आज है विक्रम संवत् 2081 के वैशाख माह के शुक्लपक्ष की चतुर्दशी तिथि सायं 06:47 बजे तक बुधवार 21 मई 2024
जीत के लिए चाहिए आशीष जैसा जुनूनः यूपीएससी में 4 बार असफल रहे, 5वें प्रयास में हासिल की 8वीं रैंक 

एजुकेशन, जॉब्स और करियर

जीत के लिए चाहिए आशीष जैसा जुनूनः यूपीएससी में 4 बार असफल रहे, 5वें प्रयास में हासिल की 8वीं रैंक 

एजुकेशन, जॉब्स और करियर/सरकारी/Rajasthan/Jaipur :

आशीष आईआईटी खड़गपुर में अपने बैच के टॉपर रह चुके हैं। उनके पिता रमेश चंद अग्रवाल सरकारी टीचर के पद से साल 2022 में रिटायर्ड हुए और मां सुधा अग्रवाल हाउस वाइफ हैं।

सिविल सेवा परीक्षा-2023 में जयपुर के रहने वाले आशीष कुमार सिंघल ने ऑलओवर 8वीं रैंक प्राप्त की है। आईआईटी खड़गपुर में टॉपर रहे और गोल्ड मेडलिस्ट आशीष ने 5वें प्रयास में यह मुकाम हासिल किया है। वह 4 बार तो मेन्स भी क्लियर नहीं कर पाए थे। बड़ी बात यह है कि चैथे प्रयास में तो वे प्री-एग्जाम में ही फेल हो गए थे। इसके बावजूद आशीष ने हिम्मत नहीं हारी और अपना लक्ष्य प्राप्त करने में जुटे रहे। मूलतः भरतपुर के नदबई तहसील के रहने वाले आशीष जयपुर के वैशाली नगर में रहते हैं।
उन्होंने 12वीं जयपुर के स्टेप बाइ स्टेप से पास की और उसके बाद आईआईटी एंट्रेस देकर आईआईटी खड़गपुर में एडमिशन लिया। आशीष अपने बैच के टॉपर रह चुके हैं। उनके पिता रमेश चंद अग्रवाल सरकारी टीचर के पद से साल 2022 में रिटायर्ड हुए और मां सुधा अग्रवाल हाउस वाइफ हैं। आशीष ने साल 2017 में आईआईटी खड़गपुर से इंडस्ट्रीयल मैनेजमेंट में एमटेक पास करने के बाद गुरुग्राम की एक आईटी कंपनी में जॉब शुरू की। एक साल जॉब करने के बाद जब उन्हें लगा कि वे कॉरपोरेट सेक्टर की नौकरी में बंधकर रह गए और सोशल तौर पर कुछ नहीं कर पा रहे। उन्होंने साल 2018 में नौकरी छोड़ी और आईएएस की तैयारी में जुट गए।
लगातार चार बार असफल रहने के बावजूद आशीष अपना लक्ष्य प्राप्त करने में जुटे रहे। उन्होंने कहा कि चार बार असफल होने के बाद वे काफी निराश हो गए थे, लेकिन उन्होंने आखिरी बार फिर से एग्जाम देने का फैसला किया और भाग्य ने भी उनका साथ दिया। इस बार उन्होंने 8वीं रैंक प्राप्त की। 

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments