आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की द्वादशी तिथि रात 08:43 बजे तक तदुपरांत त्रयोदशी तिथि प्रारंभ यानी बुधवार, 18 जुलाई 2024
मोसाद ने पहली बार छेड़ा महाभियान, दुनिया के कोने-कोने में इजरायली जनता के लिए बने ढाल !

सेना

मोसाद ने पहली बार छेड़ा महाभियान, दुनिया के कोने-कोने में इजरायली जनता के लिए बने ढाल !

सेना///Tel Aviv :

गाजा युद्ध के बीच दुनिया की सबसे खतरनाक खुफिया एजेंसियों में शामिल मोसाद ने ईरान के खिलाफ महाभियान छेड़ दिया है। मोसाद ने अपने रिजर्व में रखे जासूसों को भी ड्यूटी में लगा दिया है। मोसाद के जासूस अब पूरी दुनिया में फैल गए हैं और ईरानी साजिश को फेल कर रहे हैं।

इजरायल पर हमास के हमले के बाद दुनियाभर में मोसाद की जमकर किरकिरी हुई थी। दुनियाभर में अपने दुश्मनों के खिलाफ इजरायली खुफिया एजेंसी मोसाद के कारनामों से उसके दुश्मन भी खौफ खाते थे लेकिन हमास के हमले ने उसे हिलाकर रख दिया। अब मोसाद ने हमास और उसके आका ईरान के खिलाफ पलटवार के लिए अपने खतरनाक जासूसों को पूरी दुनिया में तैनात कर दिया है। 
यही नहीं, मोसाद के जासूस यूरोप से लेकर लैटिन अमेरिका तक में ईरानी प्रॉक्सी गुटों के यहूदियों पर जानलेवा हमले की साजिश को पूरी सफलता के साथ नाकाम कर रहे हैं। ताजा मामला यूरोपीय देश साइप्रस का है, जहां पर मोसाद ने इजरायली लोगों को मारने की साजिश को विफल कर दिया।
पिछले सप्ताह ही इजरायल की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद ने दुनिया के 80 देशों की यात्रा करने को लेकर इजरायल के लोगों को सख्त चेतावनी जारी की थी। इसमें यूरोपीय देश भी शामिल हैं, जो अब तक इजरायली लोगों के लिए सुरक्षित माने जाते थे। यरुशलम पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक मोसाद के एजेंट अब पूरी दुनिया में सक्रिय हैं और इजरायली जनता तथा यहूदियों की रक्षा कर रहे हैं। साइप्रस की घटना एक उदाहरण बस है, ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जब मोसाद ने पर्दे के पीछे रहकर हमास के हमले के बाद पूरी दुनिया में यहूदियों की जान बचाई है।
हमास के हमले के बाद एक्शन में मोसाद
मोसाद के डायरेक्टर डेविड बारनिआ ने गत 10 सितंबर को दिए अपने एक भाषण में कहा था कि साल 2023 में मोसाद और अन्य खुफिया एजेंसियों ने ईरान की ओर से करवाए गए 27 आतंकी हमलों को विफल किया है। इस काम में मोसाद को विदेशी दोस्त देशों की खुफिया एजेंसियों से भी मदद मिली है। ये हमले दुनिया के हर महाद्वीप में विफल किए गए हैं। उन्होंने एक वीडियो दिखाया और कहा कि ईरानी एजेंटों को मोसाद ने पकड़ा है और तंजानिया तथा साइप्रस के अंदर पूछताछ की है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने इन आतंकियों को भेजा था, उन्हें न्याय के कटघरे में लाया जाएगा।
दुश्मनों के खिलाफ अभियान करेंगे तेज
मोसाद चीफ ने चेतावनी दी कि हम इन दुश्मनों के खिलाफ अपने अभियान को तेज करने जा रहे हैं। उन्होंने तंजानिया, जार्जिया, साइप्रस, ग्रीस और जर्मनी को कुछ उदाहरण भर बताया। रिपोर्ट में कहा गया है कि 7 अक्टूबर को हमास के हमले के बाद अब मोसाद ने पूरी दुनिया में एक अभियान लॉन्च कर दिया है। अब मोसाद के एजेंट दुनिया के हर कोने में पहुंच गए हैं, जो बहुत अप्रत्याशित है। यह इतने बड़े पैमाने पर अभियान चला रहे हैं, जितना पहले कभी नहीं हुआ था। इजरायली सेना जहां हमास और हिज्बुल्ला से लड़ रही है, वहीं मोसाद पर्दे के पीछे से ईरानी खुफिया एजेंटों से दुनियाभर में जंग लड़ रही है। यही नहीं, मोसाद ने अपने रिजर्व में रखे एजेंटों को भी ड्यूटी पर बुला लिया है।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments