CM केजरीवाल को कल गिरफ्तार कर सकती है CBI NDA के स्पीकर पद के उम्मीदवार ओम बिरला ने पीएम मोदी से मुलाकात की दिलेश्वर कामत जेडीयू संसदीय दल के नेता होंगे पूर्व फुटबॉलर बाइचुंग भूटिया ने राजनीति छोड़ी, सिक्किम चुनाव में हार के बाद फैसला घाटकोपर होर्डिंग केस: IPS कैसर खालिद सस्पेंड, उनकी इजाजत पर लगा था होर्डिंग पुणे पोर्श कांड: आरोपी नाबालिग को हिरासत से रिहा किया गया लोकसभा के 7 सांसदों ने नहीं ली शपथ, कल स्पीकर चुनाव में नहीं कर सकेंगे मतदान जगन मोहन रेड्डी की पार्टी स्पीकर चुनाव में NDA उम्मीदवार का समर्थन कर सकती है कल सुबह 11 बजे तक के लिए लोकसभा स्थगित स्पीकर चुनाव के लिए बीजेपी ने व्हिप जारी किया, सभी सांसदों को लोकसभा में रहना होगा मौजूद स्पीकर चुनाव: कांग्रेस का व्हिप जारी, कल सभी सांसदों को लोकसभा में मौजूद रहने को कहा आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के कृष्णपक्ष की पंचमी तिथि रात 08:54 बजे तक यानी बुधवार, 26 जून 2024 Jaipur: मैसर्स तंदूरवाला में कार्रवाई के दौरान पायी गयीं भारी अनियमितताएं..लाइसेंस, साफ़ सफाई सहित अन्य दस्तावेज मिले नदारद मायावती का भतीजे आकाश आनंद पर उमड़ा प्रेम, 47 दिन पुराने फैसले को पलट बनाया राष्ट्रीय संयोजक राजस्थान में आषाढ़ माह के चौथे दिन मेवाड़ में छाये बादल, मौसम विभाग भी बोला मानसून का हो गया प्रवेश
पराली जलाने के कारण होने वाले प्रदूषण की समस्या से निपटने को पंजाब और हरियाणा ने बनाई नीति

पराली जलाने के कारण होने वाले प्रदूषण की समस्या से निपटने को पंजाब और हरियाणा ने बनाई नीति

//Punjab/Chandigarh :

पराली की समस्या से निपटने के लिए पंजाब, हरियाणा ने तैयार की रणनीति, जानें पूरी प्लानिंग

पंजाब और हरियाणा के किसान द्वारा पराली जलाये जाने का विपरीत असर देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली पर पड़ता रहा है। यहां रहने वालों कई बार का सांस देना दूभर हो जाता है।  इन हालात के मद्देनजर पंजाब और हरियाणा की सरकारों ने सर्दियों से पहले पराली जलाये जाने की समस्या से निपटने के लिए व्यापक उपाय करने की योजना बनाई है।

पराली जलाने के कारण होने वाले प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए रणनीति तैयार करने के उद्देश्य से पंजाब के चार मंत्रियों ने सोमवार को विशेषज्ञों के साथ बैठक की। पंजाब के कृषि मंत्री कुलदीप सिंह धालीवाल, उच्च शिक्षा एवं पर्यावरण मंत्री गुरमीत सिंह मीत, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री अमन अरोड़ा और स्कूल शिक्षा मंत्री हरजोत बैंस ने एक व्यापक योजना तैयार की, जिसका क्रियान्वयन 27 सितंबर से ही शुरू हो जाएगा। इस योजना में किसानों को पराली जलाने के दुष्परिणाम और उसका प्रबंधन करने के संबंध में जागरूक किया जाएगा।

सरकार की ओर से बताया गया है कि पहले चरण में कॉलेज के छात्रों को पराली जलाने के दुष्प्रभावों के संबंध में विशेषज्ञों द्वारा प्रशिक्षित किया जाएगा। इसके बाद 28 सितंबर को पंजाब कृषि विश्वविद्यालय, लुधियाना और 29 सितंबर को गुरु नानक देव विश्वविद्यालय, अमृतसर में विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले विद्यार्थी पराली जलाने के हानिकारक प्रभावों के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए राज्य भर के गांवों का दौरा करेंगे।

इसी तरह हरियाणा सरकार ने भी पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए व्यापक योजना तैयार की है। राज्य के नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा विभाग ने इस उद्देश्य के लिए एक नीति तैयार की है जिस पर मुख्य सचिव संजीव कौशल की अध्यक्षता में हुई बैठक में विचार किया गया। कौशल ने कहा कि बैठक में लिये गये निर्णयों और सुझावों को मुख्यमंत्री द्वारा अनुमोदित कराया जाएगा।

You can share this post!

author

राकेश रंजन

By News Thikhana

Comments

Leave Comments