राम मंदिर चर्चाः जब सांसद प्रताप सारंगी ने संसद में सुनाई अद्भुत रामायण

राजनीति

राम मंदिर चर्चाः जब सांसद प्रताप सारंगी ने संसद में सुनाई अद्भुत रामायण

राजनीति//Delhi/New Delhi :

संसद में राम मंदिर पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा हुई। इस दौरान ओडिशा के बालासोर से सांसद प्रताप चंद्र सांरगी ने सदन में अपनी बात रखी। सारंगी ने अयोध्या में राम मंदिर के इतिहास से लेकर राम की शासन पद्धति से लेकर युद्ध कौशल और शौर्य का जिक्र किया। उन्होंने पीएम मोदी की तुलना प्रभु श्रीराम से भी की।

लोकसभा में शुक्रवार को राम मंदिर के ऐतिहासिक निर्माण और रामलला की प्राण प्रतिष्ठा पर चर्चा शुरू हुई। मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के आखिरी बजट सत्र के आखिरी दिन राम मंदिर पर नियम 193 के तहत लोकसभा में यह विशेष की शुरुआत हुई। चर्चा के दौरान ओडिशा से बालासोर से बीजेपी का सांसद प्रताप चंद्र सारंगी ने भी अपनी बात रखी। बीजेपी सांसद ने इस दौरान रामायण को अनोखे अंदाज में पेश किया। उन्होंने रामायण के घटनाओं की तुलना मौजूदा समय से की। बीजेपी सांसद ने पीएम मोदी की तुलना भगवान श्रीराम से की।
बीजेपी सांसद ने कहा कि रावण का आतंकी संगठन था। ताड़का, मारीच और सुबाहु थे। वो लोग हजारों की संख्या में राक्षसी सेना के साथ समाज में गुरिल्ला युद्ध करते थे। उन लोगों ने आतंकवाद मचा रखा था। वे लोग ऋषियों के हवन कुंड को तबाह कर देते थे। सामान्य जनता पर अत्याचार करते थे। सनातन मूल्यों को खत्म करने में लगे थे। इसे मौजूदा समय से जोड़ते हुए उन्होंने कहा कि कुछ लोग भयंकर भ्रम पैदा करने में लगे हैं। इसमें हिंदू-मुस्लिम का कोई विवाद नहीं है। इसमें उत्तर भारत-दक्षिण भारत का कोई विवाद नहीं है। वे ऐसा क्यों करते हैं क्योंकि उनका धर्म पिता अंग्रेज, जिन्होंने इस देश पर शासन करने के लिए किया था। उत्तर भारत में तुम आर्य हो, दक्षिण भारत में तुम द्रविड हो।
प्रताप सांरगी ने कहा कि श्रीराम का जन्म ही रावण का वध करने के लिए हुआ था। उस समय कई बाली, सह्रसार्जुन, भगवान परशुराम, अंगद जैसे कई योद्धा थे। रावण उनके सामने कुछ नहीं था। ऐसे में भगवान राम की क्या आवश्यकता थी। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में पीएम मोदी ने ना खाऊंगा, ना खाने दो की बात कही है। इसको जानकर कुछ लोग चकित हो गए। उनका जीवन त्राहि-त्राहि हुआ। वो कहते थे हम भी खाएंगे, कर्मियों को खिलाएंगे, जनता को लूटेंगे। सारंगी ने कहा कि श्रीराम ने वानर, भल्ल, भील, किरात समाज के उपेक्षित वर्ग को सम्मान दिया। अहिल्या से शबरी तक का उद्धार किया। उन्होंने आचरण में आदर्श को प्रदर्शित किया।
पीएम मोदी की भगवान से तुलना
लासोर से सांसद प्रताप सांरगी ने संसद में चीन युद्ध का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी अब चीन को उसी की भाषा में जवाब देते हैं। सारंगी ने भगवान राम से जुड़ी पंक्तियों का जिक्र करते हुए कहा कि जब राष्ट्र पर आघात आता है तो प्रभु प्रलय का शक्ति प्रदर्शित करते हैं। मान्यवर नरेंद्र मोदी भाईचारे का संदेश देने वाले भी यदि राष्ट्र की एक सीमा पर भी स्पर्श करने पर प्रलय करने वाला ताकत रखते हैं। उन्होंने कहा कि प्रभु श्रीराम अयोध्या से कोई सेना लेकर नहीं गए थे। आतंकवाद का दमन करने के लिए बुलेटप्रूफ कार में नहीं गए। उन्होंने जंगल में अत्याचारी, वनवासी के मूल शक्ति को जगाया और वनवासियों की शक्ति से सहारे रावण सहित तमाम आसुरी शक्तियों को खत्म कर दिया। सारंगी ने कहा कि अयोध्या में रामचंद्र के पुत्र कुश ने मंदिर बनवाया था।
श्रीराम के चरित्र का वर्णन
इससे पहले बीजेपी सांसद ने कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम राम को आज कुछ लोग राजनीति के कठघरे में बंदी करने का दुष्प्रयास करते हैं परन्तु यह संभव नहीं होगा। इस देश में नस-नस में राम विराजमान करते हैं। उन्होंने कहा कि पूरे विश्व में भगवान श्रीराम सर्वोच्च चरित्र वाले हैं। आदर्शपुत्र, आदर्श भ्राता, आदर्श प्रजानुरंजक राजा, कुशल समाज संगठक और आदर्श तत्वेत्ता के रूप में श्रीराम एक अद्भुत आदर्श प्रतिष्ठा रखी। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीराम सम्राज्यवादी नहीं थी। लंका जीतने के बाद भी उसे अपने साम्राज्य में नहीं मिलाया बल्कि विभीषण को दे दिया। यह अतुलनीय है। उन्होंने कहा कि कुछ लोग कहते हैं कि श्रीराम के जन्म स्थान पर शौचालय बना दिया जाए।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments