ट्रेनी IAS पूजा खेडकर पर बड़ी कार्रवाई, UPSC ने दर्ज कराया केस NEET पेपर लीक केस: सॉल्वर बनने वाले सभी 4 स्टूडेंट्स को सस्पेंड करेगा पटना AIIMS माइक्रोसॉफ्ट सर्वर ठप: हैदराबाद एयरपोर्ट पर फ्लाइट्स के लिए इंडिगो स्टाफ ने हाथ से लिखे बोर्डिंग पास बिलकिस बानो केस: 2 दोषियों की अंतरिम जमानत याचिका पर विचार करने से SC का इनकार आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की चतुर्दशी तिथि सायं 05:59 बजे तकयानी शनिवार, 20 जुलाई 2024
चुनाव में ‘धांधली’ पर पाकिस्तान को दुनियाभर से फटकार, भारत की हो रही तारीफ

राजनीति

चुनाव में ‘धांधली’ पर पाकिस्तान को दुनियाभर से फटकार, भारत की हो रही तारीफ

राजनीति//Delhi/New Delhi :

पाकिस्तान के इस चुनाव में इमरान समर्थित उम्मीदवारों को सबसे ज्यादा सीटें मिली हैं। इसके बाद नवाज शरीफ की पीएमएलएन और फिर पीपीपी की सीटें हैं। पीटीआई का दावा है कि चुनाव में बेईमानी हुई है, अगर नतीजों में धांधली ना की जाती तो उनको 170 सीटों पर जीत मिलती।

पाकिस्तान में गुरुवार को वोट डाले गए थे और वोटिंग खत्म होने के तुरंत बाद ही मतगणना शुरू हो गई थी। माना जा रहा था कि शुक्रवार सुबह तक नतीजों का ऐलान हो जाएगा लेकिन रविवार तक भी सभी नतीजे नहीं आए हैं। देशभर में चुनाव नतीजों में भारी धांधली का आरोप लगाया जा रहा है। इमरान खान की पीटीआई के नेताओं ने धांधली के आरोप लगाते हुए अदालत का भी रुख किया है। इस सब पर दुनिया के कई शक्तिशाली देशों और संगठनों ने भी सवाल खड़े किए हैं। अमरिका, ब्रिटेन जैसे बड़े देशों और यूरोपियन यूनियन की ओर से इस पर बयान जारी किए गए हैं।
यूरोपियन यूनियन के बयान में कहा गया है कि सभी दलों को बराबर का मौका नहीं दिया गया, जो पाकिस्तान की लोकतंत्र के लिए चिंता पैदा करने वाला है। अमेरिका की ओर से भी और ब्रिटिश के विदेश विभाग ने भी पाकिस्तान के चुनाव पर सवाल खड़ा किया है। अमेरिका और यूरोपीय यूनियन ने कहा कि अगर स्थानीय नेता चुनाव में हस्तक्षेप और कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के दावे कर रहे हैं तो चुनाव में हुई अनियमितताओं और धांधली की निष्पक्षता से जांच होनी चाहिए।
भारत की तारीफ क्यों कर रहे पाकिस्तानी
यूरोपीय यूनियन ने अपने बयान में कई नेताओं को चुनाव लड़ने से रोकने, फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन और इंटरनेट पर पाबंदियों का जिक्र करते हुए कहा है कि इलेक्शन में सभी के लिए समान अवसर नहीं थे। अमेरिकी स्टेट डिपार्टमेंट ने सदन की आजादी, हिंसा और मीडियाकर्मियों पर हमले और इंटरनेट सेवा पर प्रतिबंधों को लेकर सवाल किया है। ब्रिटिश विदेश मंत्री डेविड कैमरन ने अपने बयान में पाकिस्तान के चुनावों में निष्पक्षता की कमी बताते हुए इस पर चिंता जाहिर की है।
विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान के चुनाव पर कुछ नहीं कहा
दुनियाभर की आलोचनाओं के बीच भारतीय विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान के चुनाव पर कोई कमेंट नहीं किया है। इसके लिए पाकिस्तान के कई पॉलिटिकल कमेंटेटर और एक्सपर्ट ने भारत की तारीफ की है। उन्होंने कहा कि जब पाकिस्तान पर दुनिया के कई देश सवाल उठा रहे हैं तो भारत ने इस मौके का फायदा ना उठाने का फैसला करते हुए चुप रहने का फैसला किया है जबकि अमेरिका जैसे हिमायती देश पाकिस्तान को कोस रहे हैं। पाकिस्तान के लोगों का कहना है कि चुनाव में जो हुआ, जो छुपा नहीं है लेकिन भारत ने इसे हमारा अंदरुनी मामला माना है, इसके लिए उनकी सराहना होनी चाहिए।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments