ध्य प्रदेश के चर्चित जस्टिस रोहित आर्य ने भाजपा का दामन थामा प्रशिक्षु आईएएस पूजा खेडकर के विरुद्ध सख्ती, ट्रेनिंग रद्द कर वापस भेजा गया मसूरी अकादमी..! बदले में पूजा ने पुणे डीएम पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप हरभजन, युवराज सिंह और रैना मुश्किल में, पैरा एथलीट्स का उड़ाया था मजाक..FIR दर्ज आज है विक्रम संवत् 2081 के आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की दशमी तिथि रात 08:33 बजे तक तदुपरांत एकादशी तिथि प्रारंभ यानी मंगलवार, 16 जुलाई 2024
राम मंदिर, आर्टिकल 370....फिर भी भाजपा का ये हाल! वो 7 फैक्टर जिनसे लगा झटका

राजनीति

राम मंदिर, आर्टिकल 370....फिर भी भाजपा का ये हाल! वो 7 फैक्टर जिनसे लगा झटका

राजनीति//Delhi/New Delhi :

लोकसभा चुनाव में सत्ताधारी एनडीए को बहुमत मिल गया लेकिन बीजेपी अपने दम पर बहुमत से दूर रह गई है। आखिर बीजेपी की सीटों में गिरावट की क्या वजह हैं।

लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ‘अबकी बार 400 पार’ का नारा धराशायी हो चुका है। बस गनीमत ये रही कि 20 साल बाद बीजेपी और एनडीए के लिए ‘फील गुड’ और ‘इंडिया शाइनिंग’ होते-होेते बच गया। इस बार बीजेपी 272 के जादूई आंकड़े से कम से कम 30-35 वोट पीछे रह गई है। ये तब है जब अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण का बीजेपी का अजेंडा पूरा हो चुका है। जब आर्टिकल 370 के तहत जम्मू-कश्मीर को मिले विशेष दर्जे को खत्म करने का बीजेपी का वादा पूरा हो चुका है। 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले पीएम जवाहर लाल नेहरू के बाद लगातार तीसरी बार सत्ता में आने का करिश्मा कर चुके हैं लेकिन इस बार गठबंधन की बैसाखी के सहारे। बीजेपी के पूर्ण बहुमत से चूकने के बाद उन्हें जेडीयू चीफ नीतीश कुमार और टीडीपी मुखिया चंद्रबाबू नायडू के रहमोकरम पर रहना होगा। बार-बार गठबंधन बदलने की वजह से ‘पलटू चाचा’ के नाम से बदनाम हो चुके नीतीश की पार्टी जोर देकर कह रही है कि वह एनडीए छोड़ कहीं नहीं जाएगी लेकिन उन्हें लेकर चर्चाएं चल निकली हैं। इंडिया गठबंधन की तरफ से नीतीश कुमार को डेप्युटी पीएम पद ऑफर किए जाने की भी चर्चाएं चल रही हैं। नायडू को लुभाने की भी कोशिशें चल रही हैं। तो आखिर वे क्या कारण रहे जो बीजेपी के खिलाफ गए ।
अति आत्मविश्वास!
बीजेपी को झटके की एक बड़ी वजह अति आत्मविश्वास को कहा जा सकता है। ऐसा लग रहा ‘अबकी बार 400 पार’ का नारा बैकफायर कर गया। राम मंदिर निर्माण के बाद बने माहौल और मोदी सरकार के खिलाफ जनता में नाराजगी का कोई निशान नहीं दिखने की वजह से बीजेपी अति आत्मविश्वास का शिकार हो गई। ठीक वैसे ही जैसे 2004 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के वक्त ‘फील गुड’ और ‘इंडिया शाइनिंग’ के तौर पर अति आत्मविश्वास से झटका लगा था। इस बार यूपी, राजस्थान, हरियाणा और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में उसे नुकसान हुआ। बीजेपी इस बार प्रचंड जीत को लेकर इतना आश्वस्त थी कि इस बार चुनाव से पहले किसी भी तबके को फायदे वाली किसी स्कीम का भी ऐलान नहीं किया। जमीन पर 10 साल का सत्ताविरोधी रुझान भी रहा, जिसे भांपने में पार्टी नाकाम रही।
राम मंदिर मुद्दे का नहीं मिला फायदा
यूपी के अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के बाद ये पहला लोकसभा चुनाव था। सदियों के इंतजार के बाद मंदिर निर्माण का सपना पूरा हुआ। परिणामों को देखकर लग रहा है कि राम मंदिर निर्माण का बीजेपी को फायदा नहीं पहुंचा। यहां तक कि जिस फैजाबाद लोकसभा सीट के तहत अयोध्या आती है, वहीं से बीजेपी का उम्मीदवार हार गया। ऐसा लगता है कि पिछली बार बीजेपी को वोट देने वाले एक ठीक-ठाक हिस्से को राम मंदिर निर्माण से खुशी तो थी, लेकिन अन्य वजहों से पार्टी से नाराजगी ज्यादा थी।
‘आरक्षण, संविधान खतरे में’ का विपक्षी नैरेटिव
विपक्ष ने ‘आरक्षण खत्म होने’, ‘संविधान खत्म होने’ का डर दिखाया। इंडिया गठबंधन की तरफ से बार-बार कहा गया कि अगर बीजेपी फिर सत्ता में आती है तो तानाशाही आ जाएगी। ‘आरक्षण खत्म’ हो जाएगा। ‘संविधान खत्म’ हो जाएगा। बीजेपी इसलिए 400 से ज्यादा सीटें चाहती है ताकि वह संविधान बदल सके। आरक्षण को खत्म कर सके। राहुल गांधी हों या अखिलेश यादव या गठबंधन को कोई और बड़ा नेता, अपने-अपने मंचों से लगातार ये बात कहते रहे। बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विपक्ष के इस नैरेटिव को तोड़ने में पूरी तरह कामयाब नहीं हो पाए।
बीजेपी का पसमांदा कार्ड फेल
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने दूसरे कार्यकाल के बाद से ही मुस्लिमों को बीजेपी की तरफ आकर्षित करने की हर मुमकिन कोशिश करते रहे। मोदी सरकार की तरफ से चलाई जा रहीं वेलफेयर स्कीम्स का सबसे ज्यादा फायदा मुस्लिमों को मिला, जिसका खुद बीजेपी के नेताओं ने भी खूब प्रचार किया। पसमांदा मुस्लिमों को लुभाने के लिए विशेष अभियान चलाया लेकिन बीजेपी का ये कार्ड बुरी तरह फ्लॉप रहा है, खासकर यूपी में। एसपी-कांग्रेस गठबंधन ने इस बार जबरदस्त प्रदर्शन किया है। इस प्रदर्शन के पीछे मुस्लिम वोटों का इंडिया गठबंधन के पक्ष में एकतरफा वोटिंग है।
यूपी के ‘दो लड़कों की जोड़ी’ इस बार सुपरहिट
यूपी में इस बार ‘दो लड़कों की जोड़ी’ (राहुल गांधी, अखिलेश यादव) सुपरहिट रही है। 2017 के विधानसभा चुनाव में जोड़ी फ्लॉप हो गई थी। इस बार ऐसा नहीं हुआ। इस जोड़ी ने यूपी में साथ-साथ प्रचार किया। महिलाओं को सालाना 1 लाख रुपये देने और ‘खटाखट-खटाखट’ गरीबी मिटाने जैसे दावे किए गए। जनता को ‘संविधान खत्म’ होने, ‘आरक्षण खतरे’ में होने और ‘तानाशाही’ आ जाने जैसे डर दिखाए गए। ‘बीजेपी हटाओ, देश बचाओ’ के नारे दिए गए, जिसका वोटर पर असर पड़ा और बीजेपी की सीटें पिछली बार से घटती दिख रहीं।
अग्निपथ स्कीम, बार-बार पेपर लीक से नाराजगी!
बीजेपी के प्रदर्शन में गिरावट की एक बड़ी वजह सियासी लिहाज से सबसे बड़े सूबे यूपी में उसका उम्मीद से कमतर प्रदर्शन है। राहुल गांधी ने अग्निवीर वाली अग्निपथ स्कीम को बड़ा मुद्दा बनाया। वादा किया कि सत्ता में आते ही इस स्कीम को खत्म कर देंगे। यूपी में राहुल और अखिलेश ने बार-बार हो रहे पेपर लीक और बेरोजगारी को बड़ा मुद्दा बनाते हुए युवाओं की नाराजगी को भुनाने की भरपूर कोशिश की। यूपी में बीजेपी के निराशाजनक प्रदर्शन के पीछे ये भी एक बड़ा कारण हो सकता है।
सिर्फ मोदी के नाम पर ही नहीं जीत सकते!
चुनाव नतीजे और रुझानों में बीजेपी के लिए एक बड़ा संदेश छिपा है कि सिर्फ नरेंद्र मोदी के नाम पर चुनाव नहीं जीता जा सकता। ‘ब्रैंड मोदी’ की चमक फीकी पड़ी है। ‘मोदी मैजिक’ धुंधला हुआ है। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी सीट वाराणसी पर पिछली बार के मुकाबले काफी कम अंतर से चुनाव जीत पाए हैं। लोकल स्तर पर उम्मीदवारों के खिलाफ जनता में नाराजगी शायद बीजेपी को भारी पड़ी है। स्थानीय स्तर पर सांसदों के प्रति जनता की नाराजगी को कम करने के लिए बीजेपी ने कई सिटिंग एमपी के टिकट जरूर काटे लेकिन बड़ी तादाद में दलबदलुओं को भी टिकट दिया। बीजेपी का हर चैथा उम्मीदवार दलबदलू था। शायद पार्टी को ये महंगा पड़ा।

You can share this post!

author

Jyoti Bala

By News Thikhana

Senior Sub Editor

Comments

Leave Comments