जुलाई के अंत में BJP शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों और उपमुख्यमंत्रियों की होगी मीटिंग- सूत्र उत्तराखंड में मॉनसून अलर्ट, बारिश की संभावना, यात्रियों को सतर्क रहने की चेतावनी J-K: डोडा जिले में आधी रात सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच हुई गोलीबारी, सेना शुरू की तलाशी बिहार: सारण जिले के रसूलपुर में ट्रिपल मर्डर, 2 नाबालिग बेटी और पिता की चाकू मारकर हत्या बांग्लादेश: नौकरियों में आरक्षण का विरोध, 6 प्रदर्शनकारियों की मौत, स्कूल-कॉलेज बंद आज से अपना राजनीतिक दौरा शुरू करेंगी शशिकला केजरीवाल की जमानत अर्जी पर आज अदालत में जवाब दाखिल कर सकती है CBI CM योगी आज मंत्रियों के साथ करेंगे मीटिंग, विधानसभा उपचुनाव को लेकर होगी चर्चा ध्य प्रदेश के चर्चित जस्टिस रोहित आर्य ने भाजपा का दामन थामा प्रशिक्षु आईएएस पूजा खेडकर के विरुद्ध सख्ती, ट्रेनिंग रद्द कर वापस भेजा गया मसूरी अकादमी..! बदले में पूजा ने पुणे डीएम पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप हरभजन, युवराज सिंह और रैना मुश्किल में, पैरा एथलीट्स का उड़ाया था मजाक..FIR दर्ज आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की दशमी तिथि रात 08:33 बजे तक तदुपरांत एकादशी तिथि प्रारंभ यानी मंगलवार, 16 जुलाई 2024
गौरव और सम्मान के साथ मनेगी 31 अक्टूबर को सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती, उत्तर प्रदेश सरकार ने जारी किये निर्देश

श्रद्धांजलि

गौरव और सम्मान के साथ मनेगी 31 अक्टूबर को सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती, उत्तर प्रदेश सरकार ने जारी किये निर्देश

श्रद्धांजलि//Uttar Pradesh /Lucknow :

आजादी के अमृत महोत्सव के दौरान 31 अक्टूबर को कृतज्ञ राष्ट्र सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पूरी धूमधाम से मनाएगा। इस दिन को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाएगा। 

देश के  भारत रत्न लौहपुरुष व पहले गृह मंत्री स्व. सरदार वल्लभ भाई पटेल की जन्मतिथि 31 अक्टूबर 2022 को पूरी धूमधाम के साथ "राष्ट्रीय एकता दिवस" के रूप में मनाई जाएगी। केंद्रीय गृह मंत्रालय से मिले निर्देश के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने इस मामले में तत्परता दिखाई है और इस संदर्भ में उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव दुर्गाशंकर मिश्र ने सभी सरकारी विभागों के प्रमुखों और समस्त मंडलायुक्तों/ जिलाधिकारियों को राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं।

 मिश्र ने निर्देश देते हुए कहा है कि 31 अक्टूबर 2022 को राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन किया जाएगा। एकता, अखंडता और सुरक्षा की भावना को मजबूती प्रदान करने के लिए जहां भी संभव हो, राज्य पुलिस और अन्य वर्दीधारी बलों या इकाइयों और अन्य एंजेंसियों द्वारा मार्च पास्ट का आयोजन किया जाएगा। विभिन्न जिलों में एकता दौड़ के आयोजन किये जाएंगे। कारागृहों में राष्ट्रीय एकता को केन्द्र में रखकर कार्यक्रम आयोजित होंगे।

उल्लेखनीय है कि कि राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर देश के 750 जिलों में शिक्षा एवं खेल मंत्रालय के माध्यम से समाज के सभी वर्गों के लोगों को शामिल करते हुए 75,000 एकता दौड आयोजित की जाएगी। इससे राष्ट्रीय एकता और 'आजादी का अमृत महोत्सव की भावना का सन्देश पूरे देश में प्रसारित करने में मदद मिलेगी।

सभी शासकीय सेवक लेंगे 'राष्ट्रीय एकता दिवस' की शपथ

इस दिन सभी शासकीय सेवकों को राष्ट्रीय एकता दिवस की शपथ दिलाई जाएगी। शपथ इस प्रकार है-

"मैं सत्यनिष्ठा से शपथ लेता/लेती हूँ कि मैं राष्ट्र की एकता, अखंडता और सुरक्षा को बनाये रखने के लिए स्वयं को समर्पित करूंगा/ करूंगी और अपने देशवासियों के बीच यह संदेश फैलाने का भी भरसक प्रयत्न करुंगा/करूंगी। मैं यह शपथ अपने देश की एकता की भावना से ले रहा/रही हूँ जिसे सरदार वल्लभभाई पटेल की दूरदर्शिता एवं कार्यों द्वारा संभव बनाया जा सका। मैं अपने देश की आंतरिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अपना योगदान करने का भी सत्यनिष्ठा से संकल्प करता/करती हूँ।"

प्रत्येक वर्ष 31 अक्टूबर को भारत के राजनीतिक एकीकरण में प्रमुख भूमिका निभाने वाले लौहपुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयन्ती को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में अत्यन्त भव्यता एवं गरिमा के साथ मनाया जाता है। इस दिवस को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाये जाने की शुरूआत वर्ष 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा इस उद्देश्य से की गई कि यह दिवस हमारे देश की अन्तर्निहित ताकत और लचीलापन को फिर से जोड़ने,  एकता और अखण्डता के लिए वास्तविक व सम्भावित खतरों का सामना करने का अवसर और हमारे देश को सुरक्षा प्रदान करेगा।

You can share this post!

author

सौम्या बी श्रीवास्तव

By News Thikhana

Comments

Leave Comments