CM केजरीवाल को कल गिरफ्तार कर सकती है CBI NDA के स्पीकर पद के उम्मीदवार ओम बिरला ने पीएम मोदी से मुलाकात की दिलेश्वर कामत जेडीयू संसदीय दल के नेता होंगे पूर्व फुटबॉलर बाइचुंग भूटिया ने राजनीति छोड़ी, सिक्किम चुनाव में हार के बाद फैसला घाटकोपर होर्डिंग केस: IPS कैसर खालिद सस्पेंड, उनकी इजाजत पर लगा था होर्डिंग पुणे पोर्श कांड: आरोपी नाबालिग को हिरासत से रिहा किया गया लोकसभा के 7 सांसदों ने नहीं ली शपथ, कल स्पीकर चुनाव में नहीं कर सकेंगे मतदान जगन मोहन रेड्डी की पार्टी स्पीकर चुनाव में NDA उम्मीदवार का समर्थन कर सकती है कल सुबह 11 बजे तक के लिए लोकसभा स्थगित स्पीकर चुनाव के लिए बीजेपी ने व्हिप जारी किया, सभी सांसदों को लोकसभा में रहना होगा मौजूद स्पीकर चुनाव: कांग्रेस का व्हिप जारी, कल सभी सांसदों को लोकसभा में मौजूद रहने को कहा आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के कृष्णपक्ष की पंचमी तिथि रात 08:54 बजे तक यानी बुधवार, 26 जून 2024 Jaipur: मैसर्स तंदूरवाला में कार्रवाई के दौरान पायी गयीं भारी अनियमितताएं..लाइसेंस, साफ़ सफाई सहित अन्य दस्तावेज मिले नदारद मायावती का भतीजे आकाश आनंद पर उमड़ा प्रेम, 47 दिन पुराने फैसले को पलट बनाया राष्ट्रीय संयोजक राजस्थान में आषाढ़ माह के चौथे दिन मेवाड़ में छाये बादल, मौसम विभाग भी बोला मानसून का हो गया प्रवेश
हिरोशिमा और नागासाकी नहीं, भारत ने झेला था पहला परमाणु हमला!

अजब-गजब

हिरोशिमा और नागासाकी नहीं, भारत ने झेला था पहला परमाणु हमला!

अजब-गजब//Delhi/New Delhi :

एक साइंटिस्ट का दावा है कि 3700 साल पहले परमाणु विस्फोट की वजह से भारत का एक सबसे एडवांस शहर तबाह हो गया था। एक साइंटिस्ट का दावा है कि 3700 साल पहले परमाणु विस्फोट की वजह से भारत का एक सबसे एडवांस शहर तबाह हो गया था।

दुनिया परमाणु हथियारों के ढेर पर बैठी है। लेकिन क्या आप भरोसा करेंगे कि करीब 3700 साल पहले भारत में परमाणु हथियार बन गए थे। ऐसा दावा एक ब्रिटिश शोधकर्ता का है। उनका कहना है कि एक परमाणु विस्फोट में भारत का एक सबसे प्राचीन शहर तबाह हो गया था।
दुनिया आज परमाणु हथियारों के ढेर पर बैठी है। आधिनुक समय में इन परमाणु हथियारों की विनाशकारी ताकत हमने दूसरे विश्व युद्ध के दौरान देखी है। जापान के दो प्रमुख शहर हिरोशिमा और नागासाकी पर अमेरिका ने परमाणु हमले किए थे और वहां की पूरी मानवता खत्म हो गई। आधुनिक इतिहास में पहली बार छह अगस्त 1945 को दूसरे वर्ल्ड वार के दौरान हिरोशिमा पर परमाणु बम गिराया गया था।
लेकिन, एक ताजा स्टडी में यह तथ्य सामने आया है कि भारत का एक प्राचीन शहर परमाणु विस्फोट में पूरी तरह तबाह हो गया। उसकी पूरी सभ्यता तबाह हो गई। उस वक्त यह शहर बेहद एडवांस था और इसकी इंजीनियरिंग और आर्टिटेक के नमूने आज भी देखे जा सकते हैं। ब्रिटिश न्यूजपेपर द सन की वेबसाइट जीमेनद।बव।ना की रिपोर्ट के मुताबिक करीब 3700 साल पहले यह परमाणु विस्फोट हुआ। यह विस्फोट कहीं और नहीं बल्कि अपने भारत के भूभाग में हुआ था।
बेहद हाई रेडिएशन
यह दावा करने वाली फर्स्ट क्लास स्पेस एजेंसी के सीईओ बिली कारसन का कहना है कि इस शहर से मिले कंकालों से पता चलता है कि यहां पर एक परमाणु विस्फोट हुआ होगा और इसी कारण यह पूरा शहर तबाह हो गया। ऐसे में यह सवाल उठता है कि आखिर क्या उस वक्त यह शहर और यहां की सभ्यता इतनी विकसित थी कि उसने जटिल परमाणु उपकरणों का विकास कर लिया था? अगर ऐसा है तो वाकई हमारे पुरखे बहुत विकसित थे और वे विज्ञान के क्षेत्र काफी आगे थे।
नाम पर बन चुकी है एक मूवी
दरअसल, इस शहर का नाम मोहनजोदड़ो है। मौजूदा वक्त में यह पाकिस्तान का हिस्सा है लेकिन करीब 3700 साल पहले यह पूरा इलाका हिंदुस्तान कहलाता था। यह सिंधु घाटी सभ्यता का हिस्सा था। मोहनजोदड़ो के अवशेष आज भी मौजूद हैं। यहां की खुदाई से पता चला था कि यहां दुनिया की सबसे विकसित सभ्यता हुआ करती थी। मोहनजोदड़ो के साथ-साथ हड़प्पा की भी चर्चा हम इतिहास की किताबों में पढ़ते हैं। ये दोनों जगह मौजूदा वक्त में पाकिस्तान के हिस्सा हैं। ये यूनेस्को की धरोधरों की सूची में हैं।
आज भी मिलते हैं मानव कंकाल
बिली ने कहा कि मोहदजोदड़ो में मानव कंकालों में हाई लेवल का रेडिएशन पाया गया। पाकिस्तान के मोहनजोदड़ो में खुदाई में ये कंकाल मिले थे। रेडिएशन के हाई लेवल से पता चलता है कि वहां पर निश्चित रूप में एक परमाणु विस्फोट हुआ होगा। बिली आगे कहते हैं कि इस विस्फोट की वजह से ही उस वक्त वहां की इमारतें, रेत सब ग्लास बन गए होंगे और एक दूसरे का हाथ पकड़े लोग मर गए। उनके कंकाल उसी रूप में पाए गए। इन कंकालों को जानवरों तक ने भी कभी नहीं छूआ।
रेलवे लाइन बनाते मिले प्रमाण
हजारों साल बाद आज भी वहां की गलियों में डेड बॉडी पड़े हुए मिल जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि यह प्राचीन शहर 2500 से 1900 ईसा पूर्व में था। इस करीब 3700 साल पहले खाक हो गया। 1920 के दशक में इस शहर का पता चला था। वह भी ब्रिटिश राज के दौरान रेलवे लाइन बिछाने के लिए चल रही खुदाई में ईंटों की एक मोटी दीवार मिली थी। फिर इसे से आगे पूरी सभ्यता का पता चला था।
बेहद एडवांस शहर
मोहनजोदड़ो के बारे में जानकारों का कहना है कि यह एक बेहद एडवांस शहर था। वहां की अर्बन प्लानिंग और सिविल इंजीनियरिंग बेहतरीन थी। जानकार तो यहां तक कहते हैं कि मोहनजोदड़ो से ज्याद विकसित हड़प्पा की संस्कृति थी। बिली कहते हैं कि अभी तक पुख्ता तौर पर कोई यह नहीं बता पाया है कि इतना एडवांस शहर कैसे तबाह हो गया। लेकिन, वह अपने शोध से यह 100 फीसदी भरोसे के साथ कह सकते हैं कि यहां पर बड़ा परमाणु विस्फोट हुआ था। इस विस्फोट की वजह से यहां का तापमान कोई 3000 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचा होगा और पल भर में सब कुछ खत्म हो गया होगा।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments