आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की द्वादशी तिथि रात 08:43 बजे तक तदुपरांत त्रयोदशी तिथि प्रारंभ यानी बुधवार, 18 जुलाई 2024
 कनाडा के 700 भारतीय छात्रों के भविष्य पर प्रश्नचिन्ह ... पीएम ट्रूडो ने कहा दोषियों का पता लगाएगी सरकार

कनाडा में छात्रों का प्रदर्शन

एजुकेशन, जॉब्स और करियर

कनाडा के 700 भारतीय छात्रों के भविष्य पर प्रश्नचिन्ह ... पीएम ट्रूडो ने कहा दोषियों का पता लगाएगी सरकार

एजुकेशन, जॉब्स और करियर/// :

प्रधानमंत्री ट्रूडो ने संकट में फंसे भारतीय छात्रों को आश्वासन दिया है कि सरकार हर मामले का मूल्यांकन करेगी। सरकार का पूरा फोकस मामले में दोषियों का पता लगाने और उन्हें सजा दिलाने पर है।कनाडा में भारतीय छात्रों को वर्तमान में निर्वासन का खतरा है। एजुकेशन वीजा पर कनाडा पहुंचे करीब 700 भारतीय छात्रों के ऑफर लेटर फर्जी पाए गए हैं। पूरी घटना तब सामने आई जब इन छात्रों ने कनाडा में स्थायी निवास के लिए आवेदन किया। अब इस मामले में कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो का बयान सामने आया है।प्रधानमंत्री ट्रूडो ने संकट में फंसे भारतीय छात्रों को आश्वासन दिया है कि सरकार हर मामले का मूल्यांकन करेगी। सरकार का पूरा फोकस मामले में दोषियों का पता लगाने और उन्हें सजा दिलाने पर है।

ट्रूडो ने कहा, 'हमें पता चला है कि कॉलेज के फर्जी पत्रों के कारण कुछ अंतरराष्ट्रीय छात्रों को निर्वासन का सामना करना पड़ रहा है। मैं यह स्पष्ट कर दूं कि हमारा पूरा ध्यान इस मामले में दोषियों की पहचान करने पर है न कि छात्रों को सजा देने पर। नकल का सामना कर रहे छात्रों के पास अपने पक्ष में सबूत दिखाने और पेश करने का अवसर है। हमारा मानना है कि अंतरराष्ट्रीय छात्र हमारे देश में बहुत योगदान देते हैं और हम उन छात्रों का समर्थन करेंगे जो इस धोखाधड़ी के शिकार हैं।

कनाडा में छात्रों का प्रदर्शन
कनाडा पहुंचने के बाद धोखाधड़ी का एहसास होने पर छात्र डिपोर्टेशन के इस फैसले के खिलाफ सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इनमें से ज्यादातर छात्र पंजाब के हैं। इन छात्रों का कहना है कि इमिग्रेशन काउंसलिंग एजेंसी ने उनके साथ धोखा किया है। इन छात्रों को फर्जी ऑफर लेटर के कारण प्रवेश से वंचित कर दिया गया था और कनाडा सरकार ने उन्हें निर्वासित करने का फैसला किया था।

छात्रों को क्यों निर्वासित किया जा रहा है?
कनाडा पहुंचे करीब 700 छात्रों के ऑफर लेटर फर्जी पाए गए। यह मामला मार्च में सामने आया जब इन छात्रों ने कनाडा में स्थायी निवास के लिए आवेदन किया। सरकार ने फर्जी ऑफर लेटर से दाखिला पाने वाले छात्रों को निर्वासित करने का फैसला किया है।

विदेश मंत्री जयशंकर ने क्या कहा?
पंजाब के एनआरआई मामलों के मंत्री कुलदीप सिंह धालीवाल ने विदेश मंत्री एस जयशंकर से इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग की। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा है कि नेक इरादे से काम करने वाले छात्रों को दंडित करना अनुचित है। जो लोग वास्तव में दोषी हैं, उन्हें इस मामले में जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए। कनाडाई सरकार यह भी स्वीकार करती है कि अगर छात्र ने कुछ भी गलत नहीं किया है तो यह कदम अन्यायपूर्ण होगा। यदि किसी छात्र ने कोई गलती नहीं की है तो उसे समाधान खोजना होगा। मैं उम्मीद करता हूं कि कनाडाई प्रणाली इस संबंध में निष्पक्ष होगी।

You can share this post!

author

सौम्या बी श्रीवास्तव

By News Thikhana

Comments

Leave Comments