ट्रेनी IAS पूजा खेडकर पर बड़ी कार्रवाई, UPSC ने दर्ज कराया केस NEET पेपर लीक केस: सॉल्वर बनने वाले सभी 4 स्टूडेंट्स को सस्पेंड करेगा पटना AIIMS माइक्रोसॉफ्ट सर्वर ठप: हैदराबाद एयरपोर्ट पर फ्लाइट्स के लिए इंडिगो स्टाफ ने हाथ से लिखे बोर्डिंग पास बिलकिस बानो केस: 2 दोषियों की अंतरिम जमानत याचिका पर विचार करने से SC का इनकार आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की चतुर्दशी तिथि सायं 05:59 बजे तकयानी शनिवार, 20 जुलाई 2024
कन्याकुमारी में पीएम की मौन साधना पूरी, जल्द लौटेंगे दिल्ली

धर्म

कन्याकुमारी में पीएम की मौन साधना पूरी, जल्द लौटेंगे दिल्ली

धर्म//Tamil Nadu/Chennai :

देश के प्रधानमंत्री अंतिम चरण का मतदान पूर्ण होते-होते दिल्ली लौट सकते हैं। वे गुरुवार शाम से देश के सबसे दक्षिणी छोर पर स्थित कन्याकुमारी के प्रसिद्ध विवेकानंद रॉक मेमोरियल में 45 घंटे की ध्यान साधना कर रहे थे। अब जानकारी मिली है कि पीएम मोदी की 45 घंटे की ध्यान साधना पूरी कर जल्दी ही वापस दिल्ली लौटने वाले हैं।

पीएम मोदी ने विवेकानंद रॉक मेमोरियल में सूर्योदय के समय ‘सूर्य अर्घ्य’ देने के बाद शनिवार को तीसरे और अंतिम दिन अपनी ध्यान साधना शुरू की थी। पीएम ने एक लोटे से समुद्र में सूर्य को जल अर्पित किया और माला जपी। उन्होंने भगवा वस्त्र पहने हुए थे। उन्होंने स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा पर पुष्पांजलि भी अर्पित की।

 पंजाब के होशियारपुर में चुनावी रैली को संबोधित करने के बाद पीएम मोदी हेलीकॉप्टर से सीधे कन्याकुमारी पहुंचे थे। यहां उन्होंने भगवती अम्मन मंदिर में पूजा-अर्चना की थी। उसके बाद वह नांव पर सवार होकर तट से करीब 500 मीटर दूर समुद्र में चट्टान पर स्थित विवेकानंद रॉक मेमोरियल पहुंचे। यहां उन्होंने अपने 45 घंटे का ध्यान शुरू किया था। उनकी ध्यान साधना आज पूरी हो गई है और अब वो वापस दिल्ली लोट रहे हैं।

ध्यान साधना का अंतिम दिन
ध्यान साधना के अंतिम दिन पीएम मोदी ने भगवा वस्त्र पहने हुए थे और उन्होंने स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा पर पुष्पांजलि भी अर्पित की। वह अपने हाथों में ‘जाप माला’ लेकर मंडपम के चारों ओर चक्कर लगाते दिखे। कन्याकुमारी सूर्योदय और सूर्यास्त के दृश्यों के लिए मशहूर है और मेमोरियल तट के पास एक छोटे-से टापू पर स्थित है।
विपक्ष ने साधा था निशाना
पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए तृणमूल कांग्रेस चीफ ममता बनर्जी ने कहा था कि कोई भी वहां जा सकता है और ध्यान कर सकता है। क्या कोई ध्यान करते समय कैमरा ले जा सकता है। वहीं अखिलेश यादव ने कहा था कि सुना है ध्यान लगाने जा रहे हैं। जहां पर विवेकानंदजी ने ध्यान लगाया था सुना है, पीएम मोदी वहीं ध्यान लगाने जा रहे हैं, लेकिन ध्यान लगाने की जरूरत तो 5-7साल पहले थी। कांग्रेस नेता दानिश अली ने कहा था कि चुनाव आयोग को कहना चाहिए कि मीडिया इसका लाइव प्रसारण न करें।

You can share this post!

author

News Thikana

By News Thikhana

News Thikana is the best Hindi News Channel of India. It covers National & International news related to politics, sports, technology bollywood & entertainment.

Comments

Leave Comments