आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की द्वादशी तिथि रात 08:43 बजे तक तदुपरांत त्रयोदशी तिथि प्रारंभ यानी गुरुवार, 18 जुलाई 2024
ओडिशा रेल दुर्घटना: रेलमंत्री दुबारा पहुंचे बालासोर...एक ट्रैक रेडी, बुधवार तक चालू होगा ट्रैफिक 

दुर्घटना

ओडिशा रेल दुर्घटना: रेलमंत्री दुबारा पहुंचे बालासोर...एक ट्रैक रेडी, बुधवार तक चालू होगा ट्रैफिक 

दुर्घटना//Odisha/Bhubaneswar :

ओडिशा के बालासोर में शुक्रवार रात हुए भीषण रेल हादसे में मृतकों की संख्या बढ़कर 288 पर पहुंच गई है, वहीं 800 से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं। इसबीच, रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव एक बार फिर से घटनास्थल पर पहुंचे हैं। 

रेल मंत्री हादसे के बाद ही बालासोर पहुंच गए थे। तब से लेकर अब तक वे करीब से राहत और बचाव कार्य पर नजर बनाए हुए हैं। उन्होंने कहा कि ट्रैक बहाली का काम तेजी से चल रहा है। हमने बुधवार को सबकुछ ठीक करने का लक्ष्य रखा है। कोशिश कर रहे हैं कि आज शाम तक एक ट्रैक पर परिचालन बहाल कर दिया जाए। 

रेस्क्यू पूरा, मरम्मत का काम जारी
केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि कल प्रधानमंत्री द्वारा दिए गए निर्देशों पर तेजी से काम चल रहा है। कल रात एक ट्रैक काम लगभग पूरा हो गया। आज एक ट्रैक की पूरी मरम्मत करने की कोशिश रहेगी। सभी डिब्बों को हटा दिया गया है। शवों को निकाल लिया गया है। कार्य तेजी से चल रहा है। कोशिश है कि बुधवार की सुबह तक सामान्य रूट चालू हो जाए।
हादसे की वजह आई सामने
केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि रेलवे सुरक्षा आयुक्त ने मामले की जांच की है। हादसे के कारण का पता लग गया है और इसके लिए जिम्मेदार लोगों की पहचान भी कर ली गई है। इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग में बदलाव के कारण यह दुर्घटना हुई है।
ग्रीन सिग्नल देकर लिया वापस!
इस बीच रेल अधिकारियों की ओर से सौंपी गई प्रारंभिक जांच रिपोर्ट में यह पता चला है कि दुर्घटनाग्रस्त हुई कोरोमंडल एक्सप्रेस ट्रेन बाहानगा बाजार स्टेशन से ठीक पहले मुख्य मार्ग के बजाय ‘लूप लाइन’ पर चली गई और वहां पहले से खड़ी एक मालगाड़ी से टकरा गई। इस शुरुआती जांच रिपोर्ट से संकेत मिलता है कि कोरोमंडल एक्सप्रेस को पहले ग्रीन सिग्नल दिया गया था, फिर बंद कर दिया गया। 
ट्रैक ठीक करने का काम जारी
ओडिशा के बालासोर के बहनागा बाजार में शुक्रवार को हुए रेल हादसे में जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 288 तक पहुंच गई है। 1175 घायलों को अस्पतालों में भर्ती कराया गया, इनमें से 793 को छुट्टी दे दी गई और 382 का इलाज चल रहा है। दो की हालत गंभीर बताई जा रही है। रेलवे ने मृतकों के परिजनों को 10 लाख, गंभीर रूप से घायलों को दो लाख रुपये और अन्य घायलों को 50,000 रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है। 
ओडिशा सरकार ने किया मुआवजे का एलान
ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने हादसे में राज्य के मरने वाले लोगों के परिजनों के लिए 5-5 लाख रुपए और गंभीर रूप से घायल लोगों के लिए एक-एक लाख रुपए की घोषणा की है। ओडिशा सरकार ने इसकी जानकारी दी है।
दिल्ली से चिकित्सकों का दल भुवनेश्वर भेजा गया
नई दिल्ली स्थित भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) और केंद्र सरकार के अन्य अस्पतालों के चिकित्सकों का एक दल ओडिशा रेल हादसे में घायल हुए लोगों को चिकित्सकीय मदद मुहैया कराने के लिए भारतीय वायुसेना के एक विशेष विमान से भुवनेश्वर भेजा गया है। यह दल दवाइयां और अन्य अहम चिकित्सकीय उपकरण लेकर गया है।
ट्रेनों के ड्राइवर और गार्ड घायल
इस बीच हादसे की शिकार हुईं ट्रेनों के ड्राइवर और गार्ड को लेकर बड़ी जानकारी सामने आई है। रेलवे  के एक अधिकारी ने बताया कि इन दोनों ट्रेनों के ड्राइवर और गार्ड घायल हैं और उनका अलग-अलग अस्पतालों में इलाज किया जा रहा है। अधिकारी ने यह भी बताया कि इस हादसे में शामिल मालगाड़ी का इंजन चालक और गार्ड बाल-बाल बच गए। दक्षिण पूर्व रेलवे के खड़गपुर मंडल के वरिष्ठ मंडल कमर्शियल मैनेजर राजेश कुमार ने कहा, ‘कोरोमंडल एक्सप्रेस के लोको पायलट, सहायक लोको पायलट तथा गार्ड और बेंगलुरु-हावड़ा एक्सप्रेस के गार्ड का अलग-अलग अस्पतालों में इलाज किया जा रहा है।’

 

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments