आज है विक्रम संवत् 2080 के माघ मास (माह) की पूर्णिमा सायं 05:59 बजे तक यानी शनिवार 24 फरवरी 2024
कचरा नहीं...किसी की जीवनभर की पढ़ाई है ये...! यूनिवर्सिटी की हरकत पर फूटा गुस्सा

एजुकेशन, जॉब्स और करियर

कचरा नहीं...किसी की जीवनभर की पढ़ाई है ये...! यूनिवर्सिटी की हरकत पर फूटा गुस्सा

एजुकेशन, जॉब्स और करियर///Otawa :

अपने नाम के आगे डाॅक्टर लगाना किसका सपना नहीं होगा, लेकिन क्या हो जब कोई आपके सपने के लिए की गई जी तोड़ मेहनत को कचरे के डंपर में भरकर फेंक आए। 

पीएचडी थीसिस को पूरा करना और फिर प्रस्तुत करने के लिए हार्ड-बाउंड कॉपी में किसी के शोध को छपवाकर एक पुस्तक के रूप में जमा करवाना एक विद्वान के जीवन के सबसे महत्वपूर्ण और भावुक पलों में से एक हो सकता है।
पीएचडी आवेदक आमतौर पर मानते हैं कि उनकी थीसिस प्रस्तुतियों को विश्वविद्यालय अभिलेखागार या पुस्तकालयों में रखा जाएगा। लेकिन, कनाडा के एडमोंटन में अल्बर्टा विश्वविद्यालय से आई कुछ आपत्तिजनक तस्वीरों ने इस धारणा को गलत साबित कर दिया है।
शुक्रवार को एक ट्विटर यूजर ने डंपस्टर कचरे के डिब्बे में फेंके गए पीएचडी शोध प्रबंधों की तस्वीरें साझा कीं और लिखा, ‘आज रात अपने व्याख्यान से घर जाते हुए, मैंने एजुकेशन सेंटर के पीछे बारीकी से बंधे थीसिस और शोध प्रबंधों से भरा एक पूरा डंपस्टर देखा। जिसका पुनर्नवीनीकरण भी नहीं किया जा रहा है, बस लैंडफिल में भेजा जा रहा है।’
इस ट्वीट को जल्द ही 11,000 से अधिक लाइक्स मिले और विश्वविद्यालय के खिलाफ आक्रोश फैल गया। कई पूर्व छात्रों ने नोट किया कि उन्होंने विश्वविद्यालय के निर्धारित मानकों के अनुसार अपनी थीसिस को बॉन्ड करने के लिए एक महत्वपूर्ण राशि खर्च की। उन्होंने यह भी तर्क दिया कि अगर प्रशासन कॉपियां नहीं रखना चाहता था तो उन्हें फिकवाने के बजाय विद्वानों को लौटा देना चाहिए था।
एक ट्विटर उपयोगकर्ता ने लिखा, ‘ओह देखो। मेरा शोध प्रबंध कचरे में है। धन्यवाद यू ऑफ ए। आपने मुझे कपास के कचरे पर मुद्रित कई प्रतियों पर सैकड़ों डाॅलर खर्च करने के लिए मजबूर किया और उन्हें मैंने आपको तब दिया जब मेरे पास पैसे नहीं थे - यानी कर्ज लेकर। कम से कम आप उन्हें वापस देने की पेशकश कर सकते थे। मैं उन्हें ले जाता।’

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments