राजस्थान: लोकसभा चुनाव से पहले फिर भड़क रही आरक्षण की चिंगारी

राजनीति

राजस्थान: लोकसभा चुनाव से पहले फिर भड़क रही आरक्षण की चिंगारी

राजनीति//Rajasthan/Jaipur :

लोकसभा चुनाव से पहले राजस्थान में भाजपा के सामने आरक्षण की चुनौती है। ईडबल्यूएस आरक्षण को लेकर शनिवार को राजधानी जयपुर में विभिन्न संगठनों की बैठक में ईडबल्यूएस में दिए जा रहे 10 प्रतिशत आरक्षण की विसंगतियां को दूर करने के लिए मांग की गई।

शनिवार को राजधानी जयपुर में विभिन्न राजपूत संगठनों के द्वारा आयोजित बैठक में ईडब्ल्यूएस 10 फीसदी की केंद्र सरकार की विसंगतियां को दूर करने के लिए मांग की गई। सभा में सर्व ब्राह्मण सभा, अग्रवाल सभा समेत कई सवर्ण जातियों के संगठन के पदाधिकारी मौजूद रहे।
राजपूत समाज के संगठन के द्वारा राजस्थान की वर्तमान सरकार और केंद्र सरकार को साफ तौर पर कहा है कि यदि हमारी मांगों को संज्ञान में नहीं लाया गया तो इसका खामियाजा आगामी लोकसभा चुनाव में देखने को मिलेगा। ईडब्ल्यूएस से संबंधित सभी वर्गों के संगठन द्वारा एक समिति का गठन किया गया, जिसके तहत इसके प्रतिनिधिमंडल प्रधानमंत्री और राजस्थान के मुख्यमंत्री एवं राजस्थान के केंद्रीय मंत्रियों को पत्र लिखकर ज्ञापन दिया जाएगा।
ये प्रस्ताव रखे
हाल ही हुए में सुखदेव सिंह गोगामेड़ी प्रकरण और बैंक ऑफ बड़ौदा बैंक लूट कांड में घायल हुए नरेंद्र सिंह शेखावत दोनों के परिवारों को आर्थिक मदद एवं सरकारी नौकरी देने की मांगों को धरातल पर क्रियान्वयन हेतु मुख्यमंत्री भजन लाल शर्मा से मांग की है। राजपूत संगठनों की बैठक के दौरान केंद्र सरकार के ईडब्ल्यूएस 10 फीसदी में संपत्ति संबंधित संशोधन के संबंध में मुख्यमंत्री राजस्थान संज्ञान लेते हुए केंद्र सरकार को ईडब्ल्यूएस 10 फीसदी में संशोधन के लिए पत्र लिख कर सहयोग करने की मांग रखी है।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments