पंजाब में कांग्रेस को बड़ा झटका, तेजिंदर सिंह बिट्टू कांग्रेस छोड़ थामेंगे BJP का दामन एलन मस्क का भारत दौरा फिलहाल टला, 21-22 अप्रैल को आने वाले थे टेस्ला के सीईओ ओडिशा नाव हादसे में 4 की डूबकर मौत, रेस्क्यू टीमें 7 लापता लोगों की कर रहीं खोज आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह 10 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे बैतूल: ट्रक की टक्कर से पलटी सुरक्षाकर्मियों से भरी बस, चुनाव ड्यूटी करके लौट रहे थे जवान केरल में त्रिशूर पूरम उत्सव का जश्न, लोगों ने की आतिशबाजी पाकिस्तान को बड़ा झटका, अमेरिका ने बैलिस्टिक मिसाइल प्रोग्राम के लिए आपूर्ति करने वाली 4 कंपनियों पर लगाया प्रतिबंध पीएम नरेंद्र मोदी आज कर्नाटक के बेंगलुरु और चिक्काबल्लापुरा में करेंगे जनसभा को संबोधित अमेरिका के ग्रीनबेल्ट स्थित पार्क में गोलीबारी, हाईस्कूल के पांच छात्र घायल आज महाराष्ट्र में नांदेड़ और परभणी में पीएम मोदी की रैली, करेंगे जनसभा को संबोधित कांग्रेस नेता राहुल गांधी आज 20 अप्रैल को भागलपुर में करेंगे रैली प्रियंका गांधी आज 20 अप्रैल को करेंगी केरल का दौरा IPL 2024: लखनऊ ने घरेलू मैदान में चेन्नई को हराया पहले चरण में रात 9 बजे तक 62.37% वोटिंग, 102 सीटों पर हुआ चुनाव ईरान-इजरायल तनाव: ग्लोबल स्तर पर सोने की कीमतों में 1.5 फीसद का उछाल पश्चिम बंगाल: कूच बिहार के चंदामारी में मतदान केंद्र के सामने पथराव आज है विक्रम संवत् 2081 के चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि रात 10:41 बजे तक यानी शनिवार 20 अप्रेल 2024
शनिवार, 18 मार्च को  है पापमोचनी एकादशी.. जानें व्रत का समय, शुभ मुहूर्त पूजा विधि मंत्र और चैत्र एकादशी का अनुष्ठान

धर्म

शनिवार, 18 मार्च को है पापमोचनी एकादशी.. जानें व्रत का समय, शुभ मुहूर्त पूजा विधि मंत्र और चैत्र एकादशी का अनुष्ठान

धर्म//Rajasthan/Jaipur :

चैत्र मास की पहली एकादशी बेहद खास और भाग्यशाली है। हिंदू धर्म के अनुसार यह एकादशी हरि विष्णु को समर्पित है। चैत्र मास की पापमोचिनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु के चतुर्भुज स्वरूप की पूजा की जाती है। कहा जाता है कि इस व्रत को करने से जाने अनजाने में हुए पापों का नाश हो जाता है और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पापमोचन एकादशी को पापों से मुक्ति दिलाने वाला माना जाता है। आइए जानते हैं शुभ योग, व्रत का समय, तिथि, शुभ मुहूर्त ,पूजा विधि और मन्त्रों के बारे में : 

हिंदू कैलेंडर के अनुसार इस बार पापमोचनी एकादशी का व्रत 18 मार्च, 2023 दिन शनिवार को रखा जाएगा। इस बार पापमोचिनी एकादशी तिथि 17 मार्च को रात 2 बजकर 6 मिनट पर शुरू होगी और अगले दिन 18 मार्च को सुबह 11 बजकर 13 मिनट पर इसका समापन होगा।  ऐसे में  उदयातिथि के अनुसार, पापमोचनी एकादशी का व्रत 18 मार्च को रखा जाएगा.।

यह भी पढ़ें

अनजाने में किये गए पापों का नाश करती है पापमोचनी एकादशी, यहां पढ़ें पापमोचनी एकादशी की सम्पूर्ण व्रत कथा.. (newsthikana.com)

एकादशी तिथि प्रारम्भ - मार्च 17, 2023 को दोपहर  02:06 बजे से 
एकादशी तिथि समाप्त - मार्च 18, 2023 को सुबह 11:13 बजे तक 

19 मार्च को, पारण (व्रत तोड़ने का) समय - सुबह 06:27 से सुबह 08:07
पारण तिथि के दिन द्वादशी समाप्त होने का समय - सुबह 08:07

पापमोचनी एकादशी 2023: 
पद्म पुराण के अनुसार पद्मपुराण कहता है कि एकादशी को भगवान विष्णु का ही स्वरूप माना जाता है। माना जाता है कि इस दिन भगवान विष्णु की विधिवत पूजा करने के साथ व्रत रखने से व्यक्ति को हर तरह के पापों से मुक्ति मिल जाती है

इस तरह रखे पापमोचनी एकादशी का व्रत :

इस एकादशी पर निर्जलित या निष्फल व्रत रखें।
सुबह उठकर शुभ अवसर पर हल्दी, चंदन और तुलसी अर्पित करें।
इसके बाद ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नम: का जाप करें।

पापमोचनी एकादशी मंत्र (पापमोचनी एकादशी मंत्र)

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय
श्रीकृष्ण गोविंद हरे मुरारे। हे नाथ नारायण वासुदेवाय।
ॐ नारायणाय विद्महे। वासुदेवाय धिमाही। तन्नो विष्णु प्राचोद्यात..
ॐ विष्णवे नम:
ॐ हूँ विश्नावे नम:

(उपरोक्त जानकारी सामान्य संदर्भों से ली गई है। 'न्यूज़ठिकाना ' इस बारे में सुनिश्चित नहीं करता है।)

You can share this post!

author

सौम्या बी श्रीवास्तव

By News Thikhana

Comments

Leave Comments