बावजूद जनता ने ममता को दिल से वोट दिया।

 

महाराष्ट्र में सहानुभूति की लहर, एनडीए आधा!

इसी तरह महाराष्ट्र में भी एनडीए के पक्ष में स्थिति नहीं रही और महा विकास अघाड़ी 29 सीटों पर आगे चल रही है। उद्धव समूह की शिवसेना ने भी अच्छा प्रदर्शन किया और शरद समूह की राकांपा ने भी अपनी सीटों की संख्या में सुधार किया। वहीं भाजपा और उसके सहयोगी दलों को भारी नुकसान उठाना पड़ा। अब भाजपा को जो भी झटके झेलने पड़े उसकी भरपाई ओडिशा से हुई जहां इस बार भाजपा ने राज्य में क्लीन स्वीप किया। भाजपा ने 21 में से 19 सीटें जीतीं।

लोकसभा चुनाव परिणाम किस पार्टी ने कितनी सीटें जीतीं?

Party Won Leading Total
Bharatiya Janata Party - BJP 240 0 240
Indian National Congress - INC 99 0 99
Samajwadi Party - SP 37 0 37
All India Trinamool Congress - AITC 29 0 29
Dravida Munnetra Kazhagam - DMK 22 0 22
Telugu Desam - TDP 16 0 16
Janata Dal (United) - JD(U) 12 0 12
Shiv Sena (Uddhav Balasaheb Thackrey) - SHSUBT 9 0 9
Nationalist Congress Party – Sharadchandra Pawar - NCPSP 8 0 8
Shiv Sena - SHS 7 0 7
Lok Janshakti Party(Ram Vilas) - LJPRV 5 0 5
Yuvajana Sramika Rythu Congress Party - YSRCP 4 0 4
Rashtriya Janata Dal - RJD 4 0 4
Communist Party of India (Marxist) - CPI(M) 4 0 4
Indian Union Muslim League - IUML 3 0 3
Aam Aadmi Party - AAAP 3 0 3
Jharkhand Mukti Morcha - JMM 3 0 3
Janasena Party - JnP 2 0 2
Communist Party of India (Marxist-Leninist) (Liberation) - CPI(ML)(L) 2 0 2
Janata Dal (Secular) - JD(S) 2 0 2
Viduthalai Chiruthaigal Katchi - VCK 2 0 2
Communist Party of India - CPI 2 0 2
Rashtriya Lok Dal - RLD 2 0 2
Jammu & Kashmir National Conference - JKN 2 0 2
United People’s Party, Liberal - UPPL 1 0 1
Asom Gana Parishad - AGP 1 0 1
Hindustani Awam Morcha (Secular) - HAMS 1 0 1
Kerala Congress - KEC 1 0 1
Revolutionary Socialist Party - RSP 1 0 1
Nationalist Congress Party - NCP 1 0 1
Voice of the People Party - VOTPP 1 0 1
Zoram People’s Movement - ZPM 1 0 1
Shiromani Akali Dal - SAD 1 0 1
Rashtriya Loktantrik Party - RLTP 1 0 1
Bharat Adivasi Party - BHRTADVSIP 1 0 1
Sikkim Krantikari Morcha - SKM 1 0 1
Marumalarchi Dravida Munnetra Kazhagam - MDMK 1 0 1
Aazad Samaj Party (Kanshi Ram) - ASPKR 1 0 1
Apna Dal (Soneylal) - ADAL 1 0 1
AJSU Party - AJSUP 1 0 1
All India Majlis-E-Ittehadul Muslimeen - AIMIM 1 0 1
Independent - IND 7 0 7
 
Total 543 0

543

भाजपा का विस्तार, लेकिन तमिलनाडु ने अभी और इंतजार करने को कहा

इसके अलावा दक्षिणी राज्य तेलंगाना में भी भाजपा ने अपनी सीटों को चार से बढ़ाकर आठ कर लिया है। केरल में पहली बार पार्टी का खाता खुला था, लेकिन तमिलनाडु में उसकी मेहनत का कोई खास फायदा नहीं हुआ है। अब ये सभी परिणाम यह बताने के लिए काफी हैं कि जनता ने एनडीए की सरकार जरूर बनाई है, लेकिन इस बार वह पिछली दो सरकारों के मुकाबले कमजोर है और उसे अपने सहयोगियों पर निर्भर रहना पड़ेगा। उधर, जानकारों का भी मानना है कि यह आदेश पीएम मोदी की खुद की लोकप्रियता के लिए झटका है।

मोदी के जादू में गिरावट, लोकप्रियता सवालों के घेरे में

ऐसा इसलिए कहना होगा क्योंकि यूपी हो, महाराष्ट्र हो या बंगाल, मोदी का चेहरा हर जगह था। हर जगह इसकी गारंटी का जिक्र किया गया, ऐसे में जब किसी एक ही राज्य में सबसे कम सीटें निकली हैं तो इसका साफ मतलब है कि मोदी मैजिक कुछ हद तक फीका पड़ गया है। इसका सबसे बड़ा प्रमाण यह है कि खुद पीएम मोदी अपनी वाराणसी सीट महज 1 लाख के अंतर से जीतने में कामयाब रहे हैं, जबकि पिछली बार अंतर 3 लाख से ज्यादा था। इसके अलावा वाराणसी के आसपास की सीटों पर भी बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा है|

अंतिम निष्कर्ष क्या है?

ऐसे में इस बार आदेश में साफ कहा गया है कि मोदी की सरकार नहीं एनडीए की सरकार बनाने की बात हो रही है। देश की जनता गठबंधन सरकार चाहती है, वे एक व्यक्ति की मजबूत सरकार नहीं चाहते हैं। इससे यह भी साफ हो गया है कि देश कांग्रेस मुक्त भारत नहीं चाहता है, बल्कि उसे एक मजबूत विपक्ष की भी जरूरत है।

You can share this post!

author

सौम्या बी श्रीवास्तव

By News Thikhana

Comments

Leave Comments