CM केजरीवाल को कल गिरफ्तार कर सकती है CBI NDA के स्पीकर पद के उम्मीदवार ओम बिरला ने पीएम मोदी से मुलाकात की दिलेश्वर कामत जेडीयू संसदीय दल के नेता होंगे पूर्व फुटबॉलर बाइचुंग भूटिया ने राजनीति छोड़ी, सिक्किम चुनाव में हार के बाद फैसला घाटकोपर होर्डिंग केस: IPS कैसर खालिद सस्पेंड, उनकी इजाजत पर लगा था होर्डिंग पुणे पोर्श कांड: आरोपी नाबालिग को हिरासत से रिहा किया गया लोकसभा के 7 सांसदों ने नहीं ली शपथ, कल स्पीकर चुनाव में नहीं कर सकेंगे मतदान जगन मोहन रेड्डी की पार्टी स्पीकर चुनाव में NDA उम्मीदवार का समर्थन कर सकती है कल सुबह 11 बजे तक के लिए लोकसभा स्थगित स्पीकर चुनाव के लिए बीजेपी ने व्हिप जारी किया, सभी सांसदों को लोकसभा में रहना होगा मौजूद स्पीकर चुनाव: कांग्रेस का व्हिप जारी, कल सभी सांसदों को लोकसभा में मौजूद रहने को कहा आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के कृष्णपक्ष की पंचमी तिथि रात 08:54 बजे तक यानी बुधवार, 26 जून 2024 Jaipur: मैसर्स तंदूरवाला में कार्रवाई के दौरान पायी गयीं भारी अनियमितताएं..लाइसेंस, साफ़ सफाई सहित अन्य दस्तावेज मिले नदारद मायावती का भतीजे आकाश आनंद पर उमड़ा प्रेम, 47 दिन पुराने फैसले को पलट बनाया राष्ट्रीय संयोजक राजस्थान में आषाढ़ माह के चौथे दिन मेवाड़ में छाये बादल, मौसम विभाग भी बोला मानसून का हो गया प्रवेश
पाकिस्तान पर डिफॉल्ट का खतरा...! आईएमएफ को खुश नहीं कर सके वित्त मंत्री

राजनीति

पाकिस्तान पर डिफॉल्ट का खतरा...! आईएमएफ को खुश नहीं कर सके वित्त मंत्री

राजनीति///Islamabad :

पाकिस्तान की सरकार ने शुक्रवार को 2023-2024 का बजट पेश कर दिया। इस बजट में 6.54 फीसदी आर्थिक घाटे को खत्म करने का लक्ष्य रखा गया है। मगर इसके बाद भी अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) से उसे राहत मिलने या नया कर्ज मिलने की कोई उम्मीद फिलहाल नहीं है।

गहरे आर्थिक संकट में फंसे पाकिस्तान के वित्त मत्री इशाक डार ने साल 2023-2024 का बजट शुक्रवार को पेश कर दिया है। वित्त मंत्री ने इसे पेश करते हुए कहा कि इस बजट में सरकार ने एक जुलाई से शुरू हो रहे वित्तीय वर्ष में आर्थिक उत्पादन के लिए 6।54 फीसदी घाटे का लक्ष्य तय किया है। उनका कहना था कि यह अनुमान से सात फीसदी से कम है। पाकिस्तान का बजट आने के बाद यह जरूरी हो गया है कि अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) उससे संतुष्ट हो ताकि राहत पैकेज रिलीज किया जा सके। नवंबर में देश में चुनाव होने हैं मगर बजट के बाद कोई राहत उसे मिलेगी, इस बात के आसार कम हैं।
आईएमएफ को पसंद नहीं आया
विशेषज्ञों की मानें तो बजट आईएमएफ को प्रभावित करने में असफल रहा है। कराची स्थित इनवेस्टमेंट कंपनी वेंचर्स के चीफ इनवेस्टमेंट ऑफिसर शाहबाज अशरफ ने कहा कि यह एक सादा बजट है जिसमें ढांचागत सुधार के लिए कोई रास्ता नहीं है। आईएमएफ ने गुरुवार को कहा कि वह पाकिस्तान के साथ बजट पर चर्चा कर रहा है, जिसमें सामाजिक खर्च बढ़ाने के लिए जगह बनाते हुए ऋण स्थिरता को संतुलित करने पर ध्यान केंद्रित किया गया हो। एक और कंपनी लक्सॉन इन्वेस्टमेंट्स के मुख्य निवेश अधिकारी मुस्तफा पाशा की मानें तो बजट आने के बाद अब आईएमएफ, रेवेन्यू कलेक्शन के लिए और उपायों की मांग कर सकता है। उनका कहना था कि बजट से आईएमएफ के साथ कर्मचारी स्तर का कोई समझौता होगा, इस बात की जरा भी संभावना नहीं है।
जरा भी संतुष्ट नहीं आईएमएफ
वित्त मंत्री डार ने कहा कि बजट में 9.2 अरब रुपए यानी 32 अरब डॉलर के कुल कर राजस्व का लक्ष्य होगा। साथ ही औद्योगिक क्षेत्र पर कोई नया कर नहीं होगा। उनकी मानें तो बजट जून 2024 में खत्म होने वाले वित्तीय वर्ष के लिए 2.5 अरब रुपए यानी 8 अरब डॉलर के शुद्ध बाहरी वित्तपोषण का लक्ष्य रखकर आगे बढ़ेगा। इसमें से 1।6 अरब रुपए यानी 5।5 अरब डॉलर वाणिज्यिक और यूरोबॉन्ड उधार के माध्यम से आएंगे। हालांकि, इनमें से कुछ भी आईएमएफ को संतुष्ट नहीं करने वाला है।
तीन चार महीने बाद ही डिफॉल्ट
वर्ल्ड बैंक के पूर्व सलाहकार आबिद हसन ने चेतावनी दी कि आईएमएफ इस बजट से संतुष्ट होगा, इस बात की संभावना 50 फीसदी से भी कम है। उन्होंने कहा कि अभी पाकिस्तान दिवालिया नहीं होगा लेकिन अगर तीन-चार महीनों में कोई नया आईएमएफ कार्यक्रम शुरू नहीं हुआ तो फिर 100 फीसदी आशंकाएं हैं कि यह देश कंगाल हो जाएगा। 

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments